script गुरु नानक देव की अयोध्या यात्रा का SC ने किया ज़िक्र, 'एक ही दिन में दो अहम फैसले आना नहीं कोई संयोग' | guru nanak ayodhya yatra key evidence in Ayodhya dispute | Patrika News

गुरु नानक देव की अयोध्या यात्रा का SC ने किया ज़िक्र, 'एक ही दिन में दो अहम फैसले आना नहीं कोई संयोग'

locationनई दिल्लीPublished: Nov 11, 2019 11:05:35 am

Submitted by:

Priya Singh

  • साल 1949 से उलझा हुआ राम जन्मभूमि का मामला आखिरकार सुलझ गया
  • सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव ने सन 1510-11 में अयोध्या की यात्रा की थी

guru nanak ayodhya yatra key evidence in Ayodhya dispute
guru nanak ayodhya yatra key evidence in Ayodhya dispute

नई दिल्ली। अयोध्या विवाद ( Ayodhya verdict ) में SC ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण को अहम आधार बनाया था। इसी के तहत साल 1949 से उलझा हुआ राम जन्मभूमि का मामला आखिरकार सुलझ गया। अयोध्या मामले में हर पक्ष की दलीलों को केंद्रित करते हुए फैसला सुनाया गया। अदालत ने आदेश सुनाते हुए बताया कि सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव ने अयोध्या की यात्रा की थी। उन्होंने सन 1510-11 में भगवान राम की जन्मभूमि के दर्शन किए थे। गुरु नानक देव की अयोध्या यात्रा के पुख्ता प्रमाण हैं जिससे पता चलता है कि 1528 ईसवी से पहले भी तीर्थयात्री भगवान राम की जन्मभूमि की तीर्थयात्री को जाया करते थे।

फेक अलर्ट: आ चुका है अयोध्या फैसला अब होंगे सबके कॉल रिकॉर्ड? पुलिस ने बताई इसकी सच्चाई

Ayodhya disputeजन्म साखी में है यह उल्लेख

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जन्म साखी में यह उल्लेख है कि गुरु नानक देव जी अयोध्या गए थे और उन्होंने राम जन्मभूमि का दर्शन किया था। जन्म साखी को शीर्ष अदालत में रिकॉर्ड पर रखा गया है। गुरु नानक देव का राम जन्मभूमि का दर्शन करने आयोध्या जाने की घटना से साफ है राम जन्मभूमि का अस्तित्व था। बता दें कि इस तथ्य का अवलोकन करने वाले जज का नाम नहीं बताया गया है।
नंगे पैर खड़े होकर इस एंकर ने पढ़ी अयोध्या फैसले की खबर, सोशल मीडिया पर हुई तारीफ

lord_ram.jpg'उसी दिन करतारपुर कॉरिडोर का उदघाटन महज एक संयोग नहीं'

सिख धर्म के जानकार, चिंतक और लेखक डॉ. सत्येंद्र पाल सिंह एक हिंदी वेब पोर्टल को दिए एक इंटरव्यू में बताया कि 'अयोध्या की पहचान श्री राम से है।' उनका मानना है कि '9 नवंबर को अयोध्या पर SC का फैसला आना और उसी दिन करतारपुर कॉरिडोर का उदघाटन महज एक संयोग नहीं, बल्कि सत्य का सिद्ध होना है।'

ट्रेंडिंग वीडियो