Coronavirus in Delhi: अमित शाह की सीधी बात, नहीं बिगड़ने देंगे राजधानी के हालात

  • एक विशेष साक्षात्कार में गृह मंत्री अमित शाह ( home minister amit shah ) ने दी जानकारी।
  • दिल्ली में कोरोना वायरस ( Coronavirus In Delhi ) की तैयारियों और उपायों को लेकर विस्तार से की चर्चा।
  • कहा- डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ( Deputy CM Manish Sisodia ) के अनुमान होंगे गलत, नहीं पहुंचेंगे 5.50 लाख मरीज।

 

नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ( home minister amit shah ) ने कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई को राजधानी दिल्ली ( Coronavirus In Delhi ) की व्यवस्थाओं और अपनाए जा रहे उपायों पर कई जानकारियां दीं। समाचार एजेंसी एएनआई को दिए विशेष साक्षात्कार में बोलते हुए अमित शाह ने कहा कि जून के दूसरे सप्ताह में दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ( Deputy CM Manish Sisodia ) ने बयान दिया कि 31 जुलाई तक दिल्ली में 5.5 लाख कोरोना के मामले होंगे, इससे दिल्ली की जनता में बहुत भय आया, लेकिन ऐसा नहीं होने देंगे।

और जब आई वो बात... तो पीएम मोदी ने किया इशारों-इशारों में बाबा रामदेव पर वार

उन्होंने बताया कि दिल्ली सरकार ने कहा कि दिल्ली के बाहर के लोगों का दिल्ली में इलाज नहीं होगा, इस निर्णय को केंद्र सरकार ने बदला। मैंने 14 तारीख को कोऑर्डिनेशन की बैठक की। दिल्ली सरकार, एमसीडी और भारत सरकार के बीच समन्वय के लिए ये बैठक जरूरी थी।

उन्होंने आगे बताया, "भारत सरकार इसमें बहुत मदद कर सकती है। कई विशेषज्ञों की मदद ली जा सकती है। इसलिए कोरोना के खिलाफ व्यापक अभियान के लिए हमने ये बैठक की। आज मैं कह सकता हूं कि दिल्ली के डिप्टी सीएम का जो 5.5 लाख कोरोना केस वाला बयान था, वो स्थिति अब दिल्ली में नहीं आएगी। दिल्ली में 30 जून तक कंटेनमेंट जोन के हर घर का सर्वेक्षण हो जाएगा। हमने टेस्टिंग ( coronavirus testing kits ) को काफी बढ़ाया है। बाद में दिल्ली में घर-घर सर्वेक्षण किया जाएगा।"

गृह मंत्री ने आगे कहा, "हमने दिल्ली सरकार को तत्काल 500 ऑक्सीजन सिलेंडर, 440 वेंटिलेटर दिए हैं। एंबुलेंस के लिए दिल्ली सरकार को कहा है कि प्राइवेट कंपनियों के साथ मिलकर आप इनकी जरूरत पूरी कर सकते हैं। आने वाले समय में और मदद भी दिल्ली सरकार को दी जाएगी। दिल्ली में अस्पतालों की स्थिति ठीक करने के लिए एम्स से टेलीफोनिक गाइडेंस की व्यवस्था की। डेडिकेटेड नंबर पर कॉल करने पर एम्स के डॉक्टर गाइंडेंस देते हैं। हमने 3 टीमों का गठन किया, जिसमें दिल्ली सरकार के और एम्स के डॉक्टर हैं और आईसीएमआर के विशेषज्ञ हैं। उन्होंने सभी जगह की कमियों को ठीक करने का हर प्रयास किया है।"

देशभर में फिर से लागू होगा लॉकडाउन? अभी-अभी रेलवे ने 12 अगस्त तक सभी यात्री ट्रेनें कैंसल कीं

एनसीआर को लेकर शाह ने बताया, "कोरोना को लेकर में मैंने NCR की बैठक की है। अरविंद केजरीवाल ( DELHI CM ARVIND KEJRIWAL ) को लूप में रखकर उत्तर प्रदेश और हरियाणा के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की जाएगी और एनसीआर के लिए समन्वित रणनीति हम बनाएंगे। टेस्टिंग बढ़ाना और अन्य व्यवस्थाओं को बढ़ाने का काम एनसीआर में भी किया जाएगा। मैं कुछ भी छिपाना नहीं चाहता हूं। मैंने तीन सबसे वरिष्ठ अधिकारियों से बात की है। दिल्ली में अभी कम्यूनिटी संक्रमण वाली स्थिति नहीं आई है। अब जब दिल्ली में टेस्ट बढ़ रहे हैं तो औसतन हम कह सकते हैं कि दिल्ली में ये स्थिति नहीं है।"

अमित शाह ने कहा, "कल तक के आंकड़ों के अनुसार प्रति 10 लाख आबादी में भारत में 357 लोग कोरोना संक्रमित हैं और विश्व में 1250 लोग संक्रमित हैं। अमरीका में 7569, ब्रिटेन में 4537, ब्राजील में 5802 लोग, प्रति 10 लाख की आबादी में संक्रमित हैं। कोरोना में रिकवरी रेट जो 25 मार्च को 7.1 प्रतिशत था, वो आज के अनुसार 57 प्रतिशत है। ये बहुत अच्छी स्थिति है। विकसित देशों की तुलना में भारत ने इस लड़ाई को बहुत अच्छे से लड़ा है।"

कोरोना से तैयारी के लिए दिल्ली की मौजूदा को बताते हुए उन्होंने कहा, "14 जून को दिल्ली में कुल 9,937 बेड्स उपलब्ध थे। आज दिल्ली में लगभग 30 हजार बेड्स की व्यवस्था हो चुकी है। आइसोलेशन ( coronavirus isolation guidelines ) बेड्स के रेट जो पहले 24 हजार से 25 हजार थे। आज 8 हजार से 10 हजार में बेड उपलब्ध हो रहे हैं। बिना वेंटिलेटर के ICU के रेट पहले 34 हजार से 35 हजार थे, वो अब 13 हजार से 15 हजार में उपलब्ध हैं। इसके अतिरिक्त वेंटिलेटर सहित ICU के रेट जो पहले 44 हजार से 45 हजार रुपये थे, वो हमने घटाकर 15 हजार से 18 हजार रुपये किए हैं।"

Unlock 2.0 की घोषणा 30 जून को! इन जरूरी सेवाओं पर होगा मुख्य फोकस

महामारी के खिलाफ लड़ाई को लेकर शाह ने बताया, "हमने एनजीओ को भी कोरोना से लड़ाई में जोड़ा है। एनजीओ, एनसीसी, एसएसएस और स्काउट से हमें करीब 6000 वॉलेंटियर मिले हैं। हमने तय किया है कि दिल्ली के जिला मजिस्ट्रेट के तहत एमसीडी, भारत सरकार और दिल्ली सरकार काम करेगी।"

उन्होंने बताया, "30 जून तक 30,000 बेड बन जाएंगे। रेलवे कोच में 8,000 बेड बन चुके हैं। डीआरडीओ एक विशेष अस्पताल बना रही है। जिसमें 250 आईसीयू बेड वेंटिलेटर के साथ होंगे। राधा स्वामी सत्संग न्यास के कैंपस में 10,000 बेड का अस्पताल बनाया है, इसे आईटीबीपी संचालित करेगी। किसी भी कोरोना मरीज से, भारत सरकार, दिल्ली सरकार, एमसीडी के अस्पताल जो कोविड के लिए तय किए हैं, उसमें इलाज के लिए किसी तरह का प्रमाण पत्र नहीं मांगा जाएगा।"

home minister amit shah
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned