Tokyo Olympics 2020: हंगामा करने के लिए विनेश फोगाट ने मांगी माफी, फिर भी खेलना मुश्किल!

Tokyo Olympics 2020: भारतीय कुश्ती महासंघ ने टोक्यो ओलंपिक के दौरान अनुशासनहीनता करने का आरोप लगाया और उन्हें सस्पेंड कर दिया था। साथ ही विनेश फोगाट को इस मामले में 16 अगस्त तक अपना जवाब देने के लिए कहा था।

By: Mahendra Yadav

Published: 15 Aug 2021, 10:07 AM IST

Tokyo Olympics 2020: भारत की स्टार रेसलर विनेश फोगाट पर भारतीय कुश्ती महासंघ ने टोक्यो ओलंपिक के दौरान अनुशासनहीनता करने का आरोप लगाया और उन्हें सस्पेंड कर दिया था। साथ ही विनेश फोगाट को इस मामले में 16 अगस्त तक अपना जवाब देने के लिए कहा था। विनेश ने भारतीय कुश्ती महासंघ से इस मामले में माफी मांग ली है। डब्ल्यूएफआई ने विनेश फोगाट पर प्रतियोगिताओं में भाग लेने पर रोक लगा दी थी। वहीं विनेश ने कुश्ती महासंघ से माफी तो मांग ली है, लेकिन इसके बाद भी उनका खेलना मुश्किल लग रहा है।

टोक्यो में विनेश फोगाट ने किया था हंगामा
टोक्यो ओलंपिक 2020 में विनेश फोगाट को मेडल का प्रबल दावेदार माना जा रहा था, लेकिन वह क्वार्टर फाइनल मुकाबले में हारकर बाहर हो गई थीं। वहीं जब विनेश अन्य भारतीय महिला पहलवान सोनम, अंशु मलिक और सीमा बिस्ला के करीब कमरा दिया गया तो विनेश ने हंगामा कर दिया था। विनेश ने कहा था कि वह कोरोना वायरस से संक्रमित हो सकती हैं क्योंकि ये पहलवान भारत से टोक्यो आई हैं। इसके अलावा विनेश भारतीय दल के आधिकारिक प्रायोजक के बजाय निजी प्रायोजक के नाम का ‘सिंगलेट’ पहना था। इसे डब्ल्यूएफआई ने अनुशासनहीनता माना और उन्हें सस्पेंड कर दिया।

यह भी पढ़ें— विनेश फोगाट ने तोड़ी चुप्पी, सिस्टम पर खड़े किए सवाल, योगेश्वर ने कहा,'वो उनका दिन नहीं था'

vinesh_phogat2.png

विनेश का रिएक्शन
वहीं विनेश फोगाट ने हाल ही इस मामले में अपनी प्रतिकिया देते हुए कहा था कि उनकी दिमागी ताकत खत्म हो चुकी है। ऐसा लगा रहा है कि हार पर दुख भी नहीं मनाने देंगे। हर कोई चाकू लेकर खड़ा हुआ है। साथ ही उन्होंने कहा कि वह मानसिक रूप से पूरी तरह से टूट चुकी हैं। साथ ही उन्होंने कहा, 'मुझे नहीं पता मैं मैट पर कब वापसी करूंगी। शायद मैं नहीं कर पाऊं। अभी मेरा शरीर नहीं टूटा बल्कि मैं टूट गई हूं।'

यह भी पढ़ें—Tokyo Olympics 2020: विनेश फोगाट की हार पर बोला परिवार-ट्रेनिंग में रहीं खामियां, कांस्य मायने नहीं रहता

मांगी माफी, लेकिन खेलना मुश्किल
रिपोर्ट के अनुसार, 26 वर्षीय पहलवान ने डब्ल्यूएफआई द्वारा उन्हें भेजे गए नोटिस का जवाब और माफी मांगी। रिपोर्ट के अनुसार, माफी के बावजूद इस बात की संभावना अधिक है कि विनेश को विश्व चैम्पियनशिप के लिए यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाए। बताया जा रहा है कि डब्ल्यूएफआई ओजीक्यू (ओलंपिक गोल्ड क्वेस्ट) और जेएसडब्ल्यू जैसे निजी खेल गैर सरकारी संगठन के काम करने के तरीके से खुश नहीं है। ये संगठन कई भारतीय एथलीटों को प्रायोजित करते हैं, जिसमें पहलवान भी शामिल हैं। डब्ल्यूएफआई का मानना है कि ये संगठन खिलाड़ियों को ‘खराब’ कर रहे हैं और उन्हें भविष्य में सीनियर पहलवानों के मामलों में उन्हें दखल नहीं देने देगा। विनेश को ओजीक्यू का समर्थन प्राप्त है जबकि बजरंग पुनिया को जेएसडब्ल्यू का समर्थन प्राप्त है।

tokyo olympics 2020
Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned