नगर पालिका का अनोखा फरमान, प्रतीक्षालय में नहीं बैठेगा आम इंसान

नगर पालिका का अनोखा फरमान, प्रतीक्षालय में नहीं बैठेगा आम इंसान
नगर पालिका का अनोखा फरमान, प्रतीक्षालय में नहीं बैठेगा आम इंसान

Sushil Kumar Singh Chauhan | Publish: Oct, 13 2019 06:00:00 AM (IST) Udaipur, Udaipur, Rajasthan, India

nagar palika सूरजपोल प्रतीक्षालय के सामने बस नहीं रोकने की सख्ती, ईओ बोले वह कुछ नहीं कर सकते, नपाध्यक्ष से लो मंजूरी

उदयपुर/ भींडर. nagar palika नगर पालिका भींडर क्षेत्र स्थित सूरजपोल चौराहे के यात्री प्रतीक्षालय के सामने सवारी बसों के रूकने पर लगाया गया प्रतिबंध स्थानीय राजनीति को हवा देने लगा है। व्यक्ति विशेष को कथित तौर पर फायदा पहुंचाने की मंशा से जारी आदेश की पालना में सक्रिय नपा कार्मिक, सवारी बसों को मौके पर रूकने ही नहीं दे रहे बल्कि प्रतीक्षालय में बैठने वाले आम यात्री को भी आंखें दिखा रहे हैं। आम इंसान को बैठने से रोकने देने का विवाद अब तूल पकडऩे लगा है। लोगों की परेशानियों को लेकर पूर्व नगर पालिकाध्यक्ष गोवद्र्धनलाल भोई ने पालिका प्रशासन को घेरने की रूपरेखा रची, लेकिन उनके साथ ही भी ऐसा कुछ हुआ कि वह दंग रह गए। शिकायत लेकर पालिका अधिशासी अधिकारी कार्यालय पहुंचे भोई को आश्चर्यजनक जवाब मिला। ईओ ललित देथा ने पहले तो जवाब दिए बिना कुर्सी छोड़ दी। बाद में दबाव में आकर स्पष्ट किया कि इस पूरे मामले में वह असहाय हैं। आदेश में संशोधन केवल नपाध्यक्ष के कहने पर ही होगा। हालांकि, विवाद जो भी हो, लेकिन यह तय हैं कि नपा के तानाशाही पूर्ण आदेश से आमजन परेशान हो रहा है।

हुआ ऐसा कुछ
बता दें कि नपा ने कुछ माह पहले एक आदेश जारी कर सूरजपोल चौराहे से लारी वालों को हटाकर गंभीर सागर तालाब की पाल पर खड़ा कराया था। इसके बाद रोडवेज और निजी सवारी बसों को भी प्रतीक्षालय के सामने नहीं रूकने देने के आदेश दिए। तय किया कि यात्री बसें रेगर समाज के मंदिर के सामने ही रूकेंगी। अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है कि नगर पालिका के कर्मचारी प्रतीक्षालय में बैठने वाले आम यात्रियों को भी वहां से खदेडऩे में लगे हुए हैं। दूसरी ओर कार्मिकों की मानें तो वह केवल बसों के रूकने पर पाबंदी की पालना करा रहे हैं। उनकी ओर से किसी आम यात्री को वहां बैठने से नहीं रोका गया है।

नपाध्यक्ष ही जिम्मेदार
हुआ यूं कि सोशल मीडिया में वायरल संदेश के अलावा कुछ लोगों की शिकायत पर पूर्व नपाध्यक्ष भोई एवं महेंद्र सिंह पवांर पीडि़त लोगों के प्रतिनिधि बनकर ईओ देथा से बातचीत करने गए। दोनों प्रतिनिधियों की बातें सुन ईओ देथा ने उनकी सीट छोड़ दी और वरिष्ठ लिपिक ललितसिंह देथा के कक्ष में पहुंच गए। कुछ इंतजार के बाद भोई पुन: उनके पास पहुंचे और जनता की जिम्मेदारी से नहीं बचने की नसीहत दी। इसके बाद पुन: कक्ष में लौटे ईओ ने साफ किया कि अध्यक्ष के कहने पर ही बसों का ठहराव रोका गया है। नपाध्यक्ष के निर्देश पर ही बसों का प्रतीक्षालय के बाहर रूकना संभव होगा। इस घटना के कुछ समय बाद नपा का दस्ता प्रतीक्षालय से रवाना हो लिया।

चर्चाएं ऐसी भी
सूत्रों की मानें तो सूरजपोल चौराहे पर स्थित निजी जमीन के मालिक को कथित तौर पर फायदा पहुंचाने की नीयत से पालिका ने पहले केबिन हटाने की कार्रवाई की। अब प्रतीक्षालय, शौचालय और पानी के प्याऊ को भी मौके से हटाने की चर्चा है। इसका उद्देश्य प्रतीक्षालय को अनुपयोगी बताने से है। सूरजपोल पर भीड़ होने के बहाने से नपा अन्यत्र यात्री प्रतीक्षालय का निर्माण करा देगी।

नहीं रूकेगी यात्री बसें
यात्री प्रतीक्षालय के आगे नाश्ता लारियां खड़ी हैं। वहां बसों को नहीं रूकने दिया जाएगा। अगर, यात्री सुविधा की जरूरत पड़ी तो नए स्थान पर प्रतीक्षालय बनवा दिया जाएगा।
ललित सिंह देथा, अधिशासी अधिकारी, भींडर नगर पालिका

सस्ती लोकप्रियता में जुटे
कुछ लोग सस्ती लोकप्रियता हासिल करना चाहते हैं। ऐसे लोग स्थानीय जनता को गुमराह कर रहे हैं। यात्री प्रतीक्षालय मौके से नहीं हट रहा है। nagar palika न ही इसे हटाने की कोई मंशा है।
हेमंत तेली, अध्यक्ष, नगर पालिका,

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned