Earthquake: भूकंप के झटकों से हिला हिमाचल का चंबा क्षेत्र, घरों से बाहर निकल कर भागे लोग

  • हिमाचल के चंबा (Chamba) में भूकंप (Earthquake) के झटके
  • भूकंप की पुष्टि मौसम विभाग के शिमला (Shimla) केंद्र ने की है

नई दिल्ली। हिमाचल प्रदेश ( Earthquake in Himachal ) के चंबा (Chamba) जिले में भूकंप (Earthquake) के झटके महसूस किए गए हैं। इससे पहले यहां सोमवार को भी भूकंप से पूरा इलाका धर्राया था। जानकारी के अनुसार आज यानी मंगलवार को 12.34 बजे भूकंप (Earthquake) के झटके लगे। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 3.5 मापी गई। हालांकि अभी तक किसी तरह के नुकसान की कोई जानकारी सामने नहीं आई है। भूकंप की पुष्टि मौसम विभाग ( IMD ) के शिमला (Shimla) केंद्र ने की है।


यह खबर भी पढ़ें— West Bengal: चुनाव से पहले ममता को करारा झटका, अब इन नेताओं ने भी छोड़ा साथ

जम्मू-कश्मीर में भूकंप के हल्के झटके

गौरतलब है कि इससे पहले जम्मू-कश्मीर में रविवार को भूकंप ( Earthquake in Jammu-Kashmir ) के हल्के झटके महसूस किए गए थे। आपदा प्रबंधन विभाग ( Disaster Management Department ) के अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार सुबह 4.40 बजे आई इस भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 2.9 मापी गई। इसका केंद्र उत्तर में 33.0 डिग्री अक्षांश और पूर्व में 75.86 डिग्री देशांतर पर रहा। अधिकारियों ने बताया कि भूकंप का केंद्र जम्मू-कश्मीर के डोडा जिले में भालेस्सा के पास स्थित है।


यह खबर भी पढ़ें—
Coronavirus को लेकर स्वास्थ्य मंत्री का बयान- देश में खत्म होने को है महामारी

कश्मीर अत्यधिक भूकंप प्रवण क्षेत्र में स्थित

भूकंपीय दृष्टि से अगर कहें तो कश्मीर अत्यधिक भूकंप प्रवण क्षेत्र में स्थित है, जहां बीते दिनों में भी भूकंप के झटके महसूस किए जा चुके हैं। 8 अक्टूबर, 2005 को यहां आए भूकंप से नियंत्रण रेखा (एलओसी) के दोनों ही तरफ रहने वाले 80,000 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी। रिक्टर स्केल पर इस भूकंप की तीव्रता 7.6 मापी गई थी।


यह खबर भी पढ़ें—
IMD की चेतावनी: 11 मार्च से कई राज्य में पड़ेगी तेज बारिश, आपके इलाके में कैसा रहेगा मौसम का हाल?

चंबा में सबसें ज्यादा भूकंप

हिमाचल का चंबा क्षेत्र में भूकंप के सबसे ज्यादा झटके महसूस किए जाते हैं। जबकि किन्नौर, शिमला, बिलासपुर और मंडी की बारी उसके बाद आती है। एक रिपोर्ट के मुताबिक 1975 में किन्नौर में एक बड़े भूकंप से दहला था। जबकि कांगड़ा में 1905 में आए भीषण भूकंप की वजह से 20 हजार लोगों की मौत हो गई थी।

 

Show More
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned