खुलासा: खांसी और छींक से 8 मीटर तक संक्रमित कर सकता है कोरोना वायरस, मात देने का बस यह तरीका

  • चीन के वुहान से निकले कोरोना वायरस ने भारत समेत पूरी दुनिया में मचाई हुई तबाही
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना से बचाव को सामाजिक दूरी बनाए रखने की अपील की

नई दिल्ली। चीन के वुहान से निकले कोरोना वायरस ( Coronavirus in india ) ने भारत समेत पूरी दुनिया में तबाही मचाई हुई है। यही वजह है कि दुनिया के तमाम देश से इस समय न केवल इस जानलेवा बीमारी ( COVID-19 ) से जूझ रहे हैं, बल्कि इसकी दवाई बनाने के प्रयास में जुटे हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ( WHO ) ने कोरोना ( Coronavirus ) से बचाव के लिए लोगों से सामाजिक दूरी बनाए रखने की अपील की है।

वहीं, अब एक नए रिसर्च में दावा किया गया है कि कोरोना ( Coronavirus Infection ) को मात देने के लिए WHO द्वारा दिए गए दिशा निर्देश काफी नहीं हैं।

क्योंकि खांसी या छींकने से कोरोना वायरस 1-2 मीटर नहीं बल्कि 8 मीटर दूर तक जा सकता है।

कोविड—19: प्रधानमंत्री कल सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियोंं से करेंगे बात, कोरोना की तैयारियों का लेंगे जायजा

d1.png

भारत समेत पूरी दुनिया इस वक्त कोरोना वायरस महामारी ने निपटने की चुनौती से जूझ रही हैं। इसके लिए कई देशों ने लॉकडाउन जैसे सख्त कदम उठाए हैं, जिसका उद्देश्य सामाजिक दूरी को सुनिश्चित करना है ताकि वायरस के फैलाव को रोका जाए।

हालांकि, अब एक नए रिसर्च में दावा किया गया है कि कोरोना से निपटने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सामाजिक दूरी से जुड़े जो दिशानिर्देश दिए हैं, वे नाकाफी हैं।

खांसी या छींकने से यह वायरस 1-2 मीटर नहीं बल्कि 8 मीटर दूर तक जा सकता है।

कोरोना वायरस: तबलीगी जमात में भाग लेने वाले 300 संदिग्धों की केरल में पहचान

a1_2.png

दरअसल, हाल ही में 'जर्नल ऑफ द अमरीकन मेडिकल असोसिएशन' में एक रिपोर्ट प्रकाशित हुई है। इस रिपोर्ट में वैज्ञानिकों ने दावा किया है क? कोरोना वायरस ?? को कंट्रोल करने के लिए ( WHO ) और 'अमरीका रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र' ( CDC ) के सामाजिक दूरी वाले उपाए काफी नहीं हैं।

क्योंकि खांसी या छींकने पर कोरोना वायरस एक या दो नहीं, बल्कि 8 मीटर दूर तक जा सकता है। एमआईटी की एसोसिएट प्रोफेसर लीडिया बूरूइबा के अनुसार खांसते या छींकते समय मुंह या नाक से निकलने वाली सुक्ष्म बूंदें 7-8 मीटर तक जा सकती हैं।

ऐसे में सामाजिक दूरी में बताई गई एक से दो मीटर की दूरी ही पर्याप्त नहीं है।

कोरोना से लड़ाई में प्रधानमंत्री मोदी को मिला मां हीराबेन का साथ, PM केयर्स फंड में दान किए 25 हजार रुपए

y_3.jpg

रिसर्च में यह भी दावा किया गया है कि कोरोना संक्रमण के फैलाव को लेकर अभी तक जो अनुमान लगाए गए हैं, जो वास्तव में वास्तविका उससे भी कहीं ज्यादा भयावह है।

इसलिए इस जानलेवा बीमारी से बचने के लिए अपने घरों में रहना एक प्रभावी उपाए है।

Coronavirus: निजामुद्दीन मरकज मामले में मौलाना के खिलाफ FIR दर्ज, क्राइम ब्रांच ने की जांच शुरू

Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned