Schemes For Women Entrepreneurs: महिलाओं को बिना गारंटी के मिलता हैं 25 लाख तक Loan, जानें कैसे

-9 Schemes For Women Entrepreneurs: महिला उद्यमियों के रास्ते में आने वाली हर बाधाओं को दूर करने के उद्देश्य से सरकार ( Schemes for Womens ) ने कई तरह की योजनाएं चला रखी है।
-उद्यमशीलता को बढ़ाने के लिए पूंजी एक प्रमुख कारक है। विभिन्न बैंक महिला उद्यमियों के लिए सस्ती दरों पर विशेष ऋण की सुविधा उपलब्ध कराती है।
-उद्यमशीलता ( Woman Entrepreneur Schemes ) के लिए केंद्र सरकार द्वारा कई सारी ऐसी योजनाएं लागू की गई है, जिससे महिला उद्यमी भारत के स्टार्टअप इकोसिस्टम में हर जगह देखी जा सकती हैं।

By: Naveen

Updated: 11 Jul 2020, 04:39 PM IST

नई दिल्ली।
9 Schemes For Women Entrepreneurs: महिला उद्यमियों के रास्ते में आने वाली हर बाधाओं को दूर करने के उद्देश्य से सरकार ( Modi Schemes for Womens ) ने कई तरह की योजनाएं चला रखी है। उद्यमशीलता को बढ़ाने के लिए पूंजी एक प्रमुख कारक है। इसके लिए विभिन्न बैंक महिला उद्यमियों के लिए सस्ती दरों पर विशेष ऋण की सुविधा उपलब्ध कराती है। आपको बता दें कि महिला सशक्तिकरण और महिलाओं की उद्यमशीलता ( Woman Entrepreneur Schemes ) को देखते हुए केंद्र सरकार द्वारा कई सारी ऐसी योजनाएं लागू की गई है, जिससे महिला उद्यमी भारत के स्टार्टअप इकोसिस्टम में हर जगह देखी जा सकती हैं। इन योजना ( Schemes for Women Entrepreneurs ) के तहत महिलाएं न सिर्फ खुद का बिजनेस शुरू कर सकेंगी, बल्कि आत्मनिर्भर भी होगी। आज हम आपको 9 ऐसी योजनाओं के बारे में बता रहे हैं, जो महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा दे रही है।

woman_scheme_01.jpg

ओरिएंटल महिला विकास योजना ( Orient Mahila Vikas Yojana Scheme )
इस योजना के तहत ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स द्वारा उन महिलाओं को लोन उपलब्ध कराती है, जो व्यक्तिगत रूप से या फिर संयुक्त रूप से एक मालिकाना चिंता के चलते 51% शेयर पूंजी रखती हैं। इस योजना के तहत महिला उद्यमी को लघु उद्योगों के लिए 10 लाख से लेकर 25 लाख तक का ऋण दिया जाता है। हालांकि, इस ऋण को लेने के लिए किसी भी प्रकार के गारंटर की आवश्यकता नहीं होती हैं। महिला उद्यमी अपने ऋण का पुर्नभुगतान 7 वर्ष की अवधि के दौरान कर सकती है। इसके तहत 2% ऋण ब्याज दर की महिला उद्यमी को रियायत भी दी जाती हैं।

उद्योगिनी योजना ( Udyogini Scheme )
इस योजना के तहत 18 से 45 वर्ष उम्र की महिलाओं को व्यवसाय, कृषि, खुदरा और छोटे उद्यमी क्षेत्र में काम करने के लिए एक लाख रुपये तक ऋण दिया जाता है। अगर महिला उद्यमी के परिवार की वार्षिक आय 45000 से कम है, तभी वह इस योजना के द्वारा ऋण ले सकते हैं। इसमें एससी और एसटी श्रेणियों की विधवा, निराशत्र या विकलांग महिलाओं को 10 हजार तक के ऋण पर 30% की सब्सिडी भी प्रदान की जाती है।

Sukanya Samriddhi Yojana: सुकन्या समृद्धि योजना में सरकार ने दी बड़ी छूट, ऐसे मिलेंगे 64 लाख रुपये

woman_scheme_02.jpg

मुद्रा योजना ( Mudra Yojana Scheme )
इस योजना के तहत व्यवसाय छोटे उद्यमों से शुरू करने वाली महिलाओं को लोन दिया जाता है। इसमें ट्यूशन सेंटर, टेलरिंग यूनिट या फिर ब्यूटी पार्लर आदि शामिल है। ऋण प्रदान करते समय आपको एक मुद्रा कार्ड भी दिया जाएगा और यह मुद्रा कार्ड आपके क्रेडिट कार्ड के समान ही कार्य करेगा और इस पर ऋण राशि के 10% तक सीमित धनराशि जमा होगी। इस योजना के तहत शिशु जिसमें ऋण राशि 50000 तक सीमित हैं। वहीं,
किशोर में ऋण राशि 50000 से लेकर 5 लाख रुपए के बीच दिया जाता है। तरुण में ऋण राशि की राशि 10 लाख होती है।

भारतीय महिला बैंक व्यवसायिक ऋण ( Bharatiya Mahila Bank Business Loan )
भारतीय महिला बैंक व्यवसायीक ऋण को उन महिला उद्यमियों के लिए लागू किया गया है, जो नया उद्यम खुदरा क्षेत्र में संपत्ति और SME से शुरू करना चाहती है। महिला उद्यमी को इस योजना के तहत अधिकतम ऋण राशि 20 करोड़ तक दी जाती हैं और जिस पर 0.25% की छूट भी दी जाती है। इसे ऋण राशि पर ब्याज दर आमतौर पर 10.15% या फिर उससे अधिक की होती है।

Post Office Schemes: जानें, SSY, NSC, PPF, SCSS और Fixed Deposit की Latest ब्याज दर?

woman_scheme_04.jpg

अन्नपूर्णा योजना ( Annapurna Scheme )
अन्नपूर्णा योजना के तहत वे महिला उद्यमी जो पैक किए गए भोजन, नाश्ते आदि खाद्य वस्तुओं को बेचने के लिए खाद्य खानपान उद्योग स्थापित करना चाहती हैं। इस योजना के भीतर स्टेट बैंक ऑफ मैसूर द्वारा महिला उद्यमियों को 50 हजार रुपये का लोन दिया जाता है। महिलाएं इसे 36 महीनों की मासिक किस्तों पर भुगतान कर सकती है। यह ऋण महिला उद्यमी की प्राथमिक जरूरतों को पूर्ण करने के लिए दिया जाएगा, यानी कि बर्तन और अन्य उपकरणों को खरीदने के लिए।

देना शक्ति योजना ( Dena Shakti Scheme )
अगर महिला उद्यमी कृषि, विनिर्माण ,सूक्ष्म-ऋण, खुदरा स्टोर या फिर सूक्ष्म उद्यमों के क्षेत्र में अपना व्यवसाय बढ़ाना चाहती हैं और जिन्हें वित्तीय सहायता की आवश्यकता होती हैं। उन्हें ऋण देना शक्ति योजना के तहत प्रदान किए जाते हैं। महिला उद्यमी को खुदरा व्यापार के लिए इस योजना के तहत अधिकतम ऋण राशि 20 लाख दी जाती है, जिस पर ब्याज दर जीरो प्वाइंट 25% होती हैं। ऋण में प्रदान की गई बैंक द्वारा इस राशि को महिला उद्यमी किस्तों के मासिक भुगतान के द्वारा बड़ी ही आसानी से चुका सकती हैं।

woman_scheme_03.jpg

सेंट कल्याणी योजना ( Cent Kalyani Scheme )
अगर महिला अपना नया उद्यम शुरू करना चाहती हैं या फिर उसे संशोधित करना चाहती हैं, तो सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के द्वारा उन्हें ऋण की डीएचएस योजना का लाभ दिया जाता है। इस योजना के तहत यह ऋण उन महिला उद्यमियों द्वारा लिया जा सकता है जो गांव, लघु और मध्यम उद्योगों, स्वरोजगार, कृषि खुदरा व्यापार जैसे व्यवसायिक उद्यमों में शामिल होती हैं। इसी योजना के तहत महिला उद्यमी को ऋण लेते समय किसी भी गारंटर की आवश्यकता नहीं पड़ती हैं और इस योजना के तहत दी जाने वाले अधिकतम ऋण राशि 1 लाख हैं।

महिला उद्यम निधि योजना ( Mahila Udyam Nidhi Scheme )
महिला उद्यम निधि योजना को पंजाब नेशनल बैंक द्वारा शुरू किया गया है। इस योजना के तहत उद्देश्य लघु उद्योग में शामिल महिला उद्यमों को ऋण दिया जाता है।ऋण राशि को महिला उद्यमी द्वारा 10 वर्षों की अवधि में बड़ी ही आसानी से चुकाया जा सकता है। महिला निधि योजना के तहत ब्यूटी पार्लर, डे केयर सेंटर, ऑटो रिक्शा सेमत अलग-अलग ऋण योजनाएं भी शामिल है। इसी योजना के तहत दी जाने वाली अधिकतम ऋण राशि 10 लाख रुपये हैं।

woman_scheme_05.jpg

स्त्री शक्ति योजना ( Stree Shakti Packages )
यह योजना महिला उद्यमियों को ऋण राशि में छूट की दर प्रधान करवाती हैं। इसी योजना के तहत अगर महिला उद्यमी की ऋण की राशि 20 लाख रुपये से अधिक होती हैं, तो यह 0.50% की छूट उस ब्याज दर पर प्रदान करवाती है। सरकार द्वारा इसी योजना को एसबीआई बैंक की अधिकांश शाखाओं द्वारा संचालित की गई है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned