कोरोना पॉजिटिव मरीज का गुपचुप इलाज करता रहा अस्पताल, संक्रमित की मौत के बाद लाइसेंस सस्पेंड

Highlights

  • मेरठ की राजनगर कालोनी सील, स्वास्थ्य विभाग की 15 टीमों ने डाला डेरा
  • डीएमओ के नेतृत्व में सैनिटाइज करने का काम रविवार सुबह से ही शुरू
  • मेरठ में तीन नए केस मिले, कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या हुई 73

 

By: sanjay sharma

Published: 19 Apr 2020, 12:56 PM IST

मेरठ। कोरोना संक्रमित व्यक्ति की मौत के बाद शहर की राजनगर कालोनी में हड़कंप मचा हुआ है। रविवार की सुबह से ही इलाके को सील कर दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग की 15 टीमों ने कालोनी में घर-घर जाकर लोगों की जांच करने का काम शुरू कर दिया है। पूरे इलाके को सैनिटाइज करने का काम डीएमओ डा. सत्यप्रकाश की टीम को सौंपा गया है। कालोनी में रहने वाले बुजुर्ग लोगों की जांच पहले की जा रही है। मेरठ में तीन और कोरोना पीडि़त मिलने के बाद अब संक्रमितों की संख्या 73 तक पहुंच चुकी है। हालांकि इनमें से 15 लोग ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं। जबकि तीन कोरोना संक्रमित लोगों की इलाज के दौरान मौत हो चुकी है।

यह भी पढ़ेंः Lockdown: गरीबों के लिए सामुदायिक रसोई में मिले सड़े आलू, सुपरवाइजर सस्पेंड, अफसरों ने शुरू की जांच

मेडिकल कॉलेज के कोरोना वार्ड में शुक्रवार को भर्ती राजनगर निवासी 52 साल के मरीज ने शनिवार की सुबह अंतिम सांस ली। मेरठ में पिछले तीन दिनों में कोरोना संक्रमित की दूसरी मौत है। मरीज वेंटीलेटर पर था। अंतिम संस्कार करने के साथ ही मृतक के परिजनों के सभी चार लोगों को क्वारंटाइन कर दिया गया। मृतक को सांस का पुराना रोगी बताया गया है। कोरोना संक्रमित अपने अकाउंटेंट का संतोष हास्पिटल प्रबंधन गुपचुप इलाज करता रहा। इसकी जानकारी जिला प्रशासन अथवा स्वास्थ्य विभाग को नहीं दी गई। इस बीच संक्रमण न जाने कितने लोगों के बीच फैल गया होगा।

यह भी पढ़ेंः Meerut: आइसोलेशन वार्ड में भर्ती संदिग्ध की मौत के बाद रिपोर्ट आयी पाॅजिटिव, अब तक जनपद में कोरोना से तीन की मृत्यु

इस लापरवाही को देखते हुए डीएम अनिल ढींगरा ने अस्पताल का लाइसेंस निलंबित करके उसकी सेवाओं पर रोक लगा दी है। साथ ही सीएमओ को अस्पताल प्रबंधक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के आदेश दिए हैं। अस्पताल के चिकित्सकों और स्टॉफ के साथ-साथ वहां भर्ती मरीजों को भी अस्पताल में ही क्वारंटाइन कर दिया गया। इन सभी की रात में कोरोना जांच कराने का आदेश भी दिया गया है। जिले में हॉटस्पाट की संख्या भी अब 19 से बढ़कर 20 हो गई है।

यह भी पढ़ेंः Lockdown में कोरोना हॉटस्पॉट का जायजा लेने पहुंचे अफसर, बेवजह घर से निकले लोगों के खिलाफ की ये कार्रवाई

संक्रमित मरीज की मौत के बाद विभाग ने उसकी दो बेटियों समेत चार सदस्यों और एक दूध वाले को मेडिकल में भर्ती कर लिया है। एक बेटी सहारनपुर मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस, जबकि दूसरी प्रयागराज से एमटेक कर रही है। मेडिकल कालेज के प्राचार्य डा. आरसी गुप्ता ने बताया कि दो दिन पहले लखीपुरा का एक व्यक्ति कोरोना पाजिटिव मिला। वह जमातियों के संपर्क में रहा था। अब इस कड़ी में तीन मामले और जुड़ गए। मरीजों को मेडिकल कालेज में भर्ती करा दिया गया है। पिछले 24 घंटे में 153 सैंपलों की जांच में सर्वाधिक तीन मरीज लखीपुरा से मिले हैं।

sanjay sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned