कोरोना काल में दंत चिकित्सा बना चुनौती

- इंडियन प्रोस्थो-डॉन्टिक्स सोसाइटी का 23वां पोस्ट ग्रेजुएशन कन्वेंशन

By: Tasneem Khan

Published: 03 Jul 2021, 07:44 PM IST

Jaipur सीतापुरा स्थित महात्मा गांधी यूनिवर्सिटी ऑफ़ मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी में 23वें इंडियन प्रोस्थोडॉन्टिक्स कन्वेंशन कार्यक्रम का शनिवार को आगाज हुआ। तीन दिवसीय ऑनलाइन कन्वेंशन का आयोजन इंडियन प्रोस्थोडॉन्टिक सोसायटी और महात्मा गांधी डेंटल कॉलेज के तत्वावधान में किया जा रहा है ।
शनिवार को आयोजित उदघाटन समारोह के मुख्य अतिथि यूनिवर्सिटी के चेयरपर्सन डॉ. विकास स्वर्णकार ने कहा कि कोरोना काल दंत चिकित्सकों के लिए बड़ा चुनौती साबित हुआ। अभी तीसरी लहर की संभावना को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। इसलिए कोविड प्रोटोकॉल की पालना करते हुए उपचार करने की अपनी जिम्मेदारी को निभाना है।

कई पेपर होंगे प्रजेंट
इस पोस्ट ग्रेजुएशन कन्वेंशन में तीन इंटरनेशनल स्पीकर सहित तीन सौ फेकल्टी और डेढ़ हजार से अधिक विद्यार्थी हिस्सा ले रहे हैं। कार्यक्रम में 350 पत्र वाचन, 250 पोस्टर तथा 80 टेबल क्लीनिक प्रेजेंटेशन, 90 शैक्षिक सत्र (गुरु दीक्षा) 27प्री कॉन्फ्रेंस कोर्स, 28 लेक्चर का वर्चुअल आयोजन किया जा रहा है। कन्वेंशन में मुंह के दांत निकालने, दांतो का प्रत्यारोपण, बत्तीसी जबड़े का पुनर्निर्माण एवं आंख का पुनर्निर्माण सरीखे कार्य में नई तकनीकों की जानकारी दी जा रही है। कार्यक्रम का समापन रविवार को होगा। ऑर्गेनाइजिंग चेयरमैन डॉ. नरेंद्र पडियार ने बताया कि इस अवसर पर आईपीए के प्रेसिडेंट डॉ. अक्षय भार्गव, महासचिव डॉ. रूपेश पी. एल, पूर्व अध्यक्ष डॉ. जे आर पटेल, आयोजन समिति के डॉ. गौरव पाल सिंह, साइंटिफिक चेयरपर्सन डॉ. प्रगति कोरानी ने भी संबोधित किया।

Tasneem Khan Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned