scriptWho is Seema Parihar in Chambal Know on Mother Day Special | एक औरत दो किरदार, चंबल की डकैत और ममतामयी मां की कहानी सुन रो पड़ेंगे आप | Patrika News

एक औरत दो किरदार, चंबल की डकैत और ममतामयी मां की कहानी सुन रो पड़ेंगे आप

Mother Day Special 2022: मां के प्रेम की कोई सीमा नहीं होती। जब बच्चों पर मुसीबत आती है तो मां अपनी जान भी हथेली पर रख देती है। मदर्स डे पर पेश है एक ऐसी ही कहानी...

लखनऊ

Updated: May 07, 2022 06:40:43 pm

चंबल, एक ऐसा शब्द है, जहां भी आता है जहन में अपने आप ही खून-खराबा और डकैती जैसी तमाम शब्द अपने साथ ले आता है। मातृ दिवस के खास मौके पर पत्रिका आपको एक ऐसी कहानी से रूबरू कराने जा रहा जो वाकई मातृत्व परिभाषा को बयां करेगी। यूपी के औरैया जिले के बबाइन गांव में एक टूटे मकान में 4 बहन और 2 भाई अपने मां-बाप के साथ सो रहे थे। अचानक तेज बारिश होने लगी, फिर घर के बाहर गोली चलने की आवाज आई। दरवाजा तोड़ते हुए 3 आदमी और एक औरत समेत 10 लोग घर के अंदर आए और गालियां देते हुए 13 साल की एक बच्ची को उठा कर चंबल के बीहड़ की तरफ ले गए। 13 साल की वह बच्ची कोई और नहीं बल्कि सीमा परिहार थी। सीमा परिहार जब बाहर नही निकल सकीं तो चंबल को ही अपनी दुनिया बना ली। यहां डाकू तो बनी ही लेकिन मां बनीं तो जीवन ही बदल गया।
Who is Seema Parihar in Chambal Know on Mother Day Special
Who is Seema Parihar in Chambal Know on Mother Day Special
चंबल में सीमा परिहार को निर्भय गुर्जर से प्या हुआ। लेकिन 2 साल बाद, साल 1997-98 में निर्भय से रिश्ता तोड़ने के बाद सीमा ने गैंग के मुखिया और अपने किडनैपर लालाराम से ही शादी कर ली। लालाराम सीमा से दोगुनी उम्र का था। साल 1999 में उसने एक बच्चे को भी जन्म दिया। बच्चा 10 महीने का ही हुआ था कि साल 2000 में सीमा का पति लालाराम एक पुलिस मुठभेड़ में मारा गया। अब सीमा अकेली हो चुकी थी। पुलिस लगातार सीमा को ढूंढ रही थी।
यह भी पढ़ें

हमेशा के लिए सड़कों में पूरी तरह से बंद होगी नमाज, काउंसिल की ये है नई योजनाएं

बच्चे को लेकर भागती रही, 4-4 दिन रहीं भूखी

पुलिस से बचने के लिए सीमा अपने 10 महीने के बच्चे को लेकर बीहड़ों में यहां से वहां भाग रही थी। इंटरव्यू में सीमा ने बताया कि कई बार 4-4 दिनों तक खाना भी नहीं खाया। इसी तरह 4-5 महीने बीत गए। अंत में सीमा ने अपने बच्चे के लिए आत्म समर्पण करने का फैसला लिया। सीमा के बड़े भाई ने पुलिस से बात की। नौकरी, घर के लिए जमीन और बंदूक का लाइसेंस देने जैसी शर्तों के बाद सीमा ने 18 साल बाद आत्मसमर्पण कर दिया। सीमा 3 साल, 3 महीने तक जेल में रही। शुरुआती 6 महीने उसका बेटा भी उसके साथ जेल में रहा।
यह भी पढ़ें

कौन हैं ये यूपी के हीरो जो बेवफाई में बन गए आईएएस

बेटे की वजह से नहीं गई दोबारा चंबल

सीमा परिहार पर करीब 200 अपहरण, 70 हत्याओं और करीब 30 लूट के मामले दर्ज थे। जेल में रहते हुए सीमा ने 29 मुकदमों का सामना किया, जिसमें 8 हत्या और आधा दर्जन अपहरण के आरोप शामिल थे। जेल से छूटने के बाद सीमा दोबारा चंबल जाना चाहती थी। लेकिन अपने बेटे को चंबल से बाहर निकाल कर बेहतर इंसान बनाने के लिए चंबल की तरफ मुड़कर नहीं देखा। जेल से छूटने के बाद सीमा राजनीतिक पार्टी से जुड़ गई। अब अपने 23 साल के बेटे के साथ खुशहाल जीवन बिता रही हैं।
इन मांओं ने भी चंबल में जन्मे बच्चे

सीमा परिहार के बाद डकैत चंदन की पत्नी रेनू यादव का नाम समाने आता है जिसने चंदन यादव से रिश्ते रखते हुए चंबल में एक बेटी को जन्म दिया। वहीं चंबल के खूंखार डाकू सलीम गुर्जर के साथ उसकी पत्नी सुरेखा दिवाकर करीब पांच साल बीहड़ में रहीं। सलीम गुर्जर 13 वर्षीय सुरेखा को उठा ले गया था। दोनों पुलिस के हत्थे चढ़ गए। 2 जून 2002 को पुलिस अभिरक्षा में सुरेखा ने बेटे सूरज को जन्म दिया। हालांकि अब चंबल में बदमाशों खत्म कर दिया गया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

राजस्थान में इंटरनेट कर्फ्यू खत्म, 12 जिलों में नेट चालू, पांच जिलों में सुबह खत्म होगी नेटबंदीनूपुर शर्मा पर डबल बेंच की टिप्पणियों को वापस लिया जाए, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के समक्ष दाखिल की गई Letter PettitionENG vs IND Edgbaston Test Day 1 Live: ऋषभ पंत के शतक की बदौलत भारतीय टीम मजबूत स्थिति मेंMaharashtra Politics: महाराष्ट्र बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने देवेंद्र फडणवीस के डिप्टी सीएम बनने की बताई असली वजह, कही यह बातजंगल में सर्चिंग कर रहे जवानों पर नक्सलियों ने की फायरिंगपंचायत चुनाव: दो पुलिस थानों ने की कार्रवाई, प्रत्याशी का चुनाव चिन्ह छाता तो उसने ट्राली भर छाता बंटवाने भेजे, पुलिस ने किए जब्तMonsoon/ शहर में साढ़े आठ इंच बारिश से सडक़ों पर सैलाब जैसा नजारा, जन जीवन प्रभावित2 जुलाई को छ.ग. बंद: उदयपुर की घटना का असर छत्तीसगढ़ में, कई दलों ने खोला मोर्चा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.