scriptएक माह बाद भी 14 करोड़ की कोडिन तस्करी का आरोपी पुलिस गिरफ्त से दूर, नहीं हो पाया नेटवर्क का खुलासा | Even after a month, the accused of codeine smuggling worth Rs 14 crore is still away from police custody | Patrika News
जालोर

एक माह बाद भी 14 करोड़ की कोडिन तस्करी का आरोपी पुलिस गिरफ्त से दूर, नहीं हो पाया नेटवर्क का खुलासा

Rajasthan News: मुख्य आरोपी सुरेश बिश्नोई के विरूद्ध पूर्व में एनडीपीएस एक्ट के तहत दो आपराधिक प्रकरण दर्ज हैं।

जालोरJun 16, 2024 / 12:27 pm

Rakesh Mishra

Rajasthan News: सांचौर पुलिस द्वारा पकड़े गए करीब 14 करोड़ के मादक पदार्थ कोडिन के खुलासे के एक माह बाद भी पुलिस के हाथ अभी तक खाली हैं। पुलिस की ओर से पहली बड़ी कार्रवाई का दावा करने के बावजूद अभी तक नामजद आरोपी को गिरफ्तार करने में विफल रही है। ड्रग तस्करी का मुख्य आरोपी सुरेश बिश्नोई अभी तक पुलिस के हाथ नहीं लगने से जांच ठंडे बस्ते में है। ड्रग तस्करी से जुड़े मामले में ढीली कार्यवाही से तस्करों के हौसेले बुलंद हो रहे हैं।
पुलिस ने 22 मई को कांटोल सरहद में की गई कार्यवाही के दौरान सुरेश बिश्नोई के रहवासी घर पर दबिश देकर 14 करोड़ की कोडिन व स्मैक बरामद कर एक लग्जरी कार को भी जब्त किया गया था, जिसमें पुलिस ने कई बड़े तस्करों की भूमिका भी सामने आने का दावा किया गया था। कार्यवाही के दौरान अवैध मादक पदार्थ कोडिन छह किलो 870 ग्राम व स्मैक 17.50 ग्राम एवं अवैध तस्करी में लिप्त वाहन लग्जरी कार को जब्त किया। इस दौरान आरोपी सुरेश कार्यवाही से पूर्व ही फरार हो गया।

दो प्रकरण दर्ज

मुख्य आरोपी सुरेश कुमार बिश्नोई के विरूद्ध पूर्व में एनडीपीएस एक्ट के तहत दो आपराधिक प्रकरण दर्ज है। सुरेश ने एमडी व स्मैक सहित अन्य मादक पदार्थों के अवैध कारोबार का नेटवर्क फैला रखा था। मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी नहीं होने से ड्रग माफियाओं द्वारा तस्करी के नेटवर्क को नए सिरे से खड़े करने के प्रयास से भी इंकार नहीं किया जा सकता। सांचौर पुलिस द्वारा सुरेश बिश्नोई के रहवासी घर से जब्त की ड्रग कोडिन के बरामद करने के बाद जांच में जुटी पुलिस एक माह बाद भी नशे के अवैध कारोबार से जुड़े नेटवर्क का खुलासा नहीं कर पाई है।

युवा फंस रहे नशे के जाल में

क्षेत्र में पनप रहा अवैध नशे का कारोबार जहां युवाओ को नशे की लत लगा रहा है। वहीं बड़े स्तर पर हो रही ड्रग तस्करी का नेटवर्क भी सीमावर्ती क्षेत्र से जुड़े होने की वजह से राष्ट्रीय सुरक्षा में भी सेंध का कारण बन सकता है। सांचौर में एमडी, स्मैक के साथ-साथ हेरोइन व कोडिन सहित ड्रग की तस्करी ने गांवों तक पांव पसारने शुरू कर दिए हैं। पुलिस के साथ ही खुफिया एजेंसियों के सक्रिय होने पर नशे के कारोबार की जड़ तक पहुंचा जा सकेगा।
14 करोड़ की कोडिन प्रकरण में आरोपी अभी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। ऐसे में यह पता लगाना कठिन है कि ड्रग तस्करी का नेटवर्क कहां से जुड़ा है और कौन कौन इससे जुड़े हुए हैं। पुलिस आरोपी की गिरफ्तारी को लेकर प्रयास कर रही है। आरोपी की गिरफ्तारी के बाद ही पूरे प्रकरण का खुलासा हो सकेगा।

Hindi News/ Jalore / एक माह बाद भी 14 करोड़ की कोडिन तस्करी का आरोपी पुलिस गिरफ्त से दूर, नहीं हो पाया नेटवर्क का खुलासा

ट्रेंडिंग वीडियो