script भारतीय राजदूत तरनजीत सिंह संधू के साथ न्यूयॉर्क के गुरुद्वारे में हुई बदसलूकी पर अमेरिकी सिख संगठन हुआ नाराज़, उठाई कार्रवाई की मांग | Sikhs Of America gets angry about misbehaviour with Taranjit Sandhu | Patrika News

भारतीय राजदूत तरनजीत सिंह संधू के साथ न्यूयॉर्क के गुरुद्वारे में हुई बदसलूकी पर अमेरिकी सिख संगठन हुआ नाराज़, उठाई कार्रवाई की मांग

locationनई दिल्लीPublished: Nov 28, 2023 12:01:25 pm

Submitted by:

Tanay Mishra

Sikhs Of America Gets Angry: हाल ही में अमेरिका में भारतीय राजदूत तरनजीत सिंह संधू के साथ एक गुरुद्वारे में बदसलूकी हुई। इस पर एक अमेरिकी सिख संगठन सिख ऑफ अमेरिका ने नाराज़गी जताई है।

sikhs_of_america.jpg
Sikhs Of America

हाल ही में अमेरिका (United States Of India) में भारत (India) के राजदूत तरनजीत सिंह संधू (Taranjit SIngh Sandhu) के साथ हाल ही में बदसलूकी हुई। दरअसल गुरुनानक जयंती/गुरपुरब के अवसर पर न्यूयॉर्क (New York) में लॉन्ग आइलैंड (Long Island) शहर में एक गुरुद्वारे में तरनजीत प्रार्थना करने के लिए गए, तब वहाँ सिख फॉर जस्टिस (Sikhs For Justice) नाम के खालिस्तानी समर्थक संगठन के कुछ सदस्य भी मौजूद थे। उन खालिस्तानी समर्थकों ने न सिर्फ तरनजीत के साथ बहस की, बल्कि बदसलूकी भी की। साथ ही तरनजीत के सामने "तुमने निज्जर को मारा। तुमने पन्नू को मारने की साजिश रची।" के नारे भी लगाए। इसके बाद उन खालिस्तान समर्थकों ने तरनजीत के साथ धक्का-मुक्की भी की। इस मामले में अब एक अमेरिकी सिख संगठन ने अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए नाराज़गी जताई।


सिख ऑफ अमेरिका ने जताई नाराज़गी

तरनजीत के साथ हुई बदसलूकी पर सिंह ऑफ अमेरिका (Sikhs Of America) नाम के संगठन ने नाराज़गी जताई है। संगठन ने सोमवार को एक बयान जारी करते हुए तरनजीत के साथ हुई बदसलूकी की कड़े शब्दों में निंदा की और कहा कि गुरुद्वारा एक पूजा स्थल है और लोगों को गुरुद्वारे में आकर पूजा करनी चाहिए और अपने व्यक्तिगत राजनीतिक विचारों को दूर रखना चाहिए।

उठाई सख्त कार्रवाई करने की मांग

सिख ऑफ अमेरिका के संस्थापक और अध्यक्ष जसदीप सिंह जस्सी और इसके अध्यक्ष कंवलजीत सिंह सोनी ने एक संयुक्त बयान में गुरुद्वारा साहिब के प्रबंधन से तरनजीत के साथ बदसलूकी करने वाले उपद्रवियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की है जिससे न्यूयॉर्क में शांतिप्रिय सिख समुदाय बिना किसी डर या दबाव के कभी भी गुरुद्वारों में आ सके।

यह भी पढ़ें

एक ही दिन में दो बार भूकंप से दहला पापुआ न्यू गिनी, रिक्टर स्केल पर रही 6.5 और 4.6 की तीव्रता

ट्रेंडिंग वीडियो