कोविड सेंटर का कारनामा, एक रूम में भर्ती किये कोरोना के 2 मरीज, किराया वसूल रहे डबल

अधिक से अधिक पैसे कमाने के लालच में इस अस्पताल के कोविड सेंटर में कोरोना के दो मरीजों को एक साथ एक ही रूम में भर्ती कर रखा है।

By: Faiz

Published: 07 Sep 2020, 05:32 PM IST

इंदौर/ मध्य प्रदेश के इंदौर में जहां कोरोना संक्रमण को लेकर हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं। वहीं, शहर के निजी अस्पताल में बने कोविड सेंटर की गंभीर लापरवाही सामने आई है। विपदा की इस घड़ी में भी प्राइवेट अस्पताल अधिक से अधिक पैसे कमाने में जुटा हुआ है। लापरवाही की इंतेहा तो ये रही कि, अधिक से अधिक पैसे कमाने के लालच में इस अस्पताल के कोविड सेंटर में कोरोना के दो मरीजों को एक साथ एक ही रूम में भर्ती कर रखा है। ये अस्पताल एक मरीज से दोगुना किराया भी वसूल रहा है।

 

पढ़ें ये खास खबर- Weather Alert : उमस और गर्मी ने किया लोगों को परेशान, इन जिलों में फिर बारिश का अलर्ट


सरकार की नकेल का निकाला इलाज

इन दिनों चल रहे कोरोना काल चल रहा है। ऐसे में प्राइवेट अस्पताल मरीजों से 1 दिन का 35 हज़ार से लेकर 1 लाख रुपये तक वसूल रहे थे। मीडिया ने शोर मचाया तो प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेशभर के लिए निर्देश जारी किए। इसपर इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने अस्पतालों के फीस और शुल्क फिक्स कर दिए। अस्पतालों ने कलेक्टर की रेट लिस्ट का पालन तो करना शुरु कर दिया, लेकिन उसमें भी अधिक से अधिक पैसे कमाने के लिए अस्पताल को हॉस्टल बना दिया। एक प्राइवेट रूम में एक की जगह दो बेड लगा दिये हैं। कलेक्टर की रेट लिस्ट भी फॉलो हो रही है और एक कमरे से कमाई डबल।

 

पढ़ें ये खास खबर- Corona Update : 24 घंटे में सामने आए 276 नए कोरोना पॉजिटिव, अब तक 418 की मौत


एक मरीज की जगह पर दो को किया भर्ति

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इंदौर में सबसे ज्यादा फीस वसूलने वाले एक प्राइवेट अस्पताल ने छठे फ्लाेर के 14 प्राइवेट रूम में से 10 में एक-एक पलंग बढ़ा दिया है। अब यहां 32 के बजाय 42 मरीजों को भर्ती किया जा रहा है। शिकायत करने पर कहा जाता है कि, कोविड मरीज बढ़ रहे हैं, एडजस्ट करना होगा।

 

पढ़ें ये खास खबर- उपचुनाव में जीत का आशीर्वाद लेने गए थे पूर्व विधायक, जनता के विरोध पर उलटे पाव लौटे, वीडियो वायरल


पति-पत्नी को एक रूम में रखा पर किराया दोनों से पूरा वसूला

कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद जावरा के वरुण क्षत्रीय को 24 अगस्त को रूम नं. 611 में रखा था। दो दिन बाद पत्नी शशिप्रभा भी पॉजिटिव आईं। कागजों में शशि को रूम नं. 401 में भर्ती करना बताया, जबकि उन्हें वरुण के रूम में ही भर्ती किया गया। शशि के पेपर में सेमी प्राइवेट का जिक्र था, लेकिन चार्ज प्राइवेट का वसूला गया। वरुण ने बताया कि, उनके रूम में पत्नी को ही रखा, इसलिए आपत्ति नहीं ली। बताते हैं कि, शशि को जहां से शिफ्ट किया, वहां दूसरा मरीज भर्ती कर दिया गया।

 

पढ़ें ये खास खबर- कोरोना ब्लास्ट : यहां फिर लागू हुई धारा 144, उपचुनाव के बावजूद नहीं होंगे राजनीतिक कार्यक्रम

अस्पताल नहीं माना तो होना पड़ा दूसरे अस्पताल में भर्ती

राऊ की सप्तश्रृंगी कॉलोनी के चंद्रशेखर परांजपे 28 अगस्त को एप्पल हॉस्पिटल के प्राइवेट रूम नंबर 617 में भर्ती हुए। इसी रूम में एक अन्य मरीज मित्तल को भी भर्ती कर दिया। दो दिन बाद मित्तल चले गए तो दूसरा मरीज आ गया। परांजपे ने आपत्ति ली तो सुनवाई नहीं हुई। इस पर वे 1 सितंबर को यहां से अरबिंदो शिफ्ट हो गए।

 

पढ़ें ये खास खबर- चीन से जारी तनाव के बीच भारतीय सेना का बढ़ा दम, इस ताकतवर तोप की टेस्टिंग रही सफल


अस्पताल के रूम चार्ज में खाना भी शामिल होता है, लेकिन लेते है 950 एक्स्ट्रा

हॉस्पिटल के रूम चार्ज में चाय, नाश्ता और दोनों समय का भोजन शामिल है, लेकिन कोविड मरीजों से 500 रुपए मील और 450 रुपए डायटीशियन विजिट के अलग से वसूले जाते हैं। यानी रोजानामरीज को रूम रेंट के अलावा 950 अधिक शुल्क देना होता है।

 

पढ़ें ये खास खबर- PPE किट पहनकर पहुंचे अस्पताल के कोविड सेंटर, डॉक्टरों से की मारपीट

 

इंदौर के अस्पतालों में 2000 वाला रूम 3500 में वह भी आधा

मिली जानकारी के मुताबिक, हॉस्पिटल में सेमी प्राइवेट रूम का चार्ज आम दिनों में 2 से ढाई हजार रुपए है, उसे बढ़ाकर 3500 से 4500 कर दिया गया है। प्राइवेट रूम का अधिकतम 7500 था, जिसे बढ़ाकर 10 हजार रुपये कर दिया है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned