अमरीका: राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को झटका, सेनेट ने पास किया यमन में हवाई हमले बंद करने का प्रस्ताव

अमरीका: राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को झटका, सेनेट ने पास किया यमन में हवाई हमले बंद करने का प्रस्ताव

Siddharth Priyadarshi | Publish: Mar, 14 2019 02:23:05 PM (IST) | Updated: Mar, 15 2019 09:57:38 AM (IST) अमरीका

  • अमरीकी सेनेट ने यमन में युद्ध पर पास किया प्रस्ताव
  • सऊदी अरब के नेतृत्व में यमन पर हो रहे हैं हमले
  • अमरीका इस युद्ध में करता है मदद

वाशिंगटन। अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को बड़ा झटका देते हुए सेनेट ने यमन में हवाई हमले बंद करने का प्रस्ताव पास कर दिया है। उधर सेनेट के इस फैसले के बाद वाइट हाउस और कांग्रेस के बीच फिर तनाव एक बार फिर गहराने की संभावना जताई जा रही है। वाइट हाउस ने इस कदम को "त्रुटिपूर्ण" बताते हुए वीटो की धमकी दी और कहा कि इससे दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों को नुकसान होगा और चरमपंथ से लड़ने की वाशिंगटन की क्षमता को गहरा आघात लगेगा।

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को बड़ा झटका

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को इस कदम से गहरा झटका लगा है। आपको बता दें कि ट्रंप लंबे समय से यमन में सऊदी नेतृत्व वाले हवाई हमलों का समर्थन कर रहे हैं। सेनेट ने अपने बयान में कहा है कि सऊदी नेतृत्व वाले हवाई हमले दुनिया का सबसे खराब मानवीय संकट हैं। इससे लगभग 14 मिलियन लोग जोखिम में हैं। सेनेट ने सऊदी अरब की विदेश नीति के साथ राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के गठबंधन को धता बताते हुए बुधवार को यमन में सऊदी अरब के नेतृत्व वाले हवाई हमलों का समर्थन समाप्त करने के लिए मतदान किया। अमरीका इस युद्ध में देश सऊदी गठबंधन को हथियार और ईंधन भरने की सुविधा देता आया है। रिपब्लिकन सांसदों द्वारा 46 के मुकाबले 54 के बहुमत के साथ इस प्रस्ताव के पक्ष में मतदान किया गया।सेनेट ने राष्ट्रपति ट्रंप को 30 दिनों के इस फैसले पर अमल करने का निर्देश दिया था।

यमन में हवाई हमले बंद करने का प्रस्ताव

वाइट हाउस ने इस कदम को 'त्रुटिपूर्ण' बताते हुए वीटो की धमकी दी और कहा कि इससे दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंध खराब होंगे।डोनाल्ड ट्रंप ने गुरुवार को दावा किया कि सीरिया में इस्लामिक स्टेट समूह ने अपना सारा इलाका खो दिया है। यदि सेनेट के यमन पर ताजा प्रस्ताव को पूर्ण रूप से पारित कर दिया जाता है, तो यह एक ऐतिहासिक कदम बन जाएगा। यह कांग्रेस द्वारा 1973 की युद्ध शक्तियों के प्रस्ताव को लागू करने का पहला प्रयास होगा जो सीधे राष्ट्रपति की सैन्य शक्तियों पर अंकुश लगाएगा। सीनेटर बर्नी सैंडर्स जो कि 2020 के चुनावों के लिए राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार हैं, उन्होंने कहा कि हम युद्ध में अमरीकी भागीदारी को समाप्त करके अपनी संवैधानिक शक्ति को पुनः प्राप्त करने की प्रक्रिया शुरू कर रहे हैं। रिपब्लिकन सीनेटर माइक ली ने सैंडर्स के बयान पर सहमति व्यक्त की।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर.

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned