मोबाइल में छिपा है स्कूल में फांसी लगाने वाले छात्र-छात्रा की मौत का राज

84 मिस काॅल में उलझी स्कूल में फांसी का फंदा लगाने वाले छात्र-छात्रा की मौत की गुत्थी

By: lokesh verma

Published: 07 Jan 2019, 12:24 PM IST

ग्रेटर नोएडा. रबूपुरा थाना क्षेत्र में एक स्कूल में छात्र-छात्रा की मौत के मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ चुकी है, जिसमें फांसी का फंदा लगाने से मौत की पुष्टि हुर्इ है। वहीं मौके से मिले छात्र के मोबाइल का पासवर्ड पुलिस अभी तक नहीं खोल पार्इ है। बताया जा रहा है कि मोबाइल में 84 मिस काॅल मिली हैं। हालांकि परिजनों ने 26-27 मिस काॅल की जानकारी दी है। अब पुलिस की जांच मिस काॅल पर आकर टिक गर्इ है। इस मामले में थाना प्रभारी सुनील कुमार का कहना है कि मोबाइल का लाॅक खोलने का प्रयास किया जा रहा है। लाॅक खुलने के बाद ही ज्यादा जानकारी मिल सकती है।

यह भी पढ़ें- भीषण सड़क दुर्घटना में भाजपा के वरिष्ठ नेता की मौत, देखें मौत का लाइव वीडियो-

बता दें कि रबूपुरा थाना क्षेत्र के एक स्कूल में 11वीं कक्षा की एक छात्रा आैर 12वीं कक्षा के एक छात्र ने फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली थी। शुरुआती जांच में सामने आया था कि दोनों एक दूसरे से प्यार करते थे। छात्र का दो माह पहले ही रिश्ता तय हुआ था आैर 9 फरवरी को उसकी शादी थी। इसी से आहत छात्र-छात्रा ने मौत को गले लगा लिया था। अब इस घटना की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ चुकी है, जिसमें फांसी से फंदा लगाने के कारण मौत की पुष्टि हुर्इ है।

अजब-गजबः ठंड से बचाने के लिए बाबा साहेब की प्रतिमा को पहनाए गर्म कपड़े, भड़का दलित समाज, देखें वीडियो-

थाना प्रभारी सुनील कुमार का कहना है कि अब मौके पर मिले छात्र के मोबाइल फोन की जांच की जा रही है। उनके अनुसार मोबाइल में 84 मिस काॅल हैं, जिनसे घटना की ज्यादा जानकारी मिल सकती है। फिलहाल पुलिस इस मोबाइल के लाॅक को खोलने के प्रयास में जुटी है। लाॅक खोलने के लिए छात्र के परिजनों से मदद ली गर्इ, लेकिन अभी तक इसमें सफलता नहीं मिल सकी है। लाॅक खुलने के बाद ही यह साफ हो पाएगा कि आखिर ये मिस काॅल किसने की हैं आैर घटना से उसका क्या लेना-देना है।

यह भी पढ़ें- सर्दियों में सोने से पहले करें इस चीज का सेवन तो कभी नहीं होगा खांसी-जुकाम

lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned