सूर्य खोलेगा किस्मत के द्वार, नए साल में इन पर होंगी पैसों की बरसात

शुक्रवार रात से सूर्य के धनु राशि में प्रवेश होने से मलमास, नए साल में शुरू होगें 43 सावे

By: Suraksha Rajora

Updated: 14 Dec 2017, 09:00 PM IST

बूंदी. शुक्रवार रात से सूर्य के धनु राशि में प्रवेश होने से मलमास लग जाएगा जो 14 जनवरी तक रहेगा। लगभग तीन बजे सूर्य का धनु राशि में प्रवेश होने से विवाह, मुंडन, गृहप्रवेश, जनेऊ,गृहआरम्भ कार्य आदि वर्जित रहेगें। ज्यातिषाचार्य अमित जैन ने बताया कि 2018 में शुद्ध 43 सावे होगें। पिछले साल वर्ष 2017 में 60 सावे, नये साल में 22 जनवरी को बंसत पंचमी का अबूझ सावा रहेगा। सामान्यता मकर संक्रान्ति से सावे शुरू हो जाते है लेकिन शुक्र गृह अस्त होने के कारण 6 फरवरी से सावे शुरू होगें।

Read More: Omg बजरी माफिया ने ये कहा बहा दिया निर्दोषों का खून

तारा अस्त होने से जनवरी में कोई सावा नही-
धनु का मलमास में एक महीने तक और शुक्र ग्रह के अस्त होने से अगले साल जनवरी में कोई सावा नही है। शुक्र के उदय होने के बाद नए साल में 6 फरवरी को पहला सावा होगा। जबकि 23 फरवरी से आठ दिन के होलाष्टक लगने से मांगलिक कार्य नही हो सकेगें।

Read More: 4 साल किया आराम, चुनावी साल में करेंगे काम ...
14 मार्च को लगेगा मीन मलमास
14 मार्च बुधवार रात 11.43 बजे से सूर्य देव मीन राशि में प्रवेश करेगे दसके साथ मीन मलमास लग जाएगा जो 14 अप्रैल को मेष में सूर्य प्रवेश होने मांगलिक कार्य शुरू हो सकेगे।

Read More: मल्चिंग पद्धति से हो रही सब्जियों की पैदावार लागत कम, कमाई ज्यादा
शुभ विवाह मुहूर्त-
फरवरी- 6,7,18,19,20
मार्च- 2,3,5,6,12
अप्रैल-18,19,20,27,28,29
मई- 8,9,11,12
जून- 19,20,21,22,23,25,29
जुलाई- 2,6,7,10,11
दिसम्बर-12,13

Read More: बिना प्रदूषण प्रमाण पत्र के वाहन चालक हो जाए सावधान,टाइम-टू-टाइम प्रदूषण जांच नही करवाई तो लगेगी पैलेंटी
अबूझ एवं स्वयं सिद्ध मुहूर्त-
22 जनवरी बसंत पंचमी
17 फरवरी- फुलेरा दूज
18 अप्रैल अक्षय तृतीया
24 अप्रैल जानकी नवमी
30 अप्रैल पीपल पूनम
22 जून गंगा दशमी
21 जुलाई भडल्या नवमी
23 जुलाई देवशयनी एकादशी
19 नवम्बर देवउठनी एकादशी

Read More: बाघ आने से पहले आ धमका बब्बर शेर...देखते ही थम गई सांसें! सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल


14 जनवरी को सूर्य के मकर राशि में आने के बाद मांगलिक कार्येा की स्थिति बनेगी-
ज्योतिषाचार्य अमित शास्त्री ने बताया कि १४ जनवरी को सूर्य के मकर राशि में आने के बाद फिर से मांगलिक कार्येा की स्थिति बनेगी। हालांकि शुक्र का तारा अस्त होने के कारण पहला सावा ६ फरवरी के योग से शुरू होगा। इससे पहले २२ जनवरी को बसंत पंचमी के अवसर पर अबूझ सावे का योग रहेगा।


मलमास की विशिष्ट तिथियां
18 दिसम्बर सोमवती अमावस्या-
30दिसम्बर शनि प्रदोष
1 जनवरी पौष पूर्णिमा
14जनवरी- मकर संका्रन्ति

मलास में साधक इन बातों का रखें ध्यान -
-अपना समय ईश्वर की साधना और आध्यात्मिक कार्यो में लगाएं।
- धार्मिक कथाओं, प्रवचनों और देव आराधना में व्यस्त रहें।
- तेल से बने पकवानों का सेवन करें।
- कंबल और ऊनी वस्त्र दान करें।
- तीर्थ स्थानों पर स्नान कर पूजा अर्चना करें।

Suraksha Rajora
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned