डाबर इंडिया ने बाबा रामदेव का किया धन्यवाद,कहा-पतंजलि के कारण कंपनी को हुआ फायदा

डाबर इंडिया ने बाबा रामदेव का किया धन्यवाद,कहा-पतंजलि के कारण कंपनी को हुआ फायदा

Manish Ranjan | Updated: 28 Nov 2018, 11:01:14 AM (IST) कॉर्पोरेट

योग गुरु और बिजनेसमैन बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि कारोबार में कोलगेट से लेकर डाबर तक को कड़ी चुनौती दे रही है। पतंजलि के कारण इन बड़ी-बड़ी कंपनियों को काफी नुकसान उठाना पड़ है।

नई दिल्ली। योग गुरु और बिजनेसमैन बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि कारोबार में कोलगेट से लेकर डाबर तक को कड़ी चुनौती दे रही है। पतंजलि के कारण इन बड़ी-बड़ी कंपनियों को काफी नुकसान उठाना पड़ है। पतजंलि के कारण डाबर को काफी नुकसान झेलना पड़ा है। पतंजिल की वजह से डाबर के शहद की बाजार हिस्सेदारी पर 10 फीसदी तक का असर पड़ा था। इतना नुकसान झेलने के बावजूद भी डाबर कंपनी बाबा रामदेव को धन्यवाद कर रही है। दरअसल डाबर के भारतीय कारोबार के सीईओ मोहित मल्होत्रा ने कहा है कि वो बाबा रामदेव के शुक्रगुजार हैं और उनकी वजह से डाबर को फायदा हुआ है।

डाबर ने बाबा रामदेव को किया शुक्रिया

हाल ही में सीईओ मोहित मल्होत्रा ने अपने एक इंटरव्यू में कहा है कि पतंजलि से कुल मिलाकर कंपनी को का फी ज्यादा फायदा हुआ है। पतंजलि की वजह से लोगों के बीच आयुर्वेद के प्रति जागरुकता बढ़ी है। जिसके कारण कंपनी का फायदा बढ़ा है। डाबर सबसे बड़ी आयुर्वेद कंपनी है और उसकी विरासत लोगों के मन में बसी हुई है।मल्होत्रा आगे कहते हैं कि देश भर में आई जोरदार आयुर्वेदिक वेव के लिए हम बाबा रामदेव के बहुत शुक्रगुजार हैं। बाबा रामदेव के कारण कंपनी का बिजनेस तेजी से बढ़ रहा है।

पतंजलि के कारण हुआ कंपनी को नुकसान

मल्होत्रा ने बाबा रामदेव को धन्यवाद करते हुए कहा नेचुरल सेग्मेंट में ग्रोथ रेट परंपरागत सेग्मेंट से ज्यादा है। इसका सारा श्रेय बाबा रामदेव को जाता है। उन्होंने कहा कि जैसे डेंटल केयर में नेचुरल सेग्मेंट 35 प्रतिशत की दर से बढ़ रहा है जो परंपरागत सेग्मेंट के मुकाबले दो गुना है। इसका फायदा डाबर को मिला, क्योंकि डाबर आयुर्वेद का सबसे पुराना और बड़ा प्लेयर है। पतंजलि की तरफ से मिल रही चुनौतियों को लेकर मल्होत्रा का कहना है कि पतंजलि के आने से कंपनी की कमाई को जोरदार झटका जरूर लगा था। लेकिन कंपनी ने तेजी से अपने नुकसान की भरपाई की है। जितना मार्केट शेयर खोया उससे ज्यादा दोबारा हासिल कर लिया है।

 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned