विजय माल्या, नीरव मोदी की राह पर यश बिड़ला ! बैंकों के नही चुकाए 68 करोड़ रुपए

विजय माल्या, नीरव मोदी की राह पर यश बिड़ला ! बैंकों के नही चुकाए 68 करोड़ रुपए

Saurabh Sharma | Publish: Jun, 17 2019 06:27:02 AM (IST) | Updated: Jun, 17 2019 10:23:58 AM (IST) कॉर्पोरेट

  • बिड़ला सूर्या लिमिटेड के निदेशक यशोवर्धन बिड़ला को मिला नोटिस
  • नहीं चुकाया क़र्ज़, यूको बैंक ने विलफुल डिफॉल्टर घोषित किया

नई दिल्ली। बीते कुछ सालों में भारतीय कारोबारियों का विलफुल डिफॉल्टर होना एक फैशन सा बन गया है। विजय माल्या, नीरव मोदी जैसे कारोबारियों ने पहले तो बैकों से मोटा कर्ज लिया फिर अपने आपको विलफुल डिफॉल्टर घोषित कर दिया। वहीं अनिल अंबानी की बात करें तो वे हालांकि बैंकों का कर्ज धीरे-धीरे चुका रहे है, लेकिन वो भी इस लिस्ट में शामिल चुके हैं। अब इस कड़ी में नया नाम जुड़ गया है, यशोवर्धन बिड़ला ( Yashovardhan Birla ) का। बिड़ला ग्रुप के इस करोड़पति कारोबारी को हमेशा से ही अपने लैविश लाइफस्टाइल के लिए जाना जाता है। लेकिन अब यूको बैंक ने इन्हें भी विलफुल डिफॉल्टर घोषित कर दिया है। आपको बता दें कि यशोवर्धन को बैंक के करीब 68 करोड़ रुपए चुकाने थे। यशोवर्धन बिड़ला बिड़ला सूर्या लिमिटेड ( Birla Surya Limited ) के निदेशक होने के साथ यश बिड़ला समूह के चेयरमैन भी हैं।

यह भी पढ़ेंः- नकदी की संकट से बढ़ी परेशानी, घर खरीदने के लिए लोन लेने से बच रहे आम लोग

आखिर क्यों की यूको बैंक ने कार्रवाई
यूको बैंक द्वारा जारी सार्वजनिक सूचना में यशोवर्धन बिड़ला की तस्वीर भी प्रकाशित की गई है। बैंक ने कहा कि खाते को तीन जून 2019 को गैर-निष्पादित परिसंपत्ति ( एनपीए ) घोषित किया गया। नोटिस में बैंक ने कहा, "बिड़ला सूर्या लिमिटेड को मुंबई के नरीमन प्वाइंट स्थित मफतलाल सेंटर में हमारी प्रमुख कॉरपोरेट शाखा से मल्टी क्रिस्टेलाइन सोलर फोटोवोल्टेक सेल्स बनाने के लिए सिर्फ फंड आधारित सुविधाओं के साथ 100 करोड़ रुपए की साख सीमा की मंजूरी दी गई थी। एनपीए में मौजूदा 67.65 करोड़ रुपए का बकाया कर्ज और बिना चुकता किया गया ब्याज शामिल है।" बैंक ने कहा कि कोलकाता स्थित बैंक द्वारा ऋणकर्ता को कई नोटिस दिए जाने के बावजूद उसने बकाया नहीं चुकाया।

यह भी पढ़ेंः- Toyota Glanza खरीदने के लिए करना पड़ेगा महीने भर का इंतजार, तेजी से बढ़ रही है डिमांड

जानिए कौन हैं यश बिड़ला
यश बिड़ला यशोवर्धन बिड़ला ग्रुप के चेयरमेन हैं। उनका समूह का मशीन टूल्स, इंजन पाइप्स, इंफोटक,ट्रेवल, स्टील समेत कई क्षेत्रों में कारोबार है। उनके पिता अशोक बिड़ला भी देश के नामी उद्योगपति थे, जिनका निधन विमान हादसे में हो गया था। यश मुंबई में गोपी बिड़ला स्कूल और अशोक बिड़ला अस्पताल भी चलाते हैं। उनका सुजाता बिड़ला चैरिटी ट्रस्ट भी है। यश बिड़ला के ग्रुप में तीन हजार से ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं।

यह भी पढ़ेंः- Honda e इलेक्ट्रिक कार भारत में होगी लॉन्च, फुल चार्ज होकर चलेगी 200 किलोमीटर

आजादी की लड़ाई में की है ग्रुप ने मदद
बिड़ला ग्रुप या यूं कहें कि देश के सबसे पुराने औद्योगिक घरानों में से एक बिड़ला घराने ने देश की आजादी में अहम योगदान दिया है। उन्होंने देश को आजाद कराने के लिए देश की आजादी की लड़ाई लड़ रहे नेताओं और संगठनों को धन मुहैया कराया है। खास बात ये है कि जीडी बिड़ला की महात्मा गांधी से काफी अच्छी दोस्ती थी। महात्मा गांधी की एक आवाज पर जीड़ी बिड़ला देश की आर्थिक मदद को खड़े हो जाते थे।

जीडी बिड़ला के तत्वाधान में हुई थी यूको की स्थापना
यूको बैंक की स्थापना 1943 में हुई थी। खास बात तो ये है कि जीडी बिड़ला के तत्वाधान में ही इस बैंक को स्थापित किया गया था। आज ताज्जुब की बात यही है कि उसी परिवार के सदस्य को बैंक ने विलफुल डिफॉल्टर घोषित कर दिया है। आपको बता दें कि जीडी बिड़ला यशोवर्धन बिड़ला के परदादा रामेश्वर दास बिड़ला के भाई थे।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned