scriptGST Collection in August 2019 is less than 1 Lakh crore | जीडीपी के बाद केंद्र सरकार को एक और झटका, अगस्त में जीएसटी कलेक्शन 1 लाख करोड़ से कम | Patrika News

जीडीपी के बाद केंद्र सरकार को एक और झटका, अगस्त में जीएसटी कलेक्शन 1 लाख करोड़ से कम

  • अगस्त माह में सरकार के पास जीएसटी कलेक्शन के रूप में कुल 98,202 करोड़ रुपये ही आया।
  • साल 2018 के अगस्त में कुल जीएसटी कलेक्शन 93,960 करोड़ था।

नई दिल्ली

Updated: September 02, 2019 09:24:38 am

नई दिल्ली। आर्थिक मंदी के खबरों के बीच केंद्र सरकार के लिए एक और बुरी खबर आ गई है। अगस्त माह के लिए देश का कुल वस्तु एवं सेवा कर संग्रह (जीएसटी कलेक्शन) एक लाख करोड़ रुपये के लक्ष्य से नीचे रही है। अगस्त माह में सरकार के पास जीएसटी कलेक्शन के रूप में कुल 98,202 करोड़ रुपये ही आया।

gst_refund.jpg

बीते रविवार को राजस्व विभाग (रेवेन्यू डिपार्टमेंट) ने इस संबंध में जानकारी दी। जुलाई में कुल जीएसटी कलेक्शन 1.02 लाख करोड़ का था। हालांकि अगर तुलना पिछले साल के अगस्त से करें तो यह 4.5 प्रतिशत ज्यादा है।

साल 2018 के अगस्त में कुल जीएसटी कलेक्शन 93,960 करोड़ था। इस साल दूसरी बार हुआ है जब जीएसटी कलेक्शन फिसलकर 1 लाख करोड़ के नीचे आया है। पहली बार ऐसा जून में हुआ था जब 99,939 करोड़ का कलेक्शन हुआ था।

यह भी पढ़ें

मंदी के बाद टूटी ऑटो सेक्टर की कमर, महिंद्रा से लेकर मारुति सुजुकी की बिक्री में गिरावट

केंद्र व राज्यों की कितनी कमाई

इस साल सेंट्रल जीएसटी कलेक्शन 17,733 करोड़, स्टेट जीएसटी 24,239 करोड़ और इंटिग्रेटेड जीएसटी संग्रह 48,958 करोड़ रुपये रहा। इसमें 24,818 करोड़ रुपये आयात से संग्रहित हुए। डिपार्टमेंट के आंकड़े के मुताबिक 7,273 करोड़ रुपये सेस से मिले जिसमें 841 करोड़ रुपये का कलेक्शन आयात से किया गया।

जुलाई का जीएसटीआर 3बी रिटर्न 31 अगस्त तक 75.80 लाख रुपये का फाइल किया गया। अगस्त महीने के नियमित शेटलमेंट के बाद केंद्र और राज्य सरकार को CGST से ₹ 40,898 करोड़ रुपये और SGST से 40,862 करोड़ रुपये का राजस्व मिला।

यह भी पढ़ें

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का आश्वासन, बैंकों के विलय से नहीं जाएगी एक भी कर्मचारी की नौकरी

विकास दर में घटकर 5 फीसदी

गौरतलब है कि आर्थिक मोर्चे पर मोदी सरकार को जीएसटी के पहले जीडीपी का झटका लगा। देश की विकास दर में गिरावट दर्ज हुई है।

पहली तिमाही (अप्रैल-जून) में विकास दर 5.8 फीसदी से घटकर 5 फीसदी हो गई। अगर सालाना आधार पर तुलना करें तो करीब 3 फीसदी की गिरावट है. एक साल पहले इसी तिमाही में जीडीपी की दर 8 फीसदी थी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

Assam Flood: असम में बारिश और बाढ़ से भीषण तबाही, स्टेशन डूबे, पानी के बहाव में ट्रेन तक पलटीकांग्रेस के बाद अब 20 मई को जयपुर में भाजपा की राष्ट्रीय बैठक, ये रहा पूरा कार्यक्रमTRAI के सिल्वर जुबली प्रोग्राम में PM मोदी ने लॉन्च किया 5G टेस्ट बेड, बोले- इससे आएंगे सकारात्मक बदलावपूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे के घर पर CBI की रेड, कार्ति बोले- कितनी बार हुई छापेमारी, भूल चुका हूं गिनतीकुतुब मीनार और ताजमहल हिंदुओं को सौंपे भारत सरकार, कांग्रेस के एक नेता ने की है यह मांगकोर्ट में ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश होने में संशय, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में एक बजे सुनवाई, 11 बजे एडवोकेट कमिश्नर पहुंचेंगे जिला कोर्टपूनियां हत्याकांड में बड़ा अपडेट : चौथे दिन भी नहीं हुआ पोस्टमार्टम, शव उठाने को लेकर मृतक के भाई के घर पर चस्पा किया नोटिसहरियाणा: हरिद्वार में अस्थियां विसर्जित कर जयपुर लौट रहे 17 लोग हादसे के शिकार, पांच की मौत, 10 से ज्यादा घायल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.