photo story:आखिर क्यों चर्चा तक समिति रही अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई

-पालिका मार्किंग करवाकर भूली, अब अतिक्रमण कौन हटाएं
- पालिका ने कुछ माह पूर्व बैठक में निर्णय के आधार पर बाजार में करवाई थी मार्किंग

By: mahesh parbat

Updated: 29 Mar 2019, 03:09 PM IST

आबूरोड. शहर के मुख्य बाजार में लोगों की आवाजाही के लिएपरेशानी बनी अस्थाई अतिक्रमण की समस्या पर प्रशासन ने भी आंखमुंद ली है। शहर थाने में होने वाली सीएलजी सदस्यों की लगभग सभी बैठकों में बाजार में अतिक्रमण को लेकर कार्रवाई पर चर्चा होती है, लेकिन ये चर्चा मात्र चर्चा तक ही सीमित हो जाती है। समस्या को लेकर पूर्व में नगरपालिका कीओर से मार्किंग करवाने और इसके बाद अतिक्रमणकरने वाले व्यापारियों पर कार्रवाई का निर्णय लिया गया था। जिसके बाद पालिका ने शहर के मुख्य बाजार में मार्किंग करवाई गईथी। पालिका की ओर से की गई मार्किंग के बाहर आने वाले माल-सामान को अतिक्रमण मानते हुए उन पर कार्रवाई की जानी थी, लेकिन पालिका प्रशासन कभी कभार कार्रवाई कर इतिश्री कर देता है। मार्किंग करवाने के कई माह बाद भी अस्थाई अतिक्रमणकी समस्या बाजारा में जस की तस है।
दुर्घटना व आग में एम्बुलेंस व दमकल वाहन का गुजरना मुश्किल
मुख्य बाजार में अस्थाई अतिक्रमणके कारण दुपहिया वाहनों व राहगीरों का गुजरना ही मुश्किल हो जाता है।ऐसे में बाजार में कोई दुर्घटना होने या आग लगने जैसी स्थिति होने पर एम्बुलेंस व दमकल वाहन के आना ना मुमकिन सा है।कई बार शाम के समय अधिक भीड़ के कारण वाहनों की कतार भी लग जाती है। दुकानों के आगे व आसपास पार्किंग की सुविधा नहीं होने के कारणगलियों व सड़क के दोनों तरफवाहनों का जमावड़ा लग जाता है। जिससे राहगीरों को आवाजाही में परेशानी का सामना करना पड़ता है।
त्यौहारों पर होती है अधिक परेशानी
अस्थाई अतिक्रमणके कारणसर्वाधिक परेशानी होली, दिवाली समेत मुख्य त्यौहारों पर आती है। बाजार से धार्मिक शोभायात्रा निकालते समय भी अस्थाई अतिक्रमण के कारण परेशानी का सामना करना पड़ता है।जिसको लेकर कई बार सीएलजी बैठक में पुलिस के उच्चाधिकारियों व पालिका प्रशासन को अवगत करवाया जा चुका है, लेकिन इन चर्चाओं पर अमल नहीं किया जाता है।

mahesh parbat
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned