scriptCwg 2022 Harjinder Kaur Journey From Cutting Chaff On The Fields To winning Bronze weightlifting | खेतों में काम कर मजबूत किए हाथ, अब कॉमनवेल्थ गेम्स में जीता ब्रॉन्ज मेडल, ऐसी है हरजिंदर की कहानी | Patrika News

खेतों में काम कर मजबूत किए हाथ, अब कॉमनवेल्थ गेम्स में जीता ब्रॉन्ज मेडल, ऐसी है हरजिंदर की कहानी

CWG 2022: हरजिंदर बेहद गरीब परिवार से आती हैं। उनका परिवार एक कमरे के घर में रहता है और ठेके पर जमीन लेकर खेतीबाड़ी करता है। भारतीय वेटलिफ्टर खुद पशुओं के लिए चारा काटने की टोका मशीन चलाती रही हैं। यही वजह है कि उनके हाथ इतने मजबूत हैं। हरजिंदर मानती हैं कि मशीन पर चारा काटने के कारण उनके बाजू मजबूत बने और आज वह इसी वजह से कॉमनवेल्थ गेम्स में सफलता हासिल करके देश का नाम रोशन कर सकी हैं।

नई दिल्ली

Published: August 03, 2022 12:02:33 pm

Commonwealth Games 2022 Harjinder Kaur: बर्मिंघम में खेले जा रहे कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में महिलाओं के 71 किलोग्राम भारवर्ग में ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाली वेटलिफ्टर हरजिंदर कौर का अब तक सफर काफी संघर्षपूर्ण रहा है। हरजिंदर बेहद गरीब परिवार से आती हैं। उनका परिवार एक कमरे के घर में रहता है और ठेके पर जमीन लेकर खेतीबाड़ी करता है। जब हरजिंदर घर पर होती हैं तो वे भी अपने पिता के साथ खेतों में काम करती हैं।

hajin.png
हरजिंदर बेहद गरीब परिवार से आती हैं।

परिवार ने 6 भैंसे हैं ऐसे में हरजिंदर खुद पशुओं के लिए चारा काटने की टोका मशीन चलाती रही हैं। यही वजह है कि उनके हाथ इतने मजबूत हैं। हरजिंदर ने बर्मिंघम से फोन पर बात करते हुए मीडिया को बताया, 'मैं अपने पिता के साथ घर और खेतों में काम करती थी और इसलिए मेरे हाथ मजबूत हैं।' वेटलिफ्टर मानती हैं कि मशीन पर चारा काटने के कारण उनके बाजू मजबूत बने और आज वह इसी वजह से कॉमनवेल्थ गेम्स में सफलता हासिल करके देश का नाम रोशन कर सकी हैं।

हरजिंदर के बड़े भाई प्रीतपाल सिंह ने कहा कि वह अपने किसान पिता की खेतों में मदद करती थी और इससे भी वह मजबूत बनी। हरजिंदर कौर ने दूसरे पंजाबियों की तरह कबड्‌डी से खेल जीवन की शुरूआत की। जब उन्होंने कॉलेज जॉइन किया तो वहां उन्हें कॉलेज की कबड्‌डी टीम में शामिल कर लिया गया। एक साल बाद हरजिंदर ने पंजाबी यूनिवर्सिटी पटियाला में स्पोर्ट्स विंग जॉइन कर लिया। यहीं पर कोच परमजीत शर्मा ने हरजिंदर के टेलेंट को पहचाना। उनकी मजबूत बांह देख उन्हें रस्साकस्सी टीम में शामिल कर लिया। इसके बाद उन्होंने हरजिंदर को वेटलिफ्टिंग करने को प्रेरित किया।

यह भी पढ़ें

Commonwealth Games 2022 से जुड़ी सभी लाइव अपडेट के लिए यहां क्लिक करें

पटियाला के नाभा इलाके के गांव मेहसा की रहने वाली हरजिंदर ने कहा कि मेरे दिमाग में यह कभी नहीं आया कि मैं पदक नहीं जीतूंगी।' उन्होंने कहा, 'जब रजत पदक विजेता ने अपना प्रयास सफलतापूर्वक पूरा किया तो मेरा दिल टूट गया। मैंने पदक की सारी उम्मीद छोड़ दी थी। लेकिन उस वक्त हैरानी हुई जब नाइजीरिया की खिलाड़ी का तीनों प्रयास विफल रहे।' उन्होंने स्नैच में 93 और क्लीन एंड जर्क में 119 किलो का वेट उठाया। वे कुल 212 किलो के साथ तीसरे स्थान पर रहीं।

इस मौके पर गांव में वेटलिफ्टर के घर पर जश्न का माहौल था। घर पर बधाई देने के लिए आने वालों का तांता लगा था। ढोल की थाप पर सभी नाच-गा रहे थे और एक-दूसरे का मुंह मीठा करा रहे थे। हरजिंदर के पिता साहिब सिंह ने बताया कि जब से बेटी के कॉमनवेल्थ गेम्स में कांस्य पदक जीतने की खबर मिली है, तब से जमीन पर पैर नहीं पड़ रहे हैं।

यह भी पढ़ें

पीवी सिंधु का जोरदार प्रदर्शन, मिक्स्ड टीम इवेंट में भारत ने जीता सिल्वर मेडल

उन्होंने कहा कि सारा जीवन गरीबी में काटा। अब खुशी है कि बेटी ने उनके सारे दुख दर्द मिटा दिए। पिता ने नम आंखों से बताया कि वह हरजिंदर कौर को टोका मशीन से चारा काटने से रोकते थे, लेकिन वह कहती है कि पिता जी आपकी मदद करनी है। डांटने पर भी नहीं मानती थी।


पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने हरजिंदर कौर को 40 लाख रुपये के नकद पुरस्कार देने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने यहां जारी एक बयान में कौर को बधाई देते हुए कहा कि नाभा के पास मेहस गांव की इस खिलाड़ी ने अपने पराक्रम से देश को गौरवान्वित किया है। राज्य सरकार उन्हें पंजाब की खेल नीति के अनुसार 40 लाख रुपये का नकद पुरस्कार देगी। सीएम ने आशा व्यक्त की है कि कौर की उपलब्धि अन्य खिलाड़ियों, विशेषकर लड़कियों को भी खेल के क्षेत्र में आगे बढ़ने और देश का नाम रौशन करने के लिए प्रेरित करेगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Maharashtra Cabinet Expansion: कल 15 मंत्री लेंगे शपथ, देवेंद्र फडणवीस को मिलेगा गृह विभाग? जानें शिंदे कैबिनेट के संभावित मंत्रियों के नामबिहारः कांग्रेस ने बुलाई विधायकों की बैठक, नीतीश कुमार के साथ जाने पर बन सकती है सहमति!Google ने दिल्ली हाई कोर्ट को दी जानकारी, हटाए केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और उनकी बेटी के खिलाफ पोस्ट वेब लिंक'इनकी पुरानी आदत है पूरे सिस्टम पर हमला करने की', कपिल सिब्बल के बयान पर बोले कानून मंत्री किरेण रिजिजूअरविंद केजरीवाल ने कहा- देश की राजनीति में परिवारवाद और दोस्तवाद खत्म कर भारतवाद लाएंगेAmit Shah Visit To Odisha: अमित शाह बोले- ओडिशा में अच्छे दिन अनुभव कर रहे लोग, सीएम नवीन पटनायक की तारीफ भी कीAsia Cup 2022 के लिए टीम इंडिया का हुआ ऐलान, विराट कोहली-केएल राहुल की हुई वापसी'नीतीश BJP का साथ छोड़े तो हम गले लगाने को तैयार', बिहार में मचे सियासी घमासान पर बोले RJD नेता शिवानंद तिवारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.