डाकघर में लाखों की चोरी का मास्टरमाइंड निकला पोस्टमैन, पहले दिन कैश कम मिला तो दूसरे दिन की वारदात

Vinod Singh Chouhan | Updated: 20 Jul 2019, 12:38:13 PM (IST) Sikar, Sikar, Rajasthan, India

Robbery in Post Office : पाटन कस्बे में पुलिस थाने के पास स्थित डाकघर में चोरी की वारदात को संविदा पर कार्यरत पोस्टमैन की शह पर अंजाम दिया गया था।

पाटन/सीकर.

Robbery in Post Office : पाटन कस्बे में पुलिस थाने के पास स्थित डाकघर में चोरी की वारदात को संविदा पर कार्यरत पोस्टमैन की शह पर अंजाम दिया गया था। लेकिन वारदात के तरीके से वह पहले ही दिन पुलिस के शक के घेरे में आ गया। Police ने शुक्रवार को वारदात को पर्दाफाश करते हुए पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके पास से चोरी के दो लाख 32 हजार रुपए बरामद कर लिए हैं। आरोपियों को बाद में न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उन्हें तीन दिन के रिमांड पर पुलिस को सौंप दिया गया। पुलिस आरोपियों से चोरी की शेष राशि बरामद करने का प्रयास कर रही है।


loot in post office : अपर पुलिस अधीक्षक दिनेश अग्रवाल ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी राणोली इलाके के बराल गांव का निवासी पोस्टमैन सुरेश कुमार जाट, दादिया इलाके के पलासिया गांव का निवासी कैलाश जाट, पिपराली के पास स्थित बालाना जोहड़ा मुकेश कुमार जाट, लक्ष्मणगढ़ क्षेत्र के हाफास गांव का निवासी राकेश कुमार जाट और सीकर के राधाकिशपुरा क्षेत्र का निवासी विनोद कुमार सैनी है।


शातिर है पांचों आरोपित ( Loot Accused Arrested )
डाकघर में चोरी के मामले में गिरफ्तार किए गए पांचों आरोपी शातिर हैं। सभी के खिलाफ विभिन्न पुलिस थानों में मामले दर्ज हैं। कैलाश के खिलाफ खंडेला, कोतवाली सीकर, दादिया, सदर नीमकाथाना तथा सदर झुंझुनू में आम्र्स एक्ट सहित विभिन्न धाराओं में आठ मामले, राकेश जाट के खिलाफ लक्ष्मणगढ़ थाने में एक्साइज एक्ट सहित चार मामले, विनोद सैनी के खिलाफ , रानोली थाने में दो मामले, मुकेश जाट के खिलाफ दादिया थाने में एक तथा सुरेश बराल के खिलाफ खंडेला थाने में एक मामला दर्ज है।


पहले दिन की रैकी, दूसरे दिन वारदात
पाटन डाकघर के अंतर्गत ग्राम रामपुरा में संविदा पर कार्यरत पोस्टमैन सुरेश कुमार बराल हर दिन डाक आदि लेने के लिए पाटन आता है। सुरेश को डाकघर के सभी कमरों की जानकारी होने के साथ-साथ चाबियों तथा कैश की भी जानकारी रहती थी। सुरेश ने अपने साथियों कैलाश तथा विनोद को 12 जुलाई को डाकघर की रैकी करवाई थी। लेकिन उस दिन कैश कम होने के कारण उन्होंने वारदात को अंजाम नहीं दिया। इसके बाद सोमवार को सुरेश ने अपने साथियों को फ ोन कर डाकघर में अच्छा कैश होने की सूचना दी। उसके बाद सभी आरोपी राकेश की स्कार्पियो गाडी में बैठ कर पाटन आ गए।

 

Read More :

90 लाख लूटने के बाद बंटवारे के लिए लुटेरों में हुआ झगड़ा, पुलिस ने दबोचा


बाइपास पर गाड़ी खड़ी कर पैदल गए डाकघर
आरोपी रात को सीकर से गाड़ी लेकर पाटन पहुंचे। करीब एक किलोमीटर पहले बाइपास पर ही गाड़ी को खड़ी कर दिया। बाद में पैदल ही डाकघर तक गए। कैलाश व मुकेश ताले तोडकऱ अंदर घुसे। उसके साथी विनोद तथा राकेश दोनों रास्तों पर खड़े होकर निगरानी करते रहे।


चाबी लगाकर खोली थी अलमारी ( Crime in Sikar )
चोरों ने पाटन स्थित डाकघर में सोमवार रात ताला तोडकऱ अंदर घुसे। बाद में स्टोर की अलमारी में रखे दो लाख 85 हजार रुपए चोरी कर ले गए। डाक सहायक अमरपाल यादव ने मंगलवार को इसका मामला दर्ज कराया। पुलिस ने मौका मुआयना किया तो डाकघर में रखा अन्य सामान सुरक्षित मिला। जांच में सामने आया कि चोरों ने अंदर तिजोरी को नहीं तोड़ कर उसी अलमारी का ताला तोड़ा जिसमें कैश रखा था। चोरी में चाबियों का भी इस्तेमाल किया।


कॉल डिटेल में आया अपराधियों से सम्पर्क
पुलिस ने वारदात की जांच डाकघर से ही शुरू की। कार्यरत कर्मचारियों से पूछताछ के साथ उनके मोबाइल की कॉल डिटेल भी निकलवाई गई। संविदाकर्मी पोस्टमेन सुरेश कुमार जाट की कॉल डिटेल में उसका अपराधियों से सम्पर्क सामने आने पर पुलिस ने उससे कड़ाई से पूछताछ की तो वह टूट गया। उससे हुई पूछताछ के आधार पर पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

 

Read More :

हत्या के बाद शव को ट्रैक्टर से बांध गांव में घुमाने का आरोपी 14 साल बाद गिरफ्तार, पुलिस ने मजदूर बनकर पकड़ा


किया बंटवारा दिखाई इमानदारी
वारदात के बाद आरोपी पिपराली आ गए। पोस्टमैन सुरेश कुमार पाटन ही रह गया। चारों ने पिपराली में रकम का बंटवारा किया। सुरेश के मौके पर नहीं होने के कारण उसके हिस्से की राशि में से पांच हजार ई-मित्र के माध्यम से उसके खाते में जमा करवाए। थानाधिकारी नरेंद्र भड़ाना ने बताया कि वारदात में काम ली गई गाड़ी को भी पुलिस ने बरामद कर लिया है। एसपी गगनदीप सिंगला ने वारदात खोलने वाली टीम को इनाम देने की घोषणा की है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned