scriptRussia Attack on Ukraine through Ballistic Missile know How its Work | Ukriane पर बैलिस्टिक मिसाइल दाग रहा Russia, जानिए इस मिसाइल की खासियत | Patrika News

Ukriane पर बैलिस्टिक मिसाइल दाग रहा Russia, जानिए इस मिसाइल की खासियत

आखिरकार रूस ने यूक्रेन के खिलाफ जंग का ऐलान कर ही दिया। गुरुवार सुबह से ही रूस यूक्रेन पर बैलिस्टिक मिसाइलें दाग रहा है। जब किसी प्रक्षेपास्त्र के साथ दिशा बताने वाला यंत्र लगा दिया जाता है तो वह हथियार बैलिस्टिक मिसाइल बन जाता है। रूस ने यूक्रेन के जंग के बीच किसी भी देश को दखल ना देने की चेतावनी भी दी है।

नई दिल्ली

Published: February 24, 2022 11:19:34 am

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने आखिरकार गुरुवार को यूक्रेन के खिलाफ एलान-ए-जंग कर दिया है। पुतिन के एलान के तुरंत बाद ही यूक्रेन में विद्रोहियों के कब्जे वाले इलाके और राजधानी कीव में बड़े धमाकों की खबरें मिली हैं। यही नहीं रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने अन्य देशों को चेतावनी दी कि रूसी कार्रवाई में हस्तक्षेप करने की किसी भी कोशिश का अंजाम ऐसा होगा। रूस बैलिस्टिक मिसाइल के जरिए यूक्रेन पर हमला कर रहा है। यूक्रेन की राजधानी कीव में रूसी सेना की ओर से क्रूज और बैलिस्टिक मिसाइलें दागी जा रही हैं। दरअसल युद्ध में बैलिस्टिक मिसाइलों का इस्तेमाल आमतौर पर परमाणु बमों के लिए ही होता है लेकिन कुछ मामलों में पारंपरिक हथियारों के साथ भी इन्हें यूज किया जा रहा है।
Russia Attack on Ukrian through Ballistic Missile know How its Work
Russia Attack on Ukrian through Ballistic Missile know How its Work

रूस और यूक्रेन के बीच छिड़ी जंग को रोकने के लिए दुनियाभर के देश अपील कर रहे हैं। वहीं पुतिन ने इस युद्ध के बीच ना आने की चेतावनी दी है। पुतिन ने कहा है कि जो भी बीच में आएगा उसका अंजाम बुरा होगा। अपनी इस चेतावनी के साथ ही रूस ने यूक्रेन पर बैलिस्टिक मिसाइलें दागना शुरू कर दी हैं। आइए जानते हैं क्या होती है बैलिस्टिक मिसाइल और क्या है इनकी खासियत

यह भी पढ़ें

Putin Net Worth: रूस के राष्ट्रपति पुतिन के पास 43 प्लेन, 7000 कारें और भी बहुत कुछ, जानकर हैरान हो जाएंगे

क्या होती है बैलिस्टिक मिसाइल?

प्राचीन काल में युद्ध के दौरान शब्दभेदी बाण का इस्तेमाल किया जाता था। जिसको निशाना बनाना होता है बाण छोड़ते वक्त उसी का नाम लिया जाता था, कुछ ऐसा ही आधुनिक हथियार है बैलिस्टिक मिसाइल। दरअसल जब किसी प्रक्षेपास्त्र के साथ दिशा बताने वाला यंत्र लगा दिया जाता है तो वह हथियार बैलिस्टिक मिसाइल बन जाता है।
498.jpg
इस मिसाइल को जब अपने स्थान से छोड़ा जाता है या फिर कहें दागा जाता है तो यह पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण नियम के अनुसार अपने पूर्व निर्धारित लक्ष्य पर जाकर गिरता है। यह मिसाइल छोड़े जाने पर ऊपर जाते हुए यह पृथ्वी के सबसे ऊपर के वातावरण तक जाती है और फिर नीचे आती है। इस मिसाइल के इस तरह से जाने और आने के कारण ही इसे बैलिस्टिक मिसाइल कहा जाता है।

बैलिस्टिक मिसाइल की खासियत

Ballistic Missile की खासियत की बात करें तो इसकी मारक क्षमता 5000 किलोमीटर से लेकर 10000 किलोमीटर तक होती है। इस मिसाइल में जो दिशा यंत्र लगा होता है उसके कारण यह अपने प्रक्षेपण के शुरुआत में ही गाइड कर दी जाती है।

- इसके बाद जैसे यह ऊपर जाती है तो इसका निर्देश पाठ आर्बिटल मेकैनिक्स के सिद्धांतों और बैलिस्टिक्स के सिद्धांतों से निश्चित कर दिया है।

- वर्तमान समय में बैलिस्टिक मिसाइल को रासायनिक रॉकेट इंजिन के द्वारा प्रोपेल किया जाता है।

- इन मिसाइलों में बहुत बड़ी मात्रा में विस्फोटकों को ले जाने की क्षमता होती है।

- बैलिस्टिक मिसाइल अपना इंधन लेकर चलते हैं और उसमें इस्तेमाल होनेवाला ऑक्सीजन भी उनके साथ ही होता है

भारत के पास भी बैलिस्टिक मिसाइलें

भारत के पास बैलिस्टिक मिसाइलों का जखीरा है। मौजूदा समय में भारतीय सैन्य बेड़े में पृथ्वी, अग्नि और धनुष नाम की बैलिस्टिक मिसाइलें हैं।

पहली बैलिस्टिक मिसाइल कब बनी

सबसे पहली बैलिस्टिक मिसाइल नाजी जर्मनी ने 1930 से 1940 के मध्य में विकसित की थी। यह कार्य रॉकेट वैज्ञानिक वेन्हेर्र वॉन ब्राउन के संरक्षण और देखरेख में किया गया था।
497.jpg
सबसे पहले कब हुआ बैलिस्टिक का इस्तेमाल?

सबसे पहले इस मिसाइल का प्रयोग फ्रांस के विरुद्ध 6 सितंबर 1944 को किया गया था और इसके तुरंत दो दिन बाद लंदन पर इसका प्रयोग किया गया था। द्वितीय विश्व युद्ध के खत्म होने तक यानि 1945 वर्ष के मई मास तक बैलिस्टिक मिसाइल को 30,000 से भी ज्यादा बार प्रयोग किया गया था।

यह भी पढ़ें

यूक्रेन से भारतीयों को लाने के लिए एयर इंडिया ने शुरू किया मिशन, पहली फ्लाइट ने भरी उड़ान

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

मुस्लिम पक्षकार क्यों चाहते हैं 1991 एक्ट को लागू कराना, क्या कनेक्शन है काशी की ज्ञानवापी मस्जिद और शिवलिंग...जम्मू कश्मीर के बारामूला में आतंकवादियों ने शराब की दुकान पर फेंका ग्रेनेड,3 घायल, 1 की मौतमॉब लिंचिंग : भीड़ ने युवक को पुलिस के सामने पीट पीटकर मार डाला, दूसरी पत्नी से मिलने पहुंचा थादिल्ली के अशोक विहार के बैंक्वेट हॉल में लगी आग, 10 दमकल मौके पर मौजूदभारत में पेट्रोल अमेरिका, चीन, पाकिस्तान और श्रीलंका से भी महंगाकर्नाटक के राज्यपाल ने धर्मांतरण विरोधी विधेयक को दी मंजूरी, इस कानून को लागू करने वाला 9वां राज्य बनाSwayamvar Mika Di Vohti : सिंगर मीका का जोधपुर में हो रहा स्वयंवर, भाई दिलर मेहंदी व कॉमेडियन कपिल शर्मा सहित कई सितारे आएIPL 2022 MI vs SRH Live Updates : उमरान मलिक ने कराई हैदराबाद की वापसी, एक ही ओवर में झटके 2 विकेट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.