रेमडेसिविर की किल्लत, इंजेक्शन के लिए सूरत में BJP ऑफिस के बाहर लगी लंबी कतार

Coronavirus संकट के बीच रेमडेसिविर की कमी ने बढ़ाई चिंता, सूरत में बीजेपी दफ्तर के बाहर लगी लोगों की लंबी कतार

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस ( Coronavirus in India ) के बढ़ते मामलों के बीच एक दवा की चर्चा भी इन दिनों सुर्खियों में है। ये दवा है रेमडेसिविर ( Remedesivir ) । दरअसल इस दवा का इस्तेमाल कोरोना के इलाज के दौरान किया जा रहा है। यही वजह है कि इस दवा की किल्लत कई राज्यों में शुरू हो गई है।

इस बीच गुजरात से बड़ी खबर सामने आई है। यहां सूरत शहर में रेमडेसिविर दवा की किल्लत के चलते लोगों ने भारतीय जनता पार्टी के दफ्तर के बाहर लंबी कतार लगा ली है। आइए जानते हैं क्या है वजह

यह भी पढ़ेँः हरिद्वार महाकुंभ में ताक पर रखे Corona के नियम, जानिए कितने पॉजिटिव केस आए सामने

इस वजह से लगी लंबी लाइन
कोरोना के इलाज में इस्तेमाल की जाने वाली दवा रेमडेसिविर की कमी के बीच गुजरात स्थित सूरत में बीजेपी के कार्यालय पर एंटीवायरल ड्रग रेमडेसिविर ( Remdesivir injections) को फ्री बांटा जा रहा है।

इस दवा को लेने के लिए बीजेपी के सूरत दफ्तर पर 100 मीटर से ज्यादा लंबी लाइन लगी है। अपने परिजनों के लिए लोग रेमडेसिविर का डोज लेने के लिए यहां पहुंचे हुए हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सोमवार सुबह 10.40 बजे, रेमडेसिविर इंजेक्शन से भरी एक निजी कार बीजेपी के सूरत दफ्तर में आई। कार में जाइडस हेल्थकेयर की ओर से निर्मित इंजेक्शन था। बीजेपी वर्कर्स ने बक्से इकट्ठे किए और फिर सुबह 11 बजे, पूर्व नगरसेवक मनु पटेल के साथ कमल के प्रतीक के साथ नारंगी-पेपर टोकन बांटे।

टोकन में बीजेपी आईटी विभाग के स्थानीय प्रमुख विजय राडिया के दस्तखत भी थे। 50-50 लोगों का एक-एक राउंड करके दवाइयां दी जा रही थीं। लोगों को जैसे ही इसके बारे में जानकारी मिली बड़ी संख्या में लोग पहुंचने लगे और लंबी कतार लग गई।

किडनी, लिवर को नुकसान पहुंचाती है रेमडेसिविर
गुजरात सरकार ने रेमडेसिविर को लेकर हाईकोर्ट में बताया है कि इसको लेकर बहुत तेजी से ये खबर फैल रही है कि इसे कोरोना के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है। जबकि ये एक इमरजेंसी दवा है, जिसका इस्तेमाल घरों में नहीं होना चाहिए।

यह भी पढ़ेँः Chaitra Navratri 2021: कोरोना संकट के बीच मंदिरों को लेकर क्या है गाइडलाइन, जानिए राज्यों की तैयारी

राज्य सरकार ने बताया कि इस दवा में साइक्लोडेक्ट्रीन है जो किडनी और लिवर को खराब कर सकती है। ऐसे में ये इमरजेंसी में ही इस्तेमाल की जानी चाहिए।

आपको बता दें कि महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, दिल्ली, झारखंड समेत कई राज्यों में रेमडेसिविर दवा की कमी सामने आई है। वहीं राज्य सरकारों को कहने पर केंद्र सरकार ने इसके निर्यात पर भी रोक लगा दी है।

यह भी पढ़ेंः हरियाणाः कोरोना पर काबू पाने के लिए सरकार ने तत्काल प्रभाव से लागू किया नाइट कर्फ्यू

यह भी पढ़ेँः दिल्ली में भी Lockdown के संकेत, सीएम केजरीवाल ने बुलाई अहम बैठक

धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned