एसआईटी करेगी UPPSC पेपर लीक प्रकरण की जांच, परीक्षा नियंत्रक का जेल में कटा ऐसे दिन

परीक्षा नियंत्रक को पहले ही भेजा जा चुका है जेल, नयी टीम कॉल डिटेल खंगालने से लेकर सभी साक्ष्यों को जुटायेगी

By: Devesh Singh

Published: 01 Jun 2019, 12:44 PM IST

वाराणसी. यूपीएससी पेपर लीक मामले की जांच अब एसआईटी के हवाले की गयी है। एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने एसआईटी का गठन कर दिया है और नयी टीम ने जांच शुरू कर दी है। बनारस पुलिस ने इस मामले में पेपर प्रिंट करने वाले कौशिक कुमार को पहले ही गिरफ्तार किया हुआ है और पुलिस का दावा है कि कौशिक कुमार से मिले साक्ष्य के अनुसार ही उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की परीक्षा नियंत्रण अंजू कटियार को गिरफ्तार कर 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गय है। पुलिस के लिए सबसे बड़ी चुनौती आरोपियों के खिलाफ इतना दमदार सबूत जुटाना है जिससे उन्हें दोषी साबित किया जा सके।

यह भी पढ़े:-पहली बार नहीं हुआ एलटी ग्रेड की परीक्षाओं में खेल, इसके पहले बोर्ड ऑफिस बदल दिया गया था दस्तावेज

एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने एसपी क्राइम ज्ञानेन्द्र प्रसाद के नेतृत्व में एआईटी का गठन किया है। टीम में एसपी ग्रामीण एमपी सिंह, सीओ पिंडरा अनिल राय, सीओ सदर सत्येन्द्र तिवारी, एसओ चोलापुरख् क्राइम ब्रांच प्रभारी विक्रम सिंह व सर्विलांस प्रभारी राजीव रंजन उपाध्याय है। नयी टीम ने कॉल डिटेल खंगालने के साथ पेपर लीक से जुड़े प्रमाण जुटाने शुरू कर दिये हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस मामले में सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया है इसके बाद से पुलिस ने इस मामले में तेजी से जांच शुरू की है। पुलिस जानती है कि यह मामला बेहद हाई प्रोफाइल है यदि इस मामले की जांच में किसी तरह की चूक होती है तो पुलिस प्रशासन के लिए बड़ी किरकिरी होगी। ऐसे में पुलिस प्रशासन ने जांच में अपनी पूरी ताकत लगा दी है।
यह भी पढ़े:-UPPSC : प्रयागराज में बवाल, सुरक्षा बलों से भिड़े प्रतियोगी छात्र, पथराव

UPPSC
IMAGE CREDIT: Patrika

शिक्षा निदेशक के बाद अंजू कटियार की दूसरी बड़ी गिरफ्तारी हुई है
यह मामला कितना हाई प्रोफाइल है वह इससे समझा जा सकता है कि शिक्षा निदेशक संजय मोहन को रुपये लेकर टीईटी-11 में अभ्यर्थियों का अंक बढ़ाने का आरोप लगा था इसके बाद आठ फरवरी 2012 को उन्हें गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद लंबी कानूनी लड़ाई के बाद संजय मोहन को सुप्रीम कोर्ट से ही बेल मिल पायी थी। अब इसी तरह के एक अन्य मामले में अंजू कटियार गिरफ्तार हुई हैं। उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की परीक्षा नियंत्रक अंजू कटियार पर पेपर लीक करने का आरोप लगा है। इसके बाद ही उन्हें गिरफ्तार किया गया है।
यह भी पढ़े:-लोक सेवा आयोग कार्यालय पर छात्रों का हंगामा, पथराव, पुलिस फोर्स तैनात

Banaras Jila Jail
IMAGE CREDIT: Patrika

जेल में मिल रही है आम बंदियों जैसी सुविधा
बनारस के जिला जेल में ही अंजू कटियार बंद है। जेल में उन्हें आम बंदियों जैसे ही सुविधा मिल रही है। गिरफ्तारी वाली राज अंजू कटियार ने जाग कर जेल में राज बितायी थी दूसरे दिन उनके पति अखिलेश वर्मा व एक अन्य व्यक्ति अंजू कटियार से मिलने आये थे और उन्हें जल्द जमानत दिलाने की बात कही है। जेल में अंजू कटियार को आम कैदियों की तरह सुबह दलिया व गुड़ की चाय दी गयी। दोपहर में अरहर की दाल, चावल, रोटी और आलू बैगन की सब्जी दी गयी थी जिसे उन्होंने खाया भी।
यह भी पढ़े:-सपाइयों ने लोक सेवा आयोग के गेट पर लिखा चिलम सेवा आयोग, युवजन कार्यकर्ता गिरफ्तार

वाट्सएप चैटिंग से हो सकता है बड़ा खुलासा
पुलिस से जुड़े सूत्रों की माने तो प्रिंटिंग प्रेस के मालिक कौशिक व परीक्षा नियंत्रक अंजू कटियार की वाट्सएप चैटिंग से कई राज खुल सकते हैं। पुलिस ने परीक्षा नियंत्रक पर जो आरोप लगाया है वह सही है तो यह चैटिंग इस खेल के खुलासे में अहम रोल अदा कर सकती है। पुलिस के पास इस बात की जानकारी हो गयी है कि किन लोगों ने पैसे देकर खेल किया था। सारे लोगों की सूची बनायी गयी है और कुछ लोगों से पूछताछ भी की गयी है। पुलिस को भरोसा है कि जल्द ही इस मामले में बड़ा खुलासा होगा।
यह भी पढ़े:-UPPSC की परीक्षा नियंत्रक अंजू लता कटियार को भेजा गया जेल, मेंस की परीक्षा स्थगित

 

एलटी ग्रेड परीक्षा पेपर लीक प्रकरण
राजकीय विद्यालय में एलटी ग्रेड की 10768 शिक्षकों की भर्ती में पेपर लीक प्रकरण को लेकर ही कोहराम मचा हुआ है। आरोप है कि एलटी ग्रेड भर्ती में सामाजिक विज्ञान और हिन्दी विषय का पेपर लीक होने के मामले में लोक सेवा आयोग की परीक्षा नियंत्रक अंजू कटिहार का नाम आया था जिसके बाद उनकी गिरफ्तारी की गयी है और मामले की जांच तेजी से चल रही है इसके बाद ही पता चलेगा कि इस खेल में कौन-कौन लोग शामिल थे।
यह भी पढ़े:-राज्यमंत्री ने कहा सीएम योगी आदित्यनाथ सरकार है तो करना होगा काम

 

Devesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned