शादी के 10 साल बाद फिर एक दूसरे के हुए पति-पत्नी, इस तरह हुई दोनों की मुलाकात

बॉलीवुड फिल्म ‘आप तो ऐसे ना थे’ का यह गीत तू इस तरह से मेरी जिंदगी में शामिल है.. जहां भी जाऊ तो ये लगता है तेरी महफिल है... जिले के दो दंपती पर खूब बैठता है।

By: Vinod Chauhan

Updated: 10 Mar 2019, 05:05 PM IST

सीकर।

बॉलीवुड फिल्म ‘आप तो ऐसे ना थे’ का यह गीत तू इस तरह से मेरी जिंदगी में शामिल है.. जहां भी जाऊ तो ये लगता है तेरी महफिल है... जिले के दो दंपती पर खूब बैठता है। शनिवार को लोक अदालत की समझाइस के बाद दो दंपती का घर बिखरने से बच गया। अदालत के दखल से दोनों दंपती फिर से एक बार साथ रहने को राजी हो गए।

नीमकाथाना.वर्षों से एक दूसरे से बिछड़ रहे पति पत्नी लगातार कोर्ट के चक्कर काटने के बाद शनिवार को एडीजे कोर्ट में अखिर फिर दोनों एक हुए है। वर्षों बाद दोनों के घरों में फिर से बहार आ गई। जानकारी के अनुसार अभय कॉलोनी निवासी गुडिय़ा उर्फ सीमा की गुहाला निवासी रमाकांत योगी से वर्ष 2008 में शादी हुई। शादी के बाद सब कुछ सही चल रहा था कि वर्ष 2013 में अचानक मनमुटाव के चलते तुफान सा आ गया। उसके बाद दोनों अलग-अलग रहने लग गए। मामला कोर्ट में पहुंच गया। शनिवार को नीमकाथाना एडीजे गोविंद वल्लभ ने दंपती को समझाकर आपस में मिलवा दिया।

दांतारामगढ़. दांतारामगढ़ के अतिरिक्त मुख्य न्यायालय में शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत में 32 प्रकरणों का आपसी सहमति से निस्तारण किया गया। जिसमें एक वैवाहिक प्रकरण का भी निस्तारण करते हुए पति पत्नी के बीच सुलह करवाई गई। दंपती के बीच काफी समय से न्यायालय में प्रकरण चल रहा था। अतिरिक्त मुख्य नए मजिस्ट्रेट अनुतोष गुप्ता ने अधिवक्ताओं की सहमति से दोनों पति-पत्नी के बीच सुलह करवाई गई। इसके अलावा रियल इंटीग्रेशन रियल प्रिलिटिगेशन के चार प्रकरणों 65000 का अवार्ड भी पारित किया गया। इस मौके पर विभिन्न बैंकों की अधिकारी न्यायालय के कर्मचारी अधिवक्ता गण मौजूद थे।

Vinod Chauhan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned