scriptAzamgarh by-election BSP wants to conquer Azamgarh Dalit Muslim stakes | Azamgarh by-election : दलित-मुस्लिम जुगलबंदी के सहारे आजमगढ़ फतह करना चाहती है बसपा | Patrika News

Azamgarh by-election : दलित-मुस्लिम जुगलबंदी के सहारे आजमगढ़ फतह करना चाहती है बसपा

Azamgarh by-election आजमगढ़-रामपुर लोकसभा उपचुनाव के लिए 23 जून को मतदान होंगे। सपा-भाजपा के बीच दोनों सीटें जीतने के लिए एक कड़ा मुकाबला है तो बसपा दलित-मुस्लिम समीकरण के सहारे चुनावी रण जीतने की रणनीति पर काम कर रही है।

लखनऊ

Updated: June 07, 2022 03:42:42 pm

आजमगढ़-रामपुर लोकसभा उपचुनाव के लिए 23 जून को मतदान होंगे। सपा-भाजपा के बीच दोनों सीटें जीतने के लिए एक कड़ा मुकाबला है तो बसपा दलित-मुस्लिम समीकरण के सहारे चुनावी रण जीतने की रणनीति पर काम कर रही है। और इस उपचुनाव को एक प्रयोगशाला की तरह प्रयोग कर रही है। इसके रिजल्ट को आधार बनाकर लोकसभा चुनाव 2024 में अपनी स्थिति का मंथन करेगी। दलित-मुस्लिम गठजोड़ को भुनाने के लिए ही आजमगढ़ से दिग्गज नेता शाह आलम उर्फ गुड्डू जमाली को मैदान में उतारा है। बसपा रामपुर से चुनाव नहीं लड़ रही है। उसका पूरा फोकस आजमगढ़ पर है।
Azamgarh by-election : दलित-मुस्लिम जुगलबंदी के सहारे आजमगढ़ फतह करना चाहती है बसपा
Azamgarh by-election : दलित-मुस्लिम जुगलबंदी के सहारे आजमगढ़ फतह करना चाहती है बसपा
20 फीसद मुस्लिम- 22 फीसद दलित

आजमगढ़ संसदीय सीट मुस्लिम-यादव बहुल है। ये दोनों समुदाय सपा के परंपरागत वोट माने जाते हैं। यादव-मुस्लिम की हिस्सेदारी करीब 40 फीसदी है। इसके अलावा दलित 22, गैर यादव ओबीसी 21 और सवर्ण 17 फीसदी है। इसी का नतीजा है कि आजमगढ़ में सपा और बसपा का दबदबा कायम है। इस बार बसपा सुप्रीमो मायावती इसी गणित को भुनाना चाहती हैं।
यह भी पढ़ें

UP Lok sabha By Election 2022 : सस्पेंस खत्म सपा उम्मीदवारों ने भरा नामांकन, जानें इन मशहूर उम्मीदवारों के नाम

मुस्लिम-दलित समीकरण पर बसपा का जोर

राजनीति के जानकार पंड़ितों का मानना है कि, बसपा सुप्रीमो मायावती आजमगढ़ में करीब 20 फीसद मुस्लिम और 22 फीसद दलितों की जुगलबंदी कराकर यूपी की राजनीति में फिर से अपनी दखल बनाना चाहती हैं। बसपा सुप्रीमो की रणनीति है कि, अगर मुस्लिम-दलित एकजुट हो जाएं तो उपचुनाव में कामयाबी बसपा के कदम चूमेंगी। और फिर यह फार्मूला आने लोकसभा चुनाव में काम करेगा।
यह भी पढ़ें

आजमगढ़ और रामपुर लोकसभा उपचुनाव में कांग्रेस नहीं उतारेगी प्रत्याशी

मुकाबला तगड़ा है

वैसे सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने इस सीट पर अपने भाई धर्मेंद्र यादव को मैदान में उतारा है। भाजपा ने अपने पिछले चुनाव के प्रत्याशी दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ पर एक बार फिर दांव खेला है। कांग्रेस उपचुनाव लड़ने से इनकार कर दिया है। तो अब मुकाबला भाजपा, सपा और बसपा के बीच है। आजमगढ़ सपा की खास सीट है। तो अखिलेश इसे बचाने के लिए एड़ी जोर लगा देंगे। भाजपा, सपा का दंभ तोड़ना चाहेगी। और जीतने के लिए अपने सारे दांव प्रयोग करेगी। बसपा मुस्लिम-दलित के समीकरण के आधार पर चुनाव लड़ रही है। मुकाबला रोचक हो गया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

जयपुर में एक स्वीमिंग पूल में रात का सीसीटीवी आया सामने, पुलिसवालें भी दंग रह गएकचौरी में छिपकली निकलने का मामला, कहानी में आया नया ट्विस्टइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलचेन्नई सेंट्रल से बनारस के बीच चली ट्रेन, इन स्टेशनों पर भी रुकेगीNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयधन कमाने की योजना बनाने में माहिर होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, दूसरों की चमका देती हैं किस्मतCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: वडोदरा में आधी रात को देवेंद्र फडणवीस और एकनाथ शिंदे के बीच हुई थी मुलाकात, सुबह पहुंचे गुवाहाटीMaharashtra Political Crisis: शिंदे गुट के दीपक केसरक का बड़ा बयान, कहा- हमें डिसक्वालीफिकेशन की दी जा रही हैं धमकीMaharashtra Politics Crisis: शिवसेना की कार्यकारिणी बैठक खत्म, जानें कौन-कौन से प्रस्ताव हुए पारितTeesta Setalvad detained: तीस्ता सीतलवाड़ को गुजरात ATS ने लिया हिरासत में, विदेशी फंडिंग पर होगी पूछताछकर्नाटक में पुजारियों ने मंदिर के नाम पर बनाई फर्जी वेबसाइट, ठगे 20 करोड़ रुपएAmit Shah on 2002 Gujarat Riots: गुजरात दंगों पर SC के फैसले के बाद बोले अमित शाह, PM मोदी को इस दर्द को झेलते हुए देखा हैMaharashtra Political Crisis: वडोदरा में देवेंद्र फडणवीस और एकनाथ शिंदे के बीच हुई थी मुलाकात- रिपोर्ट'अग्निपथ' के विरोध में तेलंगाना के सिकंदराबाद में ट्रेन में आग लगाने वालों की वायरल हो रही वीडियो, पुलिस ने पहचान कर किया गिरफ्तार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.