राहत की खबर : 25 दिन में सबसे कम 8,970 नए केस और 84 मौतें, 6 दिन बाद नए मरीजों से ज्यादा स्वस्थ हुए लोग

मध्य प्रदेश में 25 दिनों बाद काेरोना को लेकर राहत की खबर : 24 घंटों के दौरान 8 हजार 970 नए केस सामने आए, 6 दिन बाद नए संक्रमित हुए मरीजों से ज्यादा लोग स्वस्थ हुए, पॉजिटिविटी रेट 14 फीसदी हुआ।

By: Faiz

Published: 12 May 2021, 03:58 PM IST

भोपाल/ मध्य प्रदेश में करीब एक माह से कोरोना के बेकाबू हालातों के बीच मंगलवार देर शाम प्रदेशवासियों के लिये राहत भरी अपडेट सामने आई है। प्रदेश में संक्रमितों की औसत संख्या में कमी आने लगी है। बीते 24 घंटों के दौरान प्रदेश में जहां 8 हजार 970 नए पॉजिटिव केस सामने आए, जो पिछले 25 दिनों में सबसे कम रहे। वहीं, 11 मई को प्रदेशभर के अस्पतालों से 10 हजार 324 मरीज स्वस्थ हुए हैं। ये संख्या भी 6 दिनों बाद स्वस्थ होने वालों की संख्या संक्रमितों की संख्या से अधिक रही। फिलहाल, कोरोना से हो रही मौतों के आंकड़े में अधिक कमी नहीं देखी गई है। जानकारों की मानें, तो जब केसेज में कमी आने लगी है, तो जल्द ही मौतों के मामले में भी सुधार होगा।

 

पढ़ें ये खास खबर- छत्तीसगढ़ की राह पर मध्य प्रदेश : शराब की होम डिलीवरी करने की तैयारी में सरकार


लगातार घट रहा है प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट

प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक, प्रदेश में पिछले 14 घंटों के दौरान 84 कोरोना संक्रमितों की मौत हुई है। इसके बाद प्रदेश में कोरोना से अब तक हुई मौतों का कुल आंकड़ा 6 हजार 679 पहुंंच गया है। मई के 11 दिनों में ही कोरोना से 867 लोगों की जान गई है। फिलहाल, थोड़ी राहत इस बात की है कि, प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट लगातार घट रहा है। 11 मई तक ये 14 फीसदी रिकॉर्ड पर रहा। हालांकि, उससे एख दिन पहले ही यानी 10 मई को 15 फीसदी पर था और ये पॉजिटिविटी रेट 1 मई को 25 फीसदी पर था।

 

पढ़ें ये खास खबर- UP के बाद अब MP की इस नदी में बहती मिली कई लाशें, ग्रामीणों में दहशत, कोरोना ग्रस्त शव होने की आशंका


आज प्रदेश में इतने एक्टिव केस

वहीं, मध्य प्रदेश में कुल एक्टिव केसों की संख्या 1 लाख 9 हजार 928 दर्ज हुई है। स्वास्थ्य विभाग की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक इंदौर में 1 हजार 597, भोपाल में 1 हजार 304, ग्वालियर में 492 और जबलपुर में 666 नए संक्रमितों की पुष्टि हुई है। प्रदेश में पिछले 24 घंटों के जौरान 84 संक्रमितों की जान भी गई है। इसमें भोपाल और इंदौर में 5-5 और ग्वालियर व जबलपुर में 7-7 लोगों ने कोरोना के कारण जान गंवाई, जबकि छोटे शहर रायसेन में 6, रतलाम व बैतूल में 5-5 और कटनी में 4 मरीजों की मौत हुई है।

 

पढ़ें ये खास खबर- ऑक्सीजन फ्लोमीटर की कालाबाजारी कर रहा था भाजपा नेता, पुलिस ने छापामारी कर किया गिरफ्तार


सरकार का फोकस रतलाम पर

मध्य प्रदेश में फिलहाल, सबसे खराब हालाता रतलाम के हैं। यही कारण है कि, सरकार का फोकस रतलाम में बढ़ रही मरीजों की संख्या को कम करना है। इस संबंध में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार देर शाम कोरोना की समीक्षा बैठक में इसे लेकर चिंता जताते हुए कलेक्टर को निर्देश दिए कि, कोरोना के नियंत्रण के लिए उचित कदम उठाएं। अस्पतालों में बेड की संख्या बढ़ाने पर काम करें। आपको बता दें कि, एक तरफ जहां मध्य प्रदेश का औसत पॉजिटिविटी रेट 14 फीसदी दर्ज किया गया है, वहीं अकेले रतलाम का पॉजिटिविटी रेट 26 फीसदी से अधिक है, जो प्रदेश के औसत पॉजिटिविटी रेट से जस्ट डबल है। पिछले 24 घंटे के दौरान यहां 5 मरीजों की मौत हुई है।

 

कोरोना वैक्सीन से जुड़े हर सवाल का जवाब - जानें इस वीडियो में

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned