सावधान! डेल्टा वेरिएंट में दिख रहे हैं अलग-अलग लक्षण, मामूली सर्दी-जुकाम भी खतरनाक

इन दिनों डेल्टा वेरिएंट को लेकर पूरी दुनिया में हड़कंप मचा हुआ है। डेल्टा वेरिएंट के लक्षण अलग अलग नजर आ रहे है। मामूली सर्दी- जुकाम भी खतरनाक साबित हो सकती है।

नई दिल्ली। महामारी कोरोना वायरस की दूसरी लहर का कहर कम हो गया है। लेकिन कोरोना अभी खत्म नहीं हुआ है। इन दिनों डेल्टा वेरिएंट को लेकर पूरी दुनिया में हड़कंप मचा हुआ है। कोरोना का यह नया वेरिएंट बहुत तेजी से दुनिया में फैल रहा है। एक रिपोर्ट के अनुसार, यह नया वायरस अब तक 100 देशों में फैल चुका है। डेल्टा वेरिएंट के लक्षण अलग अलग नजर आ रहे है। मामूली सर्दी- जुकाम भी खतरनाक साबित हो सकती है। क्योंकि जैसे जैसे कोरोना वायरस विकसित हो रहा है वैसे वैसे यह घातक हो रहा है।

वायरस विकसित होने से सामान्य लक्षण भी बदल गए
एक रिपोर्ट के अनुसार, रिसर्च से पता चला है कि यदि किसी को मामूली सर्दी- जुखाम है और नाक से हल्का पानी आना ये डेल्टा वेरिएंट के लक्षण हो सकते है। यह रिसर्च ऑस्ट्रेलिया की ग्रिफिथ यूनिवर्सिटी ने किया है। विषाणु विज्ञान और संक्रामक रोग में अनुसंधान करने वाली लारा हेरेरो का कहना है कि जैसे-जैसे कोरोना वायरस विकसित हुआ है, वैसे वैसे इसके सामान्य लक्षण भी बदलाव आया है।

यह भी पढ़ें :— वैक्सीन ना लेने वाले लोग बनेंगे कोरोना के नए-नए वेरिएंट्स की 'फैक्ट्री'! स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने दी चेतावनी


बुखार, खांसी, सिर और गले में दर्द आम लक्षण
ब्रिटेन से डेटा लेकर यह रिसर्च किया गया है। इसमें सबसे ज्यादा मामले डेल्टा वेरिएंट के शामिल किए गए है। लारा हेरोरे का कहना है कि बुखार और खांसी हमेशा से कोविड के सबसे आम लक्षण रहे हैं। इसके अलावा सिरदर्द और गले में दर्द भी कुछ लोगों में नजर आया। नाक बहने की शिकायत भी कम लोगों ने ही की है। इस दौरान सूंघने की शक्ति चली जाना जो मूल रूप में बेहद आम था। रिपोर्ट के अनुसार, अब यह लक्षण नौंवे स्थान पर है।

यह भी पढ़ें :— आधार कार्ड से जुड़ा नया अपडेट, सभी के लिए होगा लागू, आम लोगों के लिए आसान हुआ ये काम

दो अहम फैक्टर से बीमार करता है वायरस
डेल्टा वेरिएंट के लक्षण बदल पर बात करते हुए लारा हेरेरो ने कहा कि इंसान एक-दूसरे से अलग है। हमारे अंतरों की तरह हमारे प्रतिरक्षा तंत्र भी अलग हैं। इसलिए एक ही वायरस अलग-अलग तरीके से अलग-अलग संकेत और लक्षण पैदा कर सकता है। उन्होंने आगे बताया कि वायरस किस तरह से बीमार करता है यह दो अहम फैक्टर पर निर्भर करता है। पहला यह कि वायरल फैक्टर में वायरस की खुद की प्रतिकृत बनाने की गति और दूसरा— संचरण के माध्यम और अन्य चीजें शामिल हैं।

Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned