प्याज, आलू, दालों के बाद चीनी के दामों में लगेगी आग, 35 फीसदी उत्पादन हुआ कम

  • कर्नाटक और महाराष्ट्र के साथ उत्पादक राज्यों में चीनी का उत्पादन हुआ
  • गन्नों की पेराई एक महीना देरी से होने के कारण कम उत्पादन की बनी वजह
  • मौजूदा सीजन में 15 दिसंबर तक देश में 45.81 लाख टन हुआ चीनी का उत्पादन

By: Saurabh Sharma

Updated: 19 Dec 2019, 12:46 PM IST

नई दिल्ली। प्याज के दाम ( Onion price ) आसमान छू रहे हैं। आलू और दाल में भी महंगाई ( Inflation in potatoes and pulses ) लगातार बढ़ रही है। वहीं अब चीनी के जो आंकड़े सामने आए हैं उससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि जल्द ही कीमतों में इजाफा होगा। देश में मौजूदा शुगर सीजन ( Current Sugar Season ) के ढाई महीने के दौरान चीनी का उत्पादन ( sugar production ) 35 फीसदी कम हुआ है। एक उत्तर प्रदेश को छोड़ दिया जाए तो कर्नाटक और महाराष्ट्र के साथ सभी चीनी उत्पादक राज्यों में चीनी का उत्पादन कम ही हुआ है। जिसकी वजह से आने वाले दिनों में चीनी के दाम में बढ़ोतरी ( sugar price hike ) देखने को मिल सकती है।

यह भी पढ़ेंः- GST Council ने टैक्सपेयर्स को दी बड़ी राहत, डेडलाइन के साथ लेट फीस भी माफ

देश में इतना हुआ चीनी का उत्पादन
चीनी का उत्पादन चालू शुगर सीजन 2019-20 (अक्टूबर-सितंबर) के दौरान बीते ढाई महीने में करीब 46 लाख टन हुआ है जोकि पिछले साल की इस अवधि के मुकाबले 35 फीसदी कम है। चीनी उद्योग संगठन इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) द्वारा बुधवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, चालू सीजन में 15 दिसंबर तक देशभर में 45.81 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ, जबकि पिछले सीजन में इसी अवधि के दौरान देशभर में 70.54 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ था। हालांकि देश के सबसे बड़े चीनी उत्पादन राज्य उत्तर प्रदेश में 15 दिसंबर 2019 तक चीनी का उत्पादन 21.25 लाख टन हुआ जोकि पिछले साल की इसी अवधि के मुकाबले 2.31 लाख टन ज्यादा है।

यह भी पढ़ेंः- वैश्विक संकेतों की वजह से रिकॉर्ड स्तर से नीचे फिसला शेयर बाजार, सेंसेक्स 41550 से नीचे

देश और यूपी में मौजूदा शुगर सीजन में चीनी का उत्पादन

वर्ष देश में चीनी का उत्पादन ( प्रति लाख टन ) यूपी में चीनी का उत्पादन ( प्रति लाख टन )
2018 70.54 2.31
2019 45.81 21.25

महाराष्ट्र और कर्नाटक में कम हुआ उत्पादन
वहीं, देश के दूसरे सबसे बड़े चीनी उत्पादक प्रदेश महाराष्ट्र में 15 दिसंबर तक सिर्फ 7.66 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ जबकि पिछले साल 15 दिसंबर 2018 तक महाराष्ट्र में 29 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ था। कर्नाटन देश का तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक राज्य है जहां चालू सीजन के दौरान ढाई महीने में 10.62 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ जोकि पिछले साल के इसी अवधि के उत्पादन के आंकड़ों से 3.32 लाख टन कम है। महाराष्ट्र और कर्नाटक में चीनी मिलों में गन्नों की पेराई एक महीने से ज्यादा विलंब से शुरू होने के कारण चीनी का उत्पादन पिछले साल से कम हुआ है।

यह भी पढ़ेंः- Petrol Diesel Price Today : 10 दिन के बाद डीजल हुआ महंगा, पेट्रोल के दाम स्थिर

महाराष्ट्र और कर्नाटक में मौजूदा शुगर सीजन में चीनी का उत्पादन

वर्ष महाराष्ट्र में चीनी का उत्पादन ( प्रति लाख टन ) कर्नाटक में चीनी का उत्पादन ( प्रति लाख टन )
2018 29 13.94
2019 7.66 10.62

बाकी राज्यों में कितना उत्पादन
वहीं बात बाकी राज्यों की करें तो मौजूदा चालू सीजन में 15 दिसंबर तक चीनी का उत्पादन कम ही रहा है। गुजरात में चीनी का उत्पादन 1.52 लाख टन रहा है। वहीं आंध्रप्रदेश में चीनी का उत्पादन 0.30 लाख टन देखने को मिला। तमिलनाडु ने 0.73 लाख टन चीनी का उत्पादन किया है। बिहार जैसे राज्य में चीनी का उत्पादन 1.35 लाख टन हुआ है। पंजाब, हरियाण और मध्यप्रदेश में चीनी का उत्पादन क्रमश: 0.75 लाख टन, 0.65 लाख टन और 0.35 लाख टन हुआ है।

यह भी पढ़ेंः- लॉटरी पर एक जैसा 28 फीसदी होगा जीएसटी, एक मार्च 2020 से लागू होगा फैसला

किस राज्य में कितना चीनी का उत्पादन

राज्य चीनी का उत्पादन ( प्रति लाख टन )
गुजरात 1.52
आंध्रप्रदेश 0.30
तमिलनाडु 0.73
बिहार 1.35
पंजाब 0.75
हरियाण 0.65
मध्यप्रदेश 0.35
Show More
Saurabh Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned