scriptGuptNavratr इन देवी दरबारों में होती है मंत्र सिद्धि, बड़े बड़े तांत्रिक करते हैं साधना | #GuptNavratr : Mantra siddhi happens in these Devi darbars, big tantriks do sadhna | Patrika News
जबलपुर

GuptNavratr इन देवी दरबारों में होती है मंत्र सिद्धि, बड़े बड़े तांत्रिक करते हैं साधना

GuptNavratr इन देवी दरबारों में होती है मंत्र सिद्धि, बड़े बड़े तांत्रिक करते हैं साधना

जबलपुरJul 06, 2024 / 01:22 pm

Lalit kostha

Chausath Yogini temple

Chausath Yogini temple

जबलपुर. संस्कारधानी में शक्ति की उपासना सदियों से चली आ रही है। शक्ति की वामाचार साधना के लिए यहां के तांत्रिक मंदिरों की ख्याति रही है। भेड़ाघाट स्थित चौसठ योगिनी का मंदिर (गोलकी मठ), शास्त्री नगर का भैरव मंदिर (बाजनामठ) व मिलौनीगंज स्थित बड़ी खेरमाई का मंदिर तंत्र साधना के केंद्र माने जाते रहे हैं। अब वामाचार साधक नगण्य हैं। गुप्त नवरात्र में इन तांत्रिक मंदिरों में अब भी बड़ी संख्या में भक्तजन तंत्रसाधना के लिए पूजन करने पहुंचते हैं। आषाढ़ मास की गुप्त नवरात्र शनिवार को शुभमुहूर्त में घटस्थापना के साथ आरम्भ होगी।
पहले दिन देवी शैलपुत्री व महाविद्या मां काली की होगी उपासना
वामाचार साधना केंद्र थे बाजनामठ गोलकीमठ और बूढ़ी खेरमाई मंदिर

badi khermai temple jabalpur
badi khermai temple jabalpur
पहुंचेंगे तंत्र साधक

नगर के शक्तिपीठों में देवी के विशेष शृंगार किए जाएंगे। दस दिन तक शक्तिपूजा व अनुष्ठान होंगे। गुप्त नवरात्र के पहले दिन देवी शैलपुत्री व महाविद्या माता काली की उपासना होगी। बाजनामठ, चौसठ योगिनी मंदिर व बूढ़ी खेरमाई मंदिर में रात्रिकाल में तंत्र साधक पहुंचेंगे।
kaal_bhairav_ashtami.jpg
कालभैरव जयंती पर राशि अनुसार मंत्र
तंत्र विद्या का अनुसंधान केंद्र था बाजनामठ

शास्त्री नगर में पांच सौ वर्ष पुराना भैरवनाथ का मंदिर बाजनामठ तंत्र साधना के लिए जाना जाता है। यह देश के प्रमुख तांत्रिक मंदिरों में गिना जाता है। पहाड़, तालाब के साथ ही इस मंदिर से प्राकृतिक नजारा देखते ही बनता है। मेडिकल कॉलेज के आगे बने इस मंदिर की बनावट भी अद्भुत है। जो हर मंदिर में देखने नहीं मिलती। क्योंकि इसकी हर ईंट शुभ नक्षत्र में मंत्रों द्वारा सिद्ध करके जमाई गई है। मंदिर के पुजारी बताते हैं कि ऐसे मंदिर पूरे देश में कुल तीन हैं। एक बाजनामठ, दूसरा काशी और तीसरा महोबा में हैं। बाजनामठ को भैरव की क्रीड़ा स्थली भी कहा जाता है। इतिहासकार डॉ. राणा के अनुसार यही कारण है कि गोलकीमठ विवि (वर्तमान में चौसठ योगिनी मंदिर भेड़ाघाट) में तंत्र विद्या प्राप्त करने वाले इस मंदिर में साधना के लिए पहुंचते थे। यहां भैरव का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए तांत्रिक कई दिन तक धूनी रमाए रहते थे। यह तंत्र विद्या का एक बड़ा अनुसंधान केंद्र था। गुप्त नवरात्र पर यहां शक्ति व भैरव के उपासक बड़ी संख्या में पहुंचेंगे। गुप्त नवरात्र में रात के समय साधक माता की साधना भी करते हैं। यह गुप्त होने की वजह से वे मंदिर में सिर्फ पूजा करते हैं।
Aashadh Gupt Navratri
Aashadh: गुप्त नवरात्रि में दस दिन होगी मां दुर्गा की आराधना, देखें जून-जुलाई के त्योहारों की लिस्ट
राजा संग्रामशाह करते थे उपासना

चारखम्बा स्थित बूढ़ी खेरमाई माता के प्राचीन मंदिर में स्थापित करीब 1500 साल पुरानी धूमावती देवी की प्रतिमा शहर की सबसे पुरानी देवी प्रतिमा है। धूमावती देवी को गोंड राजा सर्वाधिक पूज्य मानते थे। धूमावती माता को देवी की सातवीं महाविद्या माना जाता है। इतिहासकारों के अनुसार इस मंदिर में गोड राजा संग्रामशाह गुप्त नवरात्र पर माता धूमावती की साधना, आराधना करते थे। मान्यता है कि यहां देवी के चरणों में नारियल रखने से देवी मनोकामना पूरी करती हैं। मनोकामना पूरी होने पर नारियल स्वत: नीचे गिर जाता है। संस्कारधानी के शक्तिपीठों में यह मंदिर महत्वपूर्ण स्थान रखता है। पुजारी सौरभ दुबे बताते हैं कि गुप्त नवरात्र में धूमावती माता बूढ़ी खेरमाई के दर्शन व पूजन के लिए भक्तों का तांता लगेगा।
64 Yogini temple
भेड़ाघाट स्थित चौसठ योगिनी मंदिर में दी जाती थी तंत्र विज्ञान की शिक्षा

इतिहासकार डॉ. आनन्द सिंह राणा ने बताया कि भेड़ाघाट स्थित चौसठ योगिनी मंदिर तंत्र विज्ञान की शिक्षा का बड़ा केंद्र था। इसका निर्माण 10वीं शताब्दी के दौरान कल्चुरी शासक युवराजदेव प्रथम के द्वारा कराया गया। युवराजदेव के बाद 12वीं शताब्दी के दौरान शैव परंपरा में पारंगत गुजरात की रानी गोसलदेवी ने चौसठ योगिनी मंदिर में गौरी-शंकर मंदिर का निर्माण कराया। डॉ. राणा के अनुसार यह मंदिर काल गणना और पंचांग निर्माण का सर्वश्रेष्ठ स्थान माना जाता था। यहां ज्योतिष, गणित, संस्कृत साहित्य और तंत्र विज्ञान का अध्ययन करने के लिए देश और विदेश से छात्र आया करते थे। 10वीं शताब्दी में यह मंदिर वैदिक अध्ययन केंद्र हुआ करता था। यहां ग्रह और नक्षत्रों की गणना के साथ आयुर्वेद की शिक्षा भी दी जाती थी। बड़ी संख्या में तन्त्रसाधक गुप्त नवरात्र में साधना करते थे। चौसठ योगिनी मंदिर के पुजारी का कहना है कि गुप्त नवरात्र पर अब यहां तन्त्र साधना तो नहीं होती, लेकिन बड़ी संख्या में साधक साधना आरम्भ करने के पूर्व रात्रि में पूजन के लिए यहां आते हैं।

Hindi News/ Jabalpur / GuptNavratr इन देवी दरबारों में होती है मंत्र सिद्धि, बड़े बड़े तांत्रिक करते हैं साधना

ट्रेंडिंग वीडियो