पश्चिम बंगाल की आग से राजस्थान में तपे मरीज, 4 जिलों में टले 80 ऑपरेशन, मरीजों के आंसू से भी नहीं पिघले डॉक्टर्स

Zuber Khan

Publish: Jun, 18 2019 08:00:00 AM (IST)

Kota, Kota, Rajasthan, India

कोटा. पश्चिम बंगाल में चिकित्सकों के साथ हुई मारपीट ( Beating from doctors in West Bengal ) की घटना की आग राजस्थान ( Rajasthan ) पहुंच गई और इसकी तपन से हाड़ौती ( kota Division ) तप गई। इसका सबसे ज्यदा असर कोटा ( kota ) में देखने को मिला। धरती के भगवान का दर्जा प्राप्त डॉक्टर्स के रूठने से सोमवार को अस्पतालों ( Hospitals ) में चिकित्सा व्यवस्थाएं वेन्टीलेटर पर आ गई। निजी अस्पतालों में भी ओपीडी सेवाएं ठप रही। एमबीएस, ( mbs hospital ) जेके लोन ( JK Loan hospital ) व नए अस्पताल ( new medical hospital ) में ओपीडी में सीनियर डॉक्टर्स ने कमान संभाली, लेकिन मरीजों की लम्बी कतारों के बीच वे भी पस्त नजर आए।

BIG News: ऐसा कोई 'सगा' नहीं जिसे कोटा पुलिस ने 'लूटा' नहीं, जनता के बाद अब 'राजस्थान सरकार' को भी ठगा

चिकित्सकों देशव्यापी आंदोलन के तहत हाड़ौती में सोमवार को आईएमए के चिकित्सक, मेडिकल कॉलेज से जुड़े रेजीडेंट, सेवारत चिकित्सक संघ से जुड़े चिकित्सक एक साथ हड़ताल पर चले गए। जिससे एक ही दिन में 80 से अधिक ऑपरेशन टले। मरीजों को कतारों में घंटों इंतजार करना पड़ा। कोटा में अमूमन रोजाना 75 ऑपरेशन होते है। इनमें से 35 टले। झालावाड़ में 21, बूंदी में 6 और बारां में 19 ऑपरेशन टल गए। घंटों इंतजार के बावजूद मरीजों का नम्बर नहीं आया। मरीज उमस भरी गर्मी के चलते पसीने से तरबतर रहे। कई मरीज लम्बी कतारें देखकर बैरंग ही लौट गए। इटावा निवासी महावीर मीणा का बीमारी से एक पैर कट गया। एमबीएस में दिखाने आया था, भीड़ के चलते परिजन वापस ले गए।

Read More: दो जिलों की सीमा पार कराने को बजरी माफिया चढ़ाते हैं पुलिस को 30 हजार का चढ़ावा, फिर कोटा में दाखिल होते 80 ट्रक

आधे ऑपरेशन टले
मेडिकल कॉलेज से जुड़े तीनों बड़े अस्पतालों के रेजीडेंट्स के भी हड़ताल पर जाने से ओपीडी व आईपीडी में असर पड़ा। रेजीडेंट को चिकित्सा सेवाओं की रीढ कहा जाता है। ऐसे में उनके एक दिन के लिए हड़ताल पर चले जाने से चार प्लॉन ऑपरेशन भी टाले गए। जबकि तीनों अस्पतालों में रोजाना सीजिरियन व रूटिन के करीब 75 ऑपरेशन होते हैं। ऐसे में चिकित्सक नहीं होने से 35 ऑपरेशन टाल दिए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned