साउथ एक्ट्रेस पावला श्यामला को पैसों के लिए बेचने पड़े अवॉर्ड, चिरंजीवी ने दिए 1 लाख

By: पवन राणा
| Published: 19 May 2021, 07:07 PM IST
साउथ एक्ट्रेस पावला श्यामला को पैसों के लिए बेचने पड़े अवॉर्ड, चिरंजीवी ने दिए 1 लाख

एक्ट्रेस और कॉमेडियन पावला श्यामला इस समय आर्थिक तंगी से गुजर रही हैं। 250 से ज्यादा साउथ फिल्मों में काम कर चुकी वरिष्ठ एक्ट्रेस को घर चलाने के लिए अपने अवॉर्ड बेचने पड़े। अब साउथ स्टार चिरंजीवी ने उन्हें 1 लाख रुपए की मदद की है।

मुंबई। कोरोना लॉकडाउन में कई लोगों को ऐसे दिन देखने पड़े हैं, जिसकी शायद उन्होंने कल्पना भी नहीं की थी। कुछ लोगों ने काम नहीं मिलने के चलते व्यवसाय बदला, तो कुछ ने नौकरियां और दुर्भाग्य से कुछ लोगों को गलत रास्ते चुनने पड़े। कुछ लोग इतनी आर्थिक तंगी में आ गए कि उनके लिए जीवनयापन करना मुश्किल हो गया। ऐसे हा साउथ की वरिष्ठ एक्ट्रेस और कॉमेडियन पावला श्यामला के साथ हुआ है। 70 साल की पावला को बेटी के इलाज के लिए हर माह 10,000 रुपए चाहिए होते हैं, तंगी की वजह से उनके लिए गुजारा करना भी मुश्किल हो रहा है।

'मैंने मेरे अवॉर्ड भी बेच दिए'
पावला ने बताया कि गरीबी तो उन्होंने देखी है, लेकिन ऐसी तंगहाली पहली बार देखी है। इस तंगहाली से डर लग रहा है। बेटी को पैर में जब से चोट लगी वह बीमार है। साथ ही टीबी की बीमारी भी है। उसके इलाज का हर महीने करीब 10 हजार रुपए खर्चा आता है। जरूरतें पूरी करने के लिए मैंने मेरे अवॉर्ड भी बेच दिए हैं। कोरोना काल में मदद के लिए भी कोई आगे नहीं आ रहा है। इस दौरान बुजुर्ग पेंशन भी नहीं मिल पा रही है।

मिलने लगी मदद
250 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुकीं पावला को कॉमेडियन कल्याणी ने 10 हजार रुपए की मदद की है। अब साउथ के सुपरस्टार चिरंजीवी ने उनकी हालत को देखते हुए 1 लाख रुपए की मदद की है। इस राशि का चैक पावला को चिरंजीवी की तरफ से सौंपा गया। इसके अलावा मूवी आर्टिस्ट एसोसिएशन का मेंबर उन्हें बनाया गया है, जिससे उन्हें हर महीने 6000 रुपए की पेंशन मिलेगी।

यह भी पढ़ें : रजनीकांत ने कोविड रिलीफ के लिए दिया दान, सोशल मीडिया पर लोगों ने कहा- ये तो बहुत कम है

यह भी पढ़ें : तेलुगु सुपरस्टार चिरंजीवी ने शुरू किया फ्री कोरोना वैक्सीन अभियान

'मैं हमेशा उनकी आभारी रहूंगी'
चिरंजीवी से मदद मिलने पर पावला ने कहा,' पहले मैं आर्थिक संकट से गुजर रही थी, तब चिरंजीवी की बेटी आगे आईं और 2 लाख रुपए का दान दिया। अब मेरी हालत को देखकर एक बार फिर चिरंजीवी आगे आए हैं और 1 लाख रुपए और मासिक पेंशन की व्यवस्था की है। मैं हमेशा उनकी आभारी रहूंगी।'