हाथरस: बिटिया के गांव में बदला माहौल, बजने लगी शहनाइयां

Highlights

- हाथरस कांड के दो महीने बाद अब बिटिया के गांव बूलगढ़ी में पटरी पर लौटने लगा जनजीवन

- शादी के सीजन में बदलने लगा बूलगढ़ी गांव का माहौल

- सीआरपीएफ की सुरक्षा के बीच बिटिया के घर अभी भी खामोशी

By: lokesh verma

Published: 30 Nov 2020, 03:02 PM IST

हाथरस. बहुचर्चित हाथरस कांड को दो महीने बीतने के बाद अब बिटिया के गांव बूलगढ़ी में जनजीवन पटरी पर लौटने लगा है। सीआरपीएफ की सुरक्षा के बीच भले ही बिटिया के घर अभी भी खामोशी छाई हुई है, लेकिन शादी के सीजन में गांव का माहौल बदलने लगा है। गांव शादी की शहनाइयां बजने लगी हैं। दो पहले ही एक युवक शादी कर गांव में दुल्हन लेकर आया है। वहीं एक अन्य युवक की शादी की तैयारियां चल रही हैं। इनके अलावा गांव में कई लड़के-लड़कियों की शादी इसी सीजन में होनी है।

यह भी पढ़ें- फेरों से पहले ही बेहोश होकर गिरा दूल्हा, दुल्हन ने शादी से किया इनकार

उल्लेखनीय है कि 14 सितंबर को हाथरस की बेटी पर हमला हुआ था और 29 सितंबर को बिटिया ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। पुलिस प्रशासन ने गर्म माहौल के बीच ही देर रात बिटिया के शव का अंतिम संस्कार कर दिया था। इसके बाद बूलगढ़ी गांव राजनीति का अखाड़ा बन गया था, जिसे देखते हुए पुलिस-प्रशासन ने बाहरी लोगों के आने पर प्रतिबंध लगा दिया था। गांव में पहचान पत्र देखकर केवल ग्रामीणों को ही प्रवेश दिया जा रहा था। ग्रामीण चिंतित थे कि इस सीजन में उनके घर में शादी का आयोजन कैसे होगा। इस मामले में एसआईटी के बाद सीबीआई की जांच शुरू हुई तो पीड़ित परिवार को सीआरपीएफ की सुरक्षा दी गई। इसके बाद बूलगढ़ी में बाहरी लोगों की आवाजाही शुरू हो गई और ग्रामीणों का जनजीवन पटरी पर लौटने लगा है।

बता दें कि गांव में शादियाें का दौर भी शुरू हो गया है। ग्रामीणों ने बताया कि दो पहले ही शनिवार को ही गांव में सीजन की पहली शादी हुई है। बूलगढ़ी से एक युवक की बारात हाथरस गई थी, जहां युवक दुल्हन लेकर गांव लौटा है। ग्रामीणों ने बताया कि अब वह अच्छा महसूस कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि इस सीजन में गांव के कई परिवारों में बेटे-बेटियों की शादियां हैं। गांव के परिवारों में शादी की तैयारियां भी चल रही हैं और उनमें शरीक होने दूर-दराज से रिश्तेदार भी आ रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्रकरण के बाद से बाहरी लोग हमारे गांव में रिश्ते करने से कतरा रहे थे, लेकिन अब हमारे गांव में बेटे और बेटियों के शादी के प्रस्ताव भी आ रहे हैं।

बिटिया के घर खामोशी

ज्ञात हो कि सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर बिटिया के घर सीआरपीएफ के जवान तैनात हैं। सीआरपीएफ के जवान पूरे गांव में घूम-घ्रूमकर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा ले रहे हैं। इसके साथ ही बिटिया के परिवार से मिलने वाले हर व्यक्ति पर पैनी नजर रखी जा रही है। हालांकि बिटिया के परिवार में अभी भी खामोशी छाई हुई है।

यह भी पढ़ें- शादी के मंडप में ही दूल्हे ने पत्नी को दे दिया तलाक, जानिये फिर क्या हुआ

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned