scriptLokayukta bypassing instructions | लोकायुक्त के निर्देश दरकिनार | Patrika News

लोकायुक्त के निर्देश दरकिनार

पाल बीसला तालाब को नो-कंस्ट्रक्शन जोन (एनसीजेड) घोषित करने के बाद भी तालाब के भराव क्षेत्र की भूमि पर नौ मकान बन गए हैं। नगर निगम ने एनसीजेड में बने नौ मकानों के खिलाफ कार्रवाई के नाम पर केवल औपचारिकता पूरी की है। 

जयपुर

Published: May 02, 2015 04:19:36 am

पाल बीसला तालाब को नो-कंस्ट्रक्शन जोन (एनसीजेड) घोषित करने के बाद भी तालाब के भराव क्षेत्र की भूमि पर नौ मकान बन गए हैं। नगर निगम ने एनसीजेड में बने नौ मकानों के खिलाफ कार्रवाई के नाम पर केवल औपचारिकता पूरी की है। 

जिला प्रशासन की ओर से राजस्थान उच्च न्यायालय में प्रस्तुत ड्राफ्ट प्लान के तहत 2012 में पाल बीसला तालाब को एनसीजेड घोषित किया था। वर्ष-2012 में एनसीजेड घोषित होने के बाद पाल बीसला के भराव क्षेत्र में नौ मकान बना लिए गए हैं। 

राजस्थान पत्रिका में एनसीजेड में मकान बनने की सिलसिलेवार खबरें प्रकाशित होने के बावजूद मिलीभगत के चलते निगम के अधिकारियों की नींद नहीं खुली। निगम ने अपनी सर्वे रिपोर्ट में भी स्वीकार किया है कि एनसीजेड घोषित होने के बाद नौ मकान बने हैं। 

निगम ने उनके खिलाफ कार्रवाई के नाम पर केवल नोटिस ही दिए हैं। प्रदेश के लोकायुक्त ने निगम प्रशासन को एनसीजेड घोषित होने के बाद बने मकान ध्वस्त करने के निर्देश दिए हैं। लेकिन निगम प्रशासन ने लोकायुक्त के आदेश को भी ठंडे बस्ते में डाल दिया है। 

जिम्मेदारी तय हो 
एनसीजेड घोषित होने के बावजूद पाल बीसला के भराव क्षेत्र में बने मकानों के लिए निगम के कनिष्ठ और सहायक अभियन्ता की जिम्मेदारी तय होनी चाहिए। इनके साथ स्वास्थ्य निरीक्षक और जमादार की भी जिम्मेदारी तय होनी चाहिए। 

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

इसलिए नाम के पीछे झुनझुनवाला लगाते थे Rakesh Jhunjhunwala, अकूत दौलत के बावजूद अधूरी रह गई एक ख्वाहिशRakesh Jhunjhunwala Net Worth: परिवार के लिए इतने पैसे छोड़ गए राकेश झुनझुनवाला, एक दिन में कमाए थे 1061 करोड़राजस्थान के जालोर में दलित छात्र की मौत के बाद तनाव, इंटरनेट सेवा बंद, अलर्ट पर प्रशासनपिता ने नहीं दिए पैसे, फिर भी मात्र 5000 के निवेश से कैसे शेयर बाजार के किंग बने राकेश झुनझुनवालासिर पर टोपी, हाथों में तिरंगा; आजादी का जश्न मनाते दर्जनों मुस्लिम बच्चों का ये वीडियो कहां का है और क्यों वायरल हो रहा है?Rakesh Jhunjhunwala Faith in Sati Dadi Temple: झुंझुनूं की राणी सती दादी मंदिर में थी राकेश झुनझुनवाला की गहरी आस्था'आजादी के अमृत महोत्सव' के तहत भारत-पाकिस्तान सीमावर्ती 30 गांवों के विकास के लिए शुरू हुई अनूठी पहलRajasthan: तीसरी कक्षा के दलित छात्र को निजी स्कूल के शिक्षक ने पानी का कंटेनर छूने को लेकर पीटा, मौत के बाद तनाव, इंटरनेट सेवा बंद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.