जेट एयरवेज की बढ़ती जा रही मुश्किलें, कंपनी के फाइनेंशियल ऑफिसर अमित अग्रवाल ने दिया इस्तीफा

  • वित्तीय संकट से जूझ रही जेट एयरवेज की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही
  • जेट एयरवेज के डिप्टी चीफ एग्जिक्यूटिव और चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर अमित अग्रवाल ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया है
  • अप्रैल से ही जेट एयरवेज ने अपना संचालन बंद कर दिया है

By: Shivani Sharma

Published: 14 May 2019, 11:41 AM IST

नई दिल्ली। वित्तीय संकट से जूझ रही जेट एयरवेज की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। अस्थाई रूप से बंद होने के बाद अब जेट एयरवेज के डिप्टी चीफ एग्जिक्यूटिव और चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर अमित अग्रवाल ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। बता दें कि अप्रैल से ही जेट एयरवेज ने अपना संचालन बंद कर दिया है। इसके साथ ही कंपनी में काम करने वाले कर्मचारियों को भी पिछले कई महीनों से वेतन नहीं दिया गया है, जिसके कारण भारी संख्या में कर्मचारियों ने अपनी नौकरी गंवा दी है।


अमित अग्रवाल ने दिया इस्तीफा

अमित अग्रवाल ने इस्तीफा देते समय कहा कि मैं सूचित करना चाहता हूं कि मैं व्यक्तिगत कारणों से अपनी सेवाओं से त्यागपत्र दे रहा हूं। कंपनी के हालात के कारण मैं इस्तीफा नहीं दे रहा हूं। इसके साथ ही आपको बता दें कि अभी तक जेट को बचाने के लिए कोई भी कंपनी आगे नहीं आई है, जेट के कर्मचारियों काफी परेशानियों से गुजर रहे हैं। हालांकि जेट के ही अंतरराष्ट्रीय सहयोगी एतिहाद ने हिस्सेदारी खरीदने की इच्छा जताई है, लेकिन अभी तक इसके लिए कोई प्रक्रिया शुरू नहीं की गई है।


ये भी पढ़ें: 4.90 लाख करोड़ के मालिक हैं सोशल मीडिया के किंग, 16 की उम्र में बनाया था म्यूजिक ऐप


बैंकों ने भी खड़े किए हाथ

जेट जिस तरह की परेशानियों का सामना कर रही है। उसके लिए कंपनी को कम से कम 15,000 करोड़ के निवेश की जरूरत है। फिलहाल इस समय जेट एयरवेज की मदद करने के लिए कोई भी तैयार नहीं है। कंपनी को किसी बैंक की भी मदद नहीं मिल रही है। जेट एयरवेज को बैंकों ने भी मदद देने से हाथ खड़े कर दिए थे। इस समय जेट एयरवेज पर कुल 8,500 करोड़ का कर्ज है।

 

नरेश गोयल के करीबी हैं अमित अग्रवाल

आपको बता दें कि दिसंबर 2015 में अमित अग्रवाल जेट एयरवेज के साथ जुड़े थे। अमित अग्रवाल को जेट के संस्थापक नरेश अग्रवाल का करीबी माना जाता रहा है। इससे पहले अमित सुजलोन एनर्जी में चीफ फाइनेंशल ऑफिसर थे। इतना ही नहीं, वह अर्सेलर मित्तल और एस्सार स्टील जैसी कंपनियों से भी जुड़े रह चुके हैं।


एतिहाद कर सकती है निवेश

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार लोगों का मानना है कि एतिहाद जेट में 1700 करोड़ रुपए का निवेश कर सकती है। एतिहाद ने जेट की उधारी चुकाने के बारे में कोई वादा नहीं किया है, लेकिन खबरें आ रही हैं कि जेट को बचाने के लिए एतिहाद आगे आ सकती है।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

jet airways news
Show More
Shivani Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned