कांवरियों पर छाया फैशन का ट्रेंड, युवाओं में इस टीशर्ट की सबसे अधिक मांग

कांवरियों पर छाया फैशन का ट्रेंड, युवाओं में इस टीशर्ट की सबसे अधिक मांग
Kanwar yatra new fashion trade

Devesh Singh | Updated: 11 Jul 2019, 12:24:49 PM (IST) Varanasi, Varanasi, Uttar Pradesh, India

पीएम मोदी व सीएम योगी राज मेेंं कांवरियों के वस्त्र की बढ़ी मांग, 17 जुलाई को सावन आरंभ होने से पहले ही शुरू हो जायेगी यात्रा

वाराणसी. कांवरियों पर नये फैशन का ट्रेंड छाने लगा है। इस साल सावन 17 जुलाई से आरंभ होगा। सावन आरंभ होने के पहले ही कांवरियों की कांवर यात्रा शुरू हो जाती है, जिसके लिए वह अभी से खरीदारी में जुट गये हैं। कांवरियों को केसरिया रंग का टीशर्ट व हाफ पेंट बहुत पसंद है। भारी संख्या में युवा भी इस यात्रा में शामिल होते हैं। कांवरियों के वस्त्र सप्लाई करने वाले दुकानदार की माने तो पीएम मोदी व सीएम योगी आदित्यनाथ के राज में कांवरियों के वस्त्र की मांग बहुत बढ़ गयी है।
यह भी पढ़े:-सावन में कम समय में भक्तों को मिलेगा बाबा विश्वनाथ का दर्शन, पहली बार की गयी यह पहल



Kanwar yatra new fashion trade
IMAGE CREDIT: Patrika
Kanwar yatra new fashion trade
IMAGE CREDIT: Patrika

हड्हा सराय से ही पूर्वांचल में कांवरियों के लिए वस्त्र की सप्लाई होती है। यहां के दुकानदार संजय कुमार ने बताया कि सबसे अधिक मांग 'अपना टाइम आयेगा' लिखे हुए टीशर्ट की है। केसरिया के साथ सफेद टीशर्ट पर महादेव की लगी फोटो वाले वस्त्र भी काफी प्रसंद की जा रही है। पूर्वांचल से जितने व्यापारी आ रहे हैं वह नये फैशन के अनुसार की कांवरियों के लिए वस्त्र लेकर जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि पीएम नरेन्द्र मोदी व सीएम योगी आदित्यनाथ के राज में पहले ही केसरिया वस्त्रों की मांग बढ़ गयी थी, अब सावन में और अधिक डिमांड हो गयी है। पहले जीएसटी के चलते व्यापार में दिक्कत आती थी लेकिन अब इस समस्या का समाधान हो चुका है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र के व्यापारी भी जीएसटी के नियमों का पालने करते हुए खरीदारी कर रहे हैं।
यह भी पढ़े:-इस अनोखे थाने का DM व SSP भी नहीं कर सकते हैं निरीक्षण, अपनी कुर्सी पर नहीं बैठते हैं एसएचओ

 

Kanwar yatra new fashion trade
IMAGE CREDIT: Patrika

सावन में काशी विश्वनाथ मंदिर में जल चढ़ाने के लिए लाखों श्रद्धालु आते हैं।
सावन में काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन करने के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ती है। काशी विश्वनाथ में जलाभिषेक करने के लिए कांवरिये प्रयागराज के संगम पर जाते हैं, वहां से कांवर में जल लेकर नंगे पैर ही लगभग १२० किलोमीटर की यात्रा करके बाबा काशी विश्वनाथ मंदिर में जल चढ़ाने के लिए आते हैं। कांवरिये अपनी क्षमता के अनुसार दो से तीन दिन में इस यात्रा को पूरी करते हैं। यात्रा लंबी होती है इसलिए कांवरियों को ऐसे वस्त्र अधिक पसंद आते हैं जो जल्दी गंदे न हो। उमस व बारिश के समय भी शरीर को राहत प्रदान करे। ऐसे में कांवरियों को नये फैशन के अनुसार उनका पसंदीदा वस्त्र मिल जाता हैं तो उसकी खरीदारी कर लेते हैं।
यह भी पढ़े:-इस विश्वविद्यालय में जीवित होगी गुरुकुल पंरम्परा, देश में पहली बार होगा शास्त्रार्थ महाकुंभ

 

Kanwar yatra new fashion trade
IMAGE CREDIT: Patrika
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned