सिडनी वनडे में हार के बाद फील्डरों और गेंदबाजों पर बरसे कोहली

-आस्ट्रेलिया से हार के बाद कप्तान विराट कोहली ने गेंदबाजों को ठहराया हार का जिम्मेदार।
-आस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए बनाए 374 रन। जवाब में भारत बना पाया 308 रन।
-कोहली बोले-20-25 ओवरों के बाद हमारी जो बॉडी लेंग्वेज थी वो निराशाजनक थी

By: भूप सिंह

Published: 27 Nov 2020, 08:52 PM IST

नई दिल्ली। भारत (India) को आस्ट्रेलिया दौरे (Australia Tour) पर शुक्रवार को पहले वनडे मैच (Ist ODI) में ही खराब प्रदर्शन के कारण 66 रनों से हार मिली। हार के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने फील्डरों और गेंदबाजों पर नारजगी जाहिर की है। आस्ट्रेलिया (Australia) ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवरों में छह विकेट खोकर 374 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया। यह आस्ट्रेलिया का भारत के खिलाफ वनडे में सर्वोच्च स्कोर भी है। आस्ट्रेलिया को इस स्कोर तक पहुंचाने में भारतीय फील्डरों (Indian Fielders) का भी हाथ रहा, जिन्होंने कैच भी छोड़े और ग्राउंड फील्डिंग (Ground Fielding) भी खराब की। गेंदबाज भी लगातार रन लुटाते गए।

India vs Australia: वनडे में सबसे महंगे भारतीय स्पिनर बने युजवेंद्र चहल

मैच के बाद कोहली ने कहा, 'हमें तैयारी करने का भरपूर समय मिला था। मुझे नहीं लगता कि जब आप एक टीम के तौर पर नहीं खेल पाते हो तो इसके लिए कोई बहाना होता है। हम अभी तक टी-20 खेल रहे थे, हमने लंबे समय बाद वनडे मैच खेला, लेकिन हमने काफी सारी वनडे क्रिकेट खेली है।'

India Vs Australia 1st ODI: सिडनी वनडे में 66 रनों से हारी टीम इंडिया।

कप्तान ने कहा, '20-25 ओवरों के बाद हमारी जो बॉडी लेंग्वेज थी वो निराशाजनक थी। अगर आप फील्डिंग में लगातार गलतियां करते रहोगे तो एक शीर्ष टीम आपको नुकसान पहुंचाएगी ही। बल्लेबाजों को परेशान करने के लिए सबसे जरूरी है कि हम लगातार विकेट लें लेकिन हम ऐसा नहीं कर सके।' कोहली ने साथ ही कहा कि टीम को कुछ ओवर पार्ट टाइम गेंदबाजों से कराने की तरफ भी ध्यान देना होगा।

डेब्यू मैच में 0 पर आउट हुए थे Suresh Raina, ऐसे बनाए कई सारे रिकॉर्ड्स, हुई नाइंसाफी तो लिया संन्यास

कोहली ने कहा, 'हमें पार्ट टाइम गेंदबाजों से काम लेने का तरीका निकालना होगा। दुर्भाग्यवश हार्दिक पांड्या गेंदबाजी के लिए तैयार नहीं है इसलिए हमें इस बात को मानना होगा और काम करना होगा। इस एरिया पर हमें ध्यान देना होग, क्योंकि यह टीम संतुलन के लिए बड़ी बात है। मार्कस स्टोइनिस और ग्लैन मैक्सवेल यह आस्ट्रेलिया के लिए करते हैं।' भारतीय बल्लेबाजों में सिर्फ हार्दिक पांड्या और शिखर धवन ही कुछ कर सके। पांड्या ने 90 और धवन ने 74 रनों की पारी खेली। भारत 50 ओवरों में आठ विकेट खोकर 308 रन ही बना सकी।

भूप सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned