आखिरकार मोक्ष मार्ग के लिए खुला रास्ता

आखिरकार मोक्ष मार्ग के लिए खुला रास्ता

Sushil Kumar Singh Chauhan | Updated: 17 Jul 2019, 06:00:00 AM (IST) Udaipur, Udaipur, Rajasthan, India

पत्रिका की खबर पर चेता राजस्व विभाग, सीमांकन से निकली श्मशान की जमीन

उदयपुर/ खरसाण. समीपवर्ती बगड़ ग्राम पंचायत मुख्यालय पर श्मशान घाट निर्माण यानी शवों के मोक्ष मार्ग को लेकर रास्ता खुल गया है। पटवारी हल्का व राजस्व विभाग की मौका नपती में श्मशान घाट की जमीन चिन्हित हो गई। अब ग्राम पंचायत ने इस जमीन पर श्मशान घाट का निर्माण कराने का आश्वासन दिया है। इससे पहले तक नपती के अभाव में अस्थायी श्मशान के खुले में होने से ग्रामीणों को बरसात के दिनों में अंतिम संस्कार की प्रक्रिया में होने वाली चिंता सता रही थी।
राजस्थान पत्रिका में 13 जुलाई को 'मोक्ष के मार्ग पर बरसाती बाधाÓ शीर्षक से प्रकाशित समाचार के बाद ग्राम पंचायत और राजस्व अमले में हलचल तेज हुई। रावतपुरा, मनोहरपुरा, रेबारियों की ढाणी सहित अन्य गांवों के लोगों ने श्मशान निर्माण के मसौदे को गंभीरता से लिया। लोगों की मांग पर मंगलवार को पटवारी गिरधारीसिंह, स्थानीय सरपंच चंपालाल शर्मा, ग्राम विकास अधिकारी भूपेश आचार्य सहित करीब 50 जनों की उपस्थिति में श्मशान की जमीन चिन्हित की गई। यह जमीन करीब 3 बिस्वा मिली।

निर्माण को प्राथमिकता
सरपंच सहित अन्य स्थानीय लोगों के प्रयासों से श्मशान की जमीन चिन्हित हो गई है। अब जल्द ही इस पर श्मशान निर्माण कार्य शुरू होगा।
भूपेश आचार्य, ग्राम विकास अधिकारी, बगड़

लोगों को राहत
सीमांकन में तीन बिस्वा जमीन श्मशान की चिन्हित हुई है। हमारे स्तर पर भी नपती का इंतजार हो रहा था। अब निर्माण का रास्ता खुल गया है।
चंपालाल शर्मा, सरपंच, ग्राम पंचायत बगड़

हटाएंगे अब अतिक्रमण
सीमांकन में जमीन के अलावा समीपवर्ती 6 बिस्वा जमीन पर लोगों का अतिक्रमण है। उच्चाधिकारियों से आदेश लेकर अतिक्रमण हटाया जाएगा।
गिरधारीसिंह, पटवारी, पटवार हल्का बगड़

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned