आजादी के बाद भी पानी को तरसते जिला पार के गांव, यहां भी यही हाल

आजादी के बाद भी पानी को तरसते जिला पार के गांव, यहां भी यही हाल

By: Vinod Chauhan

Published: 18 Dec 2018, 05:20 PM IST


पांच सौ गांवो में मात्र २४ में सरकार की पेयजल व्यवस्था
पचलंगी. सरकारंे आती जाती हंै, लेकिन आम जन से किए वाद जीत के बाद भूल जाते हैं। लोगों को मूलभूत सुविधाओं से भी अभी पहाड़ी क्षेत्र के गांव कोसों दूर हैं। उदयपुरवाटी उपखंड के कई गांवों में पीने के का आज भी इंतजार है। वहीं लोगों को नई सरकार से उम्मीद है की नासूर बनी समस्या का सही समाधान होगा। इधर सीकर में पानी के लिए लोग परेशान हो रहे हैं।
ग्रामीण मनु सिंह तंवर,राजेश मीणा जोधपुरा, ज्ञानचन्द बड़सरा, शक्ति सिंह बागोली, गुलाबी देवी जागिड़, राकेश मीणा, मुकेश जोशी का कहना है कि पचलंगी, जोधपुरा, नांगल, पापड़ा, मणकसास, बागोली सहित गांवों में सरकार की पेयजल व्यवस्था है।
सरकार बिल भेजती है, लेकिन जलदाय विभाग की पेयजल सप्लाई योजना के माध्यम से पीने का पानी महीने में १० दिन ही मिलता है।
जहाज, सराय, सुरपुरा, झड़ायानगर, हरिपुरा सहित गांवों व राजस्व गांवों में आजादी के बाद भी जुगाड़ से चल रही है पीने के पानी की व्यवस्था जलदाय विभाग के रिकार्ड के अनुसार उदयपुरवाटी उपखण्ड में नगरपालिका सहित २४ गांवों में ही सरकार की पेयजल व्यवस्था है। बाकी पंचायत के द्वारा यहां पानी की व्यवस्था है, लेकिन हैडपंप व बोरिंग बेकार पड़ी है।
सीकर से लाना पड़ता है पीने का पानी
जहां सरकारें विकास के दावे करती है, वहीं पापड़ा के राजस्व गंाव कैरोठ, सराय, झडय़ानगर के लोगों को चला, गुहाला, सिरोही सहित सीकर के गांवों से लाना पड़ता है। पीने का पानी वही लोगो को इस सर्दी में भी टैंकर मंगवाने पड़ते जो आमजन के बजट के बहार है।
&विभाग द्वारा नगरपालिका सहित उदयपुरवाटी, गुढ़ा व गुड़ा कार्यालयों में आने वाले २४ गांवो में सरकार की पेयजल व्यवस्था है बाकी जगह पंचायत के माध्यम से पेयजल व्यवस्था चल रही है कहीं सूखा व कही जल स्तर नीचे जाने के कारण पेयजल समस्या बनी हुई है।
अनिरूद्ध स्वामी, कनिष्ठ अभियंता जलदाया विभाग,उदयपुरवाटी

Vinod Chauhan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned