कोरोना से राहत की उम्मीद: हारमोन नियंत्रित करने वाली दवा वायरस को शरीर में बढऩे से रोकने में होगी मददगार

रिसर्च के दौरान विशेषज्ञों को कुछ और महत्वपूर्ण जानकारी मिली है। इसमें एक यह है कि कोरोना शरीर में किसकी मदद से अपनी संख्या बढ़ा रहा है। इन मददगारों को कौन है, जो रोक सकता है। इसके अलावा विशेषज्ञों को एक और महत्वपूर्ण तथ्य हाथ लगा है। विशेषज्ञों ने दावा किया है कि उन्होंने इस बात का पता भी लगा लिया है कि कोरोना महिलाओं की तुलना में पुरुषों में गंभीर क्यों होता है।

 

नई दिल्ली।

देशभर में कोरना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण का कहर अब भी जारी है। यह दूसरी लहर है, जिसने इस बार लाखों जिंदगियां देखते ही देखते खत्म कर दी। बीते करीब डेढ़ साल से दुनियाभर में तमाम चिकित्सीय विशेषज्ञ विभिन्न रिसर्च के जरिए कोरोना महामारी के सफल इलाज की खोज में जुटे हैं। वैक्सीन के जरिए इसमें काफी हद तक सफलता मिल चुकी है और अब दवाओं की मदद से कोरोना का खात्मा कैसे किया जाए, इस पर रिसर्च चल रही है।

हालांकि, विशेषज्ञों को इसमें कितनी सफलता मिलती है, यह तो आने वाला वक्त बताएगा, मगर एक बात तय है कि वैक्सीन की मदद से काफी हद तक लोगों की जिंदगियां बचाई जा सकी हैं। दवा को लेकर अभी स्पष्ट रूप से कुछ नहीं कहा जा रहा, मगर हाल ही में एक रिसर्च में सामने आया कि कोरोना वायरस (सार्स कोव-2) से संक्रमित मरीज को हारमोन नियंत्रित करने वाली एक खास दवा दी जाए, तो यह वायरस के संक्रमण को शरीर में बढऩे से रोक सकता है।

यही नहीं, इस रिसर्च के दौरान विशेषज्ञों को कुछ और महत्वपूर्ण जानकारी मिली है। इसमें एक यह है कि कोरोना शरीर में किसकी मदद से अपनी संख्या बढ़ा रहा है। इन मददगारों को कौन है, जो रोक सकता है। इसके अलावा विशेषज्ञों को एक और महत्वपूर्ण तथ्य हाथ लगा है। विशेषज्ञों ने दावा किया है कि उन्होंने इस बात का पता भी लगा लिया है कि कोरोना महिलाओं की तुलना में पुरुषों में गंभीर क्यों होता है। तो आइए जानते हैं वो कौन से दो रिसेप्टर हैं जो मानव शरीर में कोरोना वायरस को बढ़ाने में मददगार होते हैं और वो कौन सी हारमोनल दवा है, जो इन दोनों रिसेप्टर को अच्छी तरह से सबक सिखाते हुए उन्हें काबू में रखती है।

यह भी पढ़ें:- कोरोना ने फिर बदला स्वरूप, आंध्र और तेलंगाना से आ रहे CRPF जवान अलग से किए जा रहे क्वारंटीन!

वे दो रिसेप्टर जो कोरोना की मानव शरीर में बढऩे में मदद करते हैं
यह रिसर्च यूनिवर्सिटी ऑफ पेनसिलवेनिया के अबरामसन कैंसर सेंटर के विशेषज्ञों ने किया है। विशेषज्ञों का दावा है कि यह प्री-क्लीनिकल रिसर्च साबित करता है कि कैसे एंटी एंड्रोजन दवा उन विशेष रिसेप्टरों को खत्म कर देती है, जिनकी मानव कोशिकाओं पर वायरल हमला करने में आवश्यकता होती है। विशेषज्ञों के मुताबिक, हारमोन की दवाएं एंड्रोजन के स्तर को कम कर देती हैं, जिससे कोरोना वायरस के स्पाइक प्रोटीन को कम किया जा सकता है। बता दें कि कोरोना वायरस स्पाइक प्रोटीन का उपयोग करके ही शरीर में कोशिकाओं को संक्रमित करता है। विशेषज्ञों का दावा है कि ये दवाएं इस तरह से कोरोना को शरीर में बढऩे से रोकने में कारगर साबित हो सकती हैं। विशेषज्ञों ने यह भी बताया कि कैसे एसीई-2 और टीएमपीआरएसएस-2 नामक दो रिसेप्टर एंड्रोजन हार्मोन से नियंत्रित किए जा सकते हैं।

यह भी पता चल गया कि इन रिसेप्टर की लगाम कौन खींच सकता हैं
हालांकि, विशेषज्ञों का मानना है कि एसीई-2 और टीएमपीआरएसएस-2 रिसेप्टर का उपयोग करके ही सार्स कोव-2 यानी कोरोना कोशिकाओं में प्रवेश कर पाता है। चिकित्सीय तौर पर प्रामाणिक इनहिबिटर कैमोस्टेट और एंटी एंड्रोजन थेरेपी से इन रिसेप्टर को रोककर वायरस का प्रवेश और शुरुआत में ही उसकी संख्या बढऩे यानी प्रतिकृतियां बनने से रोका जा सकता है। इस रिसर्च से कोरोना वायरस के आणविक स्तर की जानकारी तो मिलती ही है, कोरोना संक्रमण के इलाज के लिए एंटी एंड्रोजन थेरेपी के उपयोग को भी मजबूती मिलती है। यह थेरेपी अभी क्लीनिकल ट्रायल के लेवल पर जांची और परखी जा रही है और अच्छी खबर यह है कि इसने सकारात्मक परिणाम दिए हैं।

यह भी पढ़ें:- रहिए सावधान- प्लाज्मा के नाम पर ऑनलाइन हो रही ठगी, मैसेज एडिट कर हो रहा यह गंदा खेल

पुरुषों में कोरोना की गंभीरता का खतरा ज्यादा क्यों है
गौरतलब है कि एंड्रोजन हारमोन मनुष्यों में प्रजनन के लिए जिम्मेदार होते हैं। आमतौर पर इसे पुरूष हारमोन माना जाता है, लेकिन यह पुरूष और महिला दोनों ही स्तनपायी-रीढ़धारी जीवों में पाया जाता है। यह प्रमुख रूप से जीवों में नर गुणों को कायम रखने में मददगार होता है। टेस्टोस्टेरोन एक प्रमुख एंड्रोजन माना जाता है। रिसर्च में यह भी सामने आया है कि कोरोना बीमारी महिलाओं के मुकाबले पुरुषों में अधिक गंभीर क्यों होती है। विशेषज्ञों का दावा है कि इसकी वजह एंड्रोजन हारमोन हैं। जिन पुरुषों में बहुत कम एंड्रोजन स्तर होते हैं, उनमें इस बीमारी का खतरा अधिक रहता है।

यह भी पढ़ें:- स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने किया ट्वीट, बताया- ब्लैंक फंगस से कैसे निपटें, क्या करें और क्या नहीं

आगे और तलाश जारी है, जल्द ही अच्छे नतीजे मिलने की उम्मीद
विशेषज्ञों की मानें तो पहले हुए रिसर्च के माध्यम से इस बात के पहले प्रमाण दिए जा चुके हैं कि एंड्रोजन को नियंत्रित करने वाला टीएमपीआरएसएस-2 रिसेप्टर के साथ एसीई-2 भी इस हारमोन को सीधे नियंत्रित होता है। विशेषज्ञों के अनुसार, यह पहले बताया जा चुका है कि कोशिकाओं में प्रवेश करने के लिए सार्स कोव-2 स्पाइक इन दोनों रिसेप्टर पर निर्भर होती है और मौजूदा दवाओं की मदद से इन्हें रोका जा सकता है। विशेषज्ञ अब इस मामले में और आगे बढक़र विस्तृत रिपोर्ट और तथ्य पाना चाहते हैं, जिससे इसमें असफलता की कोई गुंजाइश नहीं रहे।

COVID-19 virus
Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned