CM योगी की फ्लाईओवर हादसे पर दूसरी बड़ी कार्रवाई, सेतु निगम के अधिकारी व ठेकेदार पर इन धाराओं में मुकदमा दर्ज

सिगरा थाने में इन धाराओं में दर्ज हुआ मुकदमा, पहले दर्ज मुकदमे पर हुई होती कार्रवाई तो बच सकता था हादसा

By: Devesh Singh

Published: 16 May 2018, 12:50 PM IST

वाराणसी. पीएम नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस में हुए फ्लाईओवर का बीम गिरने में १८ की मौत के बाद सीएम योगी ने दूसरी बड़ी कार्रवाई की है। सेतु निगम के अधिकारी व ठेकेदार के खिलाफ सिगरा थाना में विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। यूपी सरकार की यह बड़ी कार्रवाई मानी जा रही है। हादसे के कुछ घंटे बाद में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या ने सेतु निगम के चार अधिकारियों को संस्पेड किया था इसके बाद यूपी सरकार ने दूसरी बड़ी कार्रवाई करते हुए मुकदमा दर्ज कराया है।
यह भी पढ़े:-कर्नाटक चुनाव में सीएम योगी ने जिन सीटों पर किया प्रचार, वहां बीजेपी का यह रहा हाल



कैंट रेलवे स्टेशन के पास स्थित कमलापति त्रिपाठी इंटर कालेज (ब्याज) के सामने ुहुए इस भीषण हादसे में 18 लोगों की मौत हो गयी थी और नौ से अधिक घायल हो गये थे। इस मामले में सेतु निगम की बड़ी लापरवाही सामने आयी है। जिस तरह से बिना सुरक्षा मानकों को ध्यान दिये हुए चलती हुई सड़क पर फ्लाईओवर का निर्माण हो रहा था उसे हादसे की संभावना बनी हुई थी लेकिन सरकारी अधिकारियों व सेतु निगम की मिलीभगत ने सभी मानक को दरकिनार कर दिया गया था। हादसे के बाद सीएम योगी सरकार की नींद खुली है और कार्रवाई का दौर शुरू हो गया है। डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या ने सबसे पहले सेतु निगम को चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर एचसी तिवारी, राजेन्द्र सिंह, केआर सूदन व लाल चन्द्र को तत्काल प्रभावित से निलंबित कर दिया था। देर रात बनारस के दौरे पर पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस मामले में सख्त कार्रवाई करने की बात कही थी और सीएम योगी के जाते ही सेतु निगम के अधिकारी व ठेकेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज हो गया है।
यह भी पढ़े:-शुरू हो गया मलमास, भूल कर न करें यह काम

इन धाराओं में दर्ज हुआ मुकदमा
सिगरा थाने में दफा 304 (गैर इरादतन हत्या) व 308 (प्राण घातक हमला) करने के आरोप में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। एसओ सिगरा ने मुकदमा दर्ज करने की पुष्टि कर दी है। यह धाराएं गैर जमानती है। यूपी सरकार ने मुकदमा दर्ज करके लोगों के आक्रोश को खत्म करने की कोशिश की है लेकिन बड़ी बात है कि इस मामले में बड़े लोगों की गिरफ्तारी होती है नहीं। इस पर सभी की निगाहें है। इससे पहले भी इसी फ्लाईओवर को लेकर एसपी ट्रैफिक ने मुकदमा दर्ज कराया था लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।
यह भी पढ़े:-कर्नाटक चुनाव में बीजेपी के नये ट्रेंड से अखिलेश व मायावती के लिए बजी खतरे की घंटी, कांग्रेस का साथ भी नहीं आयेगा काम

एसपी ट्रैफिक ने पहले ही दर्ज कराया था मुकदमा
एसपी ट्रैफिक सुरेश चन्द्र रावत ने पहले ही इस फ्लाईओवर के निर्माण के लिए रखी सामग्री को लेकर सड़क जाम होने के चलते कड़ी नाराजगी जतायी थी और थाने में मुकदमा दर्ज कराया था लेकिन उसका कोई खास असर नहीं हुआ था और सेतु निगम का रवैया नहीं बदला और सुरक्षा मानक को ताख पर रख कर निर्माण जारी रखा था।
यह भी पढ़े:-यातायात पुलिसकर्मी होंगे तनाव मुक्त, मुस्कुराते हुए सुलझायेंगे ट्रैफिक समस्या

Show More
Devesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned