घने जंगल में दो साल के मासूम ने काटी भयावह रात, जानिए पूरा मामला

रात तीन बजे तक परिजन, पुलिस खोजते रहे...सुबह 8 बजे घास पर सोते हुए मिला मासूम निर्देश...

By: Shailendra Sharma

Published: 03 Jul 2021, 03:06 PM IST

विदिशा. घना जंगल, अंधेरी रात और बारिश के बाद जगह-जगह कीचड़, तेज चलती हवा और जंगल के सन्नाटे को चीरती कीड़ों और जानवरों की आवाजें बड़े-बड़ों को डराने के लिए काफी है। ऐसे में कोई आदमी अकेला फंस जाए तो उसकी दशा का अंदाजा लगाना भी आसान नहीं है। लेकिन ऐसे ही डरावने जंगल में अपने परिवार से बिछड़े दो साल के बच्चे निर्देश यादव ने पूरी रात बिताई। शाम से रात तीन बजे तक पुलिस, ग्रामीण और परिजन जंगल की खाक छानते रहे, लेकिन निर्देश नहीं मिला।

ये भी पढ़ें- बार-बार मायके आने पर महिला को दी ऐसी 'सजा' कि देखकर कांप जाएगी रूह, देखें वीडियो

vidisha_1.jpg

जंगल में अकेले काटी भयावह रात
विदिशा में करीब 18 घंटे की तलाश के बाद दूसरे दिन सुबह दो साल का मासूम निर्देश जंगल में घास पर जंगल बुक के मोगली की तरह सोता हुआ मिला है। दरअसल ग्यारसपुर तहसील के गांव पुतला हिम्मतपुर में देशराज यादव अपने परिवार और रिश्तेदारों के साथ घने जंगल में बने सिद्ध बाबा के स्थान पर आषाढ़ी पूजा करने गए थे। इन्हीं लोगों के साथ देशराज का दो साल का बेटा निर्देश भी था। वहीं जंगल में दाल-बाटी चूरमा बनाया और देवता को अर्पित किया गया। महिलाएं घाटी के ऊपर की ओर और पुरुष नीचे की ओर बैठकर भोजन के बाद बातें करने लगे। इसी बीच निर्देश उठकर कहीं चल दिया। परिवार के लोगों का भी ध्यान नहीं गया। महिलाएं सोचती रहीं कि पुरुषों के पास होगा, पुरुष सोचते रहे महिलाओं के पास होगा बच्चा। इसी भ्रम में सब घर भी पहुंच गए। लेकिन जब घर पहुंचने पर देशराज और उनके परिजनों को निर्देश कहीं नजर नहीं आया तो हडकंप मच गया। पुलिस को सूचना दी गई और परिवार के लोग, ग्रामीण और पुलिस शाम को ही जंगल की ओर रवाना हो गई।

ये भी पढ़ें- तहसीलदार ने लॉकडाउन में रुकवाई थी किसान की बेटी की शादी, अब खुद के खर्च पर कराए सात फेरे

photo_2021-07-02_17-34-38.jpg

18 घंटे बाद घास पर सोता मिला 'निर्देश'
घुप अंधेरी रात, बारिश का मौसम, चौतरफा सांय-सांय हवा और रात के घुप अंधेरे में कीड़ों और जानवरों की आवाज के सिवाय कुछ नहीं था। परिजन और ग्रामीणों सहित पुलिस भी लगातार जंगल में बढ़ती जा रही थी। लेकिन जब रात 3 बज गए और लोग थक गए तो हारकर वापस घर लौट आए। रात को ही बच्चे की गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखी गई। लेकिन देशराज का परिवार पूरी रात सो नहीं पाया। मां का रो रोकर बुरा हाल था। सुबह फिर परिजन, ग्रामीण और पुलिस जंगल में मासूम की तलाश के लिए निकल पड़े। सिद्ध बाबा के मंदिर के आसपास का पूरा इलाका भी छान मारा। इसी बीच करीब 1 किमी दूर जंगल में घास के बीच बच्चे को सोते देखा तो ग्रामीण और पुलिस दौड़ पड़े। पास जाकर देखा, बच्चा पूरी तरह सुरक्षित था, उसे गोद में उठाया तो जैसे सबके चेहरे खुशी से चमक उठे। विदिशा एएसपी संजय साहू ने बताया कि पूरी रात जंगल में अकेले रहने के बाद मासूम बच्चा जब सुरक्षित मिला तो काफी सुखद अनुभव था। पुलिस, ग्रामीण और परिजनों ने पूरी रात उसे ढूंढा। लेकिन जब वह सुबह सुरक्षित मिला तो सबकी खुशी देखने लायक थी।

देखें वीडियो- देखिए जब भैंस को पसंद नहीं आई निजी संचालकों की बीन तो फिर क्या हुआ ?

Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned