लालची बेटों ने मां को काल कोठरी और बाप को 3 साल तक बाथरूम में रखा बंद, तड़पते रहे

लालची बेटों ने मां को काल कोठरी और बाप को 3 साल तक बाथरूम में रखा बंद, तड़पते रहे

Zuber Khan | Publish: Jan, 14 2018 08:51:46 AM (IST) | Updated: Jan, 14 2018 03:29:21 PM (IST) Kota, Rajasthan, India

जिस बेटे के जन्म पर मां ने तुलसी पूजन किया और बाप ने कंधों पर बिठाकर खिलाया उन्हीं बेटों ने उन पर ऐसा कहर ढहाया की सुनने वालों की रुह कांप उठे।

कोटा . मलमूत्र में सडऩे-मरने के लिए कोठरी में छोड़ दी गई कनवास निवासी पानाबाई के आगे पीछे कभी तीन नौकर हुआ करते थे। घर में सुख समृद्धि थी लेकिन संपत्ति के लालच में बेटों ने मां-बाप की बेकद्री की। पाना ही नहीं, उनके पति को भी दूसरे बेटे ने बाथरूम में बंद करके रखा था।

 

Read More: Human Angle Story: Video: बेटे को देख मां की अंतरात्मा का दर्द छलका, बोली तु असी करगो या तो कदी सोची भी न छी

मां की देखभाल को आने वाली बेटियों को भाई भगा देते

समाचार पढ़कर कोटा में अपना घर आश्रम में जब तीन बेटियां और पाना की छोटी बहन उनसे मिलने आई तो यह खुलासा हुआ। चारों अत्याचारों की बात करते जब फूट-फूट कर रोने लगी तो दर्द की कहानियां सुन मौजूद लोगों की भी आंखें नम हो गई। कनवास के खटीक मोहल्ले में 3 साल से बंद और मलमूत्र से सनी पानाबाई को दो दिन पहले अपना घर टीम आजाद कराकर आश्रम लाई थी।

 

Big breaking News: बूंदी कलक्टर को बीच बाजार गोली मारने की धमकी, पुलिस और प्रशासन में हड़कंप

रुलाई फूट पड़ी

आश्रम में पाना से मिलने शनिवार को छोटी बहन नटी बाई व तीन बेटियां, रिश्तेदार पहुंचे। पानाबाई की ऐसी दुर्दशा देखकर बेटियां, बहन, परिजनों की रुलाई फूट पड़ी। तीनों बेटियों ने बताया कि हमारे मां-बाप के पास कोई कमी नहीं थी। पिताजी के पास 85 बीघा जमीन थी। घर में तीन-तीन नौकर लगते थे। लेकिन सम्पत्ति के लालच में दोनों भाइयों ने मां-बाप की ऐसी बेकद्री की।

 

Read More: Suspense News : एक हजार रुपए निकालने एटीएम गया बुजुर्ग गंवा बैठा 40 हजार, जानिए कैसे

जमीन-जायदाद के चक्कर में दोनों भाइयों ने उनसे भी नाता तोड़ लिया। बोली, 'भाई तो हम तीनों बहनों को देखना तक पसंद नहीं करते। गुजरे नवम्बर माह में मां से मिलने कनवास गई थी। तब भी मां का यही हाल था। तब भी हम नहला-धुला कर भोजन कराकर आए थे। लेकिन, यह भाइयों को रास नहीं आया, भला बुरा कहा।Ó बेटियों ने बताया कि भाई मां से मिलने भी नहीं देते थे। गांव जाते तो भगा देते। उन्होंने आश्रम संचालकों से अपील की कि मां को भाइयों के साथ नहीं भेजें। कम से कम हम यहां आकर मां से मिल तो सकेंगे।

 

Read More: मकर संक्रांति 2018: किस राशि को फल और किस राशि को मिलेगा कष्ट...जानिए खास रिपोर्ट में

पिता को बाथरूम में बंद रखा
समाचार पढ़कर रिश्तेदारों के साथ शनिवार दोपहर को केशवरायपाटन निवासी बहन नटी बाई आश्रम पहुंची। यहां बड़ी बहन कीहालत देख भावुक हो गई। दोनों बहनों ने करीब एक घंटे तक बातचीत की। इस दौरान नटी बाई ने बताया कि बेटे नरेंद्र ने बहन के जीवन को नरक बना दिया। बड़े बेटे ने भी जीजाजी (पिता) को कई दिनों तक बाथरूम में बंद रखा था, जिन्हें खुद नटी बाई ने जाकर बाहर निकाला था। उन्होंने भी आश्रम संचालकों से अपील की कि पाना को बेटे के साथ नहीं भेजे।

 

Read More: Thrill Story: फिर सुसाइड से दहली कोचिंग नगरी, एक और छात्रा फांसी के फंदे पर झूली

डॉक्टर्स ने ली सेल्फी
आश्रम की ओर से जब पानाबाई को सीटी स्कैन कराने के लिए मेडिकल कॉलेज ले जाया गया तो वहां भी नर्सिंग कर्मचारी, कम्पाउंडर, नर्स शक्ल देखते ही पहचान गए। यहां तक कि डॉक्टर्स ने भी पानाबाई के साथ मोबाइल से सेल्फी ली।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned