हे भगवान ये अस्पताल हैं या कचरा घर?????

हे भगवान ये अस्पताल हैं या कचरा घर?????

Vinod Singh Chouhan | Publish: Apr, 23 2019 05:26:53 PM (IST) Sikar, Sikar, Rajasthan, India


खराब जनरेटर, मरीजों के बेड पर गंदी चादर और अव्यवस्थाओं का आलम

 


अधिकारियों ने किया सात अस्पतालों का निरीक्षण में खुली पोल

सीकर/रींगस. चिकित्सा व्यवस्थाआें के लिए मिसाल रैंक में अव्वल रहने वाले सीकर जिले में सेवाओं की स्थिति की पोल सोमवार को खुल गई। साफ सफाई, मरीजों की जाने वाली सुविधाओं में कोताही, खराब जनरेटर, मरीजों के बेड पर गंदी चादर और ओपीडी की पर्चियों पर मरीजों के मोबाइल नम्बर नहीं मिलने पर अधिकारी उखड़ गए। मिशन एनआरएचएम के अतिरिक्त निदेशक शंकर लाल कुमावत व संयुक्त निदेशक मोहम्मद रफीक के नेतृत्व में प्रदेश स्तरीय अधिकारियों की टीम ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र रींगस, खाचरियावास, पलसाना, खाटूश्यामजी, दांता तथा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र रानोली व रामगढ़ का निरीक्षण किया। संस्थानों में सफाई जैसी मूलभूत खामियों को लेकर अधिकारियों ने सख्त नाराजगी जताई। और सात दिन में व्यवस्थाओं के सुधार के निर्देश दिए। टीम ने संस्थानों में स्वच्छता पखवाडे के तहत साफ सफ ाई, मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना, मुख्यमंत्री निशुल्क जांच योजना, लेबर रूम, वार्डों की व्यवस्था आदि की व्यवस्थाओं का जायजा लिया और रोगियों से बातचीत भी की।
सीएमएचओ डॉ. अजय चौधरी ने विभागीय आदेशों की अवहेलना करने तथा संस्थान की व्यवस्थाओं की ओर ध्यान नहीं देने पर रींगस सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी अधिकारी को कारण बताओ नोटिस दिया। अस्पताल के ओपीडी, एक्सरे, लैबर रूम, लेब, वार्ड व शौचालयों की व्यवस्थाओं का अवलोकन किया।
अस्पताल में पड़े नकारा सामान को भी हटाने के लिए कहा। सीएचसी प्रभारी को एमआरएस के फंड का उपयोग अस्पताल में आने वाले मरीजों की सुविधा के लिए खर्च करने के निर्देश भी दिए। साथ ही संस्था प्रभारी को अपने सुपरविजन में साफ सफ ाई तथा अन्य सभी व्यवस्थाएं सुदृढ कर तीन दिन में रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। अतिरिक्त निदेशक से लोगों ने अस्पताल में एक पर्ची काउंटर और खुलवाने की भी मांग रखी। इस दौरान अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. लक्ष्मण सिंह ओला, बीसीएमओ जेपी सैनी, ओपी वर्मा सहित चिकित्सा विभाग के अनेक अधिकारी मौजूद रहे।
दांता में कम मिली दवाएं
दांता सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में निशुल्क दवा योजना के तहत निर्धारित दवाइयां कम पाई गई तथा अस्पताल के वार्डों में बैड पर पुरानी चादर बिछी हुई मिलने पर टीम ने संस्था प्रधान को व्यवस्थाओं में सुधार करने के निर्देश दिए। साथ ही बैड पर पेंट करने पर भी जोर दिया। वहीं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र रामगढ में उन्होंने ओपीडी पर्चियों पर रोगियों के मोबाइल नंबर लिखने को कहा गया। इसके बाद टीम ने रानोली पीएचसी और पलसाना स्वास्थ्य केन्द्र का निरीक्षण किया। खाटूश्यामजी सीएचसी का नया भवन बनाने का प्रस्ताव लेने के निर्देश दिए।

 

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned