पति को शक था बीवी का है BF, जब नहीं मानी ये बात तो जला दिया जिंदा, फिर ढेड़ साल बाद...

पति को शक था बीवी का है BF, जब नहीं मानी ये बात तो जला दिया जिंदा, फिर ढेड़ साल बाद...
पति को शक था बीवी का है BF, जब नहीं मानी ये बात तो जला दिया जिंदा, फिर ढेड़ साल बाद...

Bhupesh Tripathi | Updated: 03 Sep 2019, 07:27:46 PM (IST) Jashpur Nagar, Jashpur, Chhattisgarh, India

पत्नी के चरित्र पर करता था शक, जला दिया ज़िंदा,डेढ़ साल बाद मामला आया सामने।

जशपुरनगर. पति पत्नी के बीच कई बातों को लेकर मनमोटाव होतें हैं लेकिन जब बात चरित्र में उठने लगते हैं तो दोनों ही एक दूसरे के जान के दुश्मन बन जातें हैं। दरअसल ऐसा ही एक मामला सामने आया है जिसमे पति ने अपने ही पत्नी को रात के अँधेरे का फायदा उठाते हुए उसे जला कर मौत मुँह में धकेल दिया। इस मामले में एसपी ने एक जांच अधिकारी एसआई को निलंबित कर दिया है।

रात को बीच रास्ते में वर्दी देख बढ़ने लगी कार की रफ़्तार, जब पुलिस ने पीछा कर रोका गाड़ी तो...

जशपुर अंतर्गत एक पुराने केस ने नया रुख मोड़ा है जहां डेढ़ साल पहले पत्नी को जलाकर मार देने के आरोप में एक व्यक्ति पर अपराध दर्ज किया गया है।असल में वह व्यक्ति मृतिका का पति है जो तपकरा थाना क्षेत्र के ग्राम सिमडा निवासी रूपेश साहू है। वहीं इस मामले में केस दर्ज नहीं करने पर लापरवाही बरतने के आरोप में एक जांच अधिकारी एसआई हर्षवर्धन चौरासे को आईजी के आदेश पर एसपी ने निलंबित भी किया गया है।

बीच रास्ते में बस से उतरकर लड़के के साथ चली गई जंगल, फिर हुआ कुछ यूं कि लड़की मम्मी पापा के साथ पहुंची थाना

इस संबंध में पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक बीते वर्ष 4 अप्रेल को 2018 को मृतिका सुमन साहू और उसके पति रूपेश साहू के बीच विवाहेत्तर संबंध को लेकर विवाद हुआ था। रूपेश पत्नी सुमन की चरित्र पर शक करता था। शंका पर रात के अंधेरे में रूपेश ने अपनी पत्नी को जिंदा जला दिया, जिससे सुमन गंभीर रूप से घायल हो गई थी। उसे रूपेश और पड़ोस व रिश्तेदार के लोग हॉलीक्रास अस्पताल अंबिकापुर ले गए थे। उसके बाद वहां से उसे रायपुर ले जाया गया था, जिसमे उसकी मौत हो गई थी।

दोनों बहनों से 30 हजार लेकर बोला- चलो दिलवाता हूं सरकारी नौकरी, फिर दो महीने तक किया दुष्कर्म

इस दरम्यान तहसीलदार के समक्ष मृतिका सुमन ने होशो हवाश में बयान दिया था जिसमें पति रूपेश के द्वारा जलाने का आरोप स्पष्ट लगाया गया था। लेकिन मामले में तत्कालीन विवेचक हर्ष चौरासे ने तहसीलदार के बयान पर विवेचना किए बिना ही रूपेश के खिलाफ कोई भी जुर्म दर्ज नहीं किया। इस वजह से सुमन के परिजनों ने सरगुजा आईजी से गुहार लगाई थी।

Click & Read More Chhattisgarh News.

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned