आरबीआई गवर्नर ने कहा, वित्त वर्ष 2021 में 6 फीसदी जीडीपी वृद्धि दर पर कायम

  • स्रोतों से आने वाले महीनों में कॉर्पोरेट क्षेत्र में ऋण प्रवाह बढ़ेगा
  • महंगाई दर के 7.59 फीसदी को लेकर आशंका को किया दूर

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक ( आरबीआई ) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने शनिवार को कहा कि दर कटौती हस्तांतरण में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है। उन्होंने महंगाई दर नवीनतम आंकड़े 7.59 फीसदी को लेकर किसी भी आशंका को यह कहते हुए दूर किया यह दर व्यापक रूप से आरबीआई के अपने अनुमानों के अनुरूप है।

यह भी पढ़ेंः- सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद DoT ने टेलीकॉम कंपनियों को बकाया रकम चुकाने के दिए आदेश

बजट बाद प्रस्तावों पर होने वाली परंपरागत चर्चा के लिए केंद्रीय वित्तमंत्री मुलाकात के बाद दास ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि आरबीआई वित्त वर्ष 2021 के लिए छह फीसदी सकल घरेलू उत्पाद ( जीडीपी ) की वृद्धि दर पर कायम है।

यह भी पढ़ेंः- Petrol Diese Price Today : डीजल 7 पैसे प्रति लीटर सस्ता, पेट्रोल लगातार 5वें दिन स्थिर

उन्होंने कहा कि कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट से निकट भविष्य में महंगाई दर पर लगाम लगेगी। उन्होंने कहा कि दर कटौती के हस्तांतरण पहले के 35 आधार अंकों की तुलना में सुधर कर 69 आधार अंक हुआ है और इसमें आगे भी सुधार होगा। दास ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि बैंकों, बाहरी उधार जैसे सभी स्रोतों से आने वाले महीनों में कॉर्पोरेट क्षेत्र में ऋण प्रवाह बढ़ेगा।

यह भी पढ़ेंः- रविशंकर प्रसाद की बिना जानकारी के जारी कर दिया था DoT ने आदेश

दूरसंचार पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के प्रभाव पर टिप्पणी करते हुए गनर्वर दास ने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो आरबीआई आंतरिक रूप से इस आदेश पर विचार-विमर्श करेगा। उन्होंने कहा कि आरबीआई द्वारा हाल ही में घोषित नए तरलता उपायों से प्रणाली में अधिक तरलता बनाने में मदद मिलेगी।

Show More
Saurabh Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned