scriptScientist study revealed, Ancestors height decreased by farming | वैज्ञानिकों ने किया हैरान करने वाला खुलासा, खेती की वजह से घट गया इंसान का कद | Patrika News

वैज्ञानिकों ने किया हैरान करने वाला खुलासा, खेती की वजह से घट गया इंसान का कद

माना जाता है कि आज से हजारों साल पहले इंसानों की लंबाई आज के मुकाबले अधिक हुआ करती थी। इस सवाल का जवाब ढूंढने के लिए वैज्ञानिको की टीम ने एक रिसर्च किया।

नई दिल्ली

Published: April 16, 2022 08:31:28 pm

क्या आपने कभी इस बात पर विचार करने की कोशिश है कि पहले की अपेक्षा आज के वक्त में आदमियों की औसतन लंबाई काफी कम है। लेकिन ऐसा क्यों है और इसका कारण क्या है? इसका पता लगाने की कोशिश शायद ही किसी ने की होग, लेकिन इस पर रिसर्च कर रही वैज्ञानिकों की एक टीम ने पाया है कि इसके पीछे मुख्य वजह हमारे पूर्वजों द्वारा खेती करना है।
वैज्ञानिकों ने किया हैरान करने वाला खुलासा, खेती की वजह से घट गया इंसान का कद
वैज्ञानिकों ने किया हैरान करने वाला खुलासा, खेती की वजह से घट गया इंसान का कद
हजारों साल पहले आदमियों की औसत लंबाई आज के मुकाबले अधिक थी, इस सवाल का जवाब ढूंढने के लिए वैज्ञानिकों की टीम ने एक रिसर्च किया। इसमें पता चला कि आज से 12 हजार साल पहले आदमियों की लंबाई वर्तमान की तुलना में अधिक थी। 'डेली मेल' की रिपोर्ट के मुताबिक, रिसर्च टीम ने जब यूरोप में 167 प्राचीन लोगों के कंकाल के DNA का विश्लेषण किया है तो पता चला कि खेती करने की वजह से लोगों की लंबाई 1.5 इंच कम हो गई थी।
दरअसल, 12 हजार साल पहले यूरोप में खेती की शुरुआत हुई थी। वहीं खेती से पहले इंसान शिकार आदि करके जीवन यापन करता था। ऐसे में जब इंसानों ने अपनी जीवन शैली को फसलों की ओर किया तो लंबाई पर इसका असर हुआ। विशेषज्ञों का कहना है कि कम कद खराब स्वास्थ्य का प्रतीक है। इससे ये पता चलता है कि उस समय इंसानों को उचित विकास के लिए पर्याप्त पोषण नहीं मिले।
इस नए रिसर्च का नेतृत्व पेंसिल्वेनिया के स्टेट कॉलेज में पेन स्टेट यूनिवर्सिटी के मानव विज्ञान विभाग में असिस्टेंटट प्रोफेसर स्टेफनी मार्सिनियाक ने किया था। प्रोफेसर मार्सिनियाक का कहना है कि उनके रिसर्च में प्राचीन व्यक्तियों की हड्डियों को मापने के साथ जेनेटिक योगदान भी शामिल था।
अपनी इस रिसर्च में इन वैज्ञानिकों ने पाया कि खेती से पहले इंसान शिकार किया करते थे और शिकार करके ही अपना जीवनयापन करते थे। लेकिन जब उन्होंने अपनी जीवनशैली को फसलों की ओर स्विच किया तो उनकी लंबाई में धीरे-धीरे फर्क आने लगा। यानी कि लंबाई का घटना उनके खराब स्वास्थ्य का प्रतीक माना जा सकता है। इससे पता चलता है कि शिकार से खेती की तरफ अपना रूख बदलने से उस समय इंसानों को उचित विकास के लिए पर्याप्त पोषण नहीं पा रहा था।
साथ ही प्रोफेसर स्टेफनी मार्सिनियाक ने बताया कि कृषि जीवन शैली में परिवर्तन पूरे यूरोप एक साथ नहीं हुआ, बल्कि अलग-अलग स्थानों पर अलग-अलग समय पर हुआ। इस रिसर्च में जिन 167 मानव कंकालों का अध्ययन किया गया था, वे सभी यूरोप के आसपास पाए गए थे, जिनमें से 67 महिलाएं और 100 पुरुष कंकाल थे, जो करीब 38 हजार से 2,400 साल पहले जीवित थे।

यह भी पढ़ें

30 अफगान नागरिकों की पाकिस्तानी सेना के हवाई हमले में मौत

ये कंकाल ब्रिटेन, जर्मनी, हंगरी, रोमानिया, स्पेन, पोलैंड, लिथुआनिया, लातविया, चेक गणराज्य, क्रोएशिया, इटली, फ्रांस, आयरलैंड, स्कॉटलैंड, बुल्गारिया और नीदरलैंड आदि में पाए गए। शोधकर्ताओं ने पाया कि पहले जहां इंसानों की लंबाई में 0.87 इंच का फर्क था। वहीं, बाद में यह औसत लंबाई 1.5 इंच कम हो गई।
तो वहीं इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका के अनुसार, ग्रीस में खेती से इंसान की लंबाई में प्रभाव पड़ना, लगभग 9 हजार साल पहले शुरू हुआ। वहीं, ब्रिटेन में भी अगले 2 हजार वर्षों तक इंसान की लंबाई प्रभावित नहीं हुई थी। रिसर्च में ये भी सामने आय़ा है कि इंसानों की लंबाई 80 प्रतिशत तक आनुवांशिक होती है जबकि पर्यावरण के कारण इसमें 20 प्रतिशत का बदलाव आता है। हालांकि ये रिसर्च केवल यूरोप के प्राचीन कंकालों पर की गई है। जिसके चलते भारतीय लोगों की लंबाई पर कृषि का कितना प्रभाव पड़ा है ये नहीं कहा जा सकता है।

यह भी पढ़ें

रूसी सैनिक और उसकी पत्नी की हुई पहचान, सैनिक ने मांगी थी अपनी पत्नी से यूक्रेनी महिला के साथ रेप करने की इजाजत

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

दिल्ली हाई कोर्ट से AAP सरकार को झटका, डोर स्टेप राशन डिलीवरी योजना पर लगाई रोकसुप्रीम कोर्ट का फैसला: रोड रेज केस में Navjot Singh Sidhu को एक साल जेल की सजा, जानें कांग्रेस नेता ने क्या दी प्रतिक्रियाGST पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, जीएसटी काउंसिल की सिफारिश मानने के लिए बाध्य नहीं सरकारेंपंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ BJP में शामिल, दिल्ली में जेपी नड्डा ने दिलाई पार्टी की सदस्यताअलगाववादी नेता यासीन मलिक आतंकवाद से जुड़े मामले में दोषी करार, 25 मई को होगी अगली सुनवाईPalm Oil Export Ban : पाम आयल एक्सपोर्ट पर से बैन हटाने जा रहा इंडोनेशिया, अब भारत में खाद्य तेल सस्ते होने की उम्मीद'माता-पिता भारतीय नागरिकता भलें छोड़ दें, गर्भ में मौजूद बच्चे को नागरिकता वापस पाने का हक' - मद्रास हाईकोर्टज्ञानवापी मस्जिद-श्रृंगार गौरी विवाद : वाराणसी कोर्ट की कार्रवाई पर सुप्रीम कोर्ट की रोक, शुक्रवार को होगी सुनवाई
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.