पिता पहले ही छोड़ चुके हैं साथ, मां के कैंसर के इलाज के लिए गरीबी से लड़ाई लड़ रहा है कैलाश

पिता पहले ही छोड़ चुके हैं साथ, मां के कैंसर के इलाज के लिए गरीबी से लड़ाई लड़ रहा है कैलाश
पिता पहले ही छोड़ चुके हैं साथ, मां के कैंसर के इलाज के लिए गरीबी से लड़ाई लड़ रहा है कैलाश

Karunakant Chaubey | Publish: Oct, 18 2019 07:25:14 PM (IST) Korba, Korba, Chhattisgarh, India

मां की बिमारी के इलाज के कारण उसकी पढ़ाई लिखाई भी छूट गयी है। वह 9वीं की पढाई कर रहा था। बीमार मां के इलाज के लिए उसके पास पैसे नहीं है। ऐसे में उसे पैसों के लिए दर-दर की ठोकरें खानी पड़ रही है।

कोरबा. प्रकृति ने 15 साल के कैलाश के साथ क्रूर मजाक किया है। इस कच्ची उम्र में ही उसके ऊपर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। बचपन में उसके सर से पिता का साया उठ गया और अब मां को कैंसर जैसी गंभीर बिमारी हो गयी है। उनके इलाज के लिए वह संघर्ष कर रहा है।

पुरे इलाके में फैली ये खतरनाक बिमारी, आप भी रहें सावधान

मां की बिमारी के इलाज के कारण उसकी पढ़ाई लिखाई भी छूट गयी है। वह 9वीं की पढाई कर रहा था। बीमार मां के इलाज के लिए उसके पास पैसे नहीं है। ऐसे में उसे पैसों के लिए दर-दर की ठोकरें खानी पड़ रही है। मदद मांगने वह कलेक्ट्रेट ऑफिस में पंहुचा और मदद की गुहार लगाईं।

पहली बार इस नक्सल प्रभावित गांव पहुंचे कलेक्टर ने एसपी को चारो खाने चित्त कर जीत लिया दिल

कैलाश के परिवार में केवल दो ही सदस्य हैं, एक कैलाश स्वयं और उसकी कैंसर पीड़ित मां सुकवाराबाई (40 वर्ष ) । कैलाश अपने जीजा श्यामलाल पटेल के साथ फरियादी आवेदन लेकर कलेक्ट्रेट पहुंचा था । उसे सिविल सर्जन से जिला स्वास्थ्य विभाग का प्रमाण पत्र भी मिल चुका है, जिसमें प्रमाणित है कि उसकी मां कैंसर से पीड़ित हैं।

पुलिस अधीक्षक के सामने पलट गयी लड़की, शारीरिक शोषण के आरोपी कांस्टेबल को बताया भाई

कैंसर पीड़ितों के लिए पहले से हैं योजनाएं

कैंसर पीड़ितों की आर्थिक मदद करने के लिए सरकार ने संजीवनी योजना बनाई है। जिसके तहत कैंसर पीड़ित मरीजों को डेढ़ लाख तक की सहायता मिलने का प्रावधान है। लेकिन इस योजना का ज्ञान ना होना और लाभ लेने के लिए बनी जटिल प्रक्रिया के कारण लोगों को इसका लाभ नहीं मिल पाता है।

ये भी पढ़ें: बिना शादी किये लिव इन के नाम पर 8 साल तक लूटता रहा आबरू और जब मन भर गया तो पलट गया आरोपी

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned