India-China Border: भारतीय सेना ने कहा- चीनी सेना की हिरासत में नहीं हमारा कोई जवान

  • चीनी सेना ( Chinese army ) की हिरासत में भारतीय जवानों की खबर को सेना ने किया खारिज
  • भारतीय सेना ( Indian Army ) ने कहा चीनी सेना की गिरफ्त में नहीं एक भी भारतीय जवान

नई दिल्ली। भारतीय सेना ( Indian Army ) ने रविवार को उन खबरों को सिरे से खारिज कर दिया, जिसमें कहा गया था कि लद्दाख ( Ladakh ) में चीनी सेना ( Chinese army ) ने भारतीय सेना व ITBP के जवानों के एक संयुक्त गश्ती दल ( Patrolling Party ) को हिरासत में ले लिया है।

यह दावा किया गया था कि एक भारतीय गश्ती दल, जिसमें सेना और भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बल ( ITBP) के जवान थे, उन्हें लद्दाख में झड़पों के बाद पिछले हफ्ते चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ( PLA ) ने हिरासत में ले लिया है।

खुशखबरी! H-1B बिल US कांग्रेस में पेश, अमरीका में रह रहे दो लाख भारतीय छात्रों को फायदा

 

22222.png

खबरों में दावा किया गया था कि भारतीय टीम को हिरासत में लिया गया और चीनियों ने उनके हथियारों को भी छीन लिया।

दावा किया गया कि स्थानीय स्तर पर दोनों पक्षों के बीच बातचीत के बाद ही उन्हें छोड़ा गया। भारतीय सेना ने स्पष्ट किया है कि हिरासत में रखने की रिपोर्ट गलत है।

भारतीय सेना के प्रवक्ता अमन आनंद ने इसकी पुष्टि की कि यह रिपोर्ट गलत है।

अमन आनंद ने कहा कि हम स्पष्ट रूप से इससे इनकार करते हैं, जब मीडिया में ऐसी खबरें आती हैं तो इससे केवल राष्ट्रीय हितों को चोट पहुंचती है।

एविएशन मिनिस्टर हरदीप पुरी का बड़ा बयान- 'Arogya Setu App' में ग्रीन स्टेटस दिखा तो क्वारंटीन करने की जरूरत नहीं

 

222.png

चीनी बलों पर आरोप लगाया गया था कि वे भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ कर रहे थे और पैंगोंग झील में मोटर नौकाओं के साथ आक्रामक गश्त भी कर रहे थे।

वास्तविक नियंत्रण रेखा ( LAC ) पर तनाव के कारण दोनों सेनाओं ने अग्रिम स्थानों पर अपनी सेनाओं और उपकरणों की तैनाती बढ़ा दी है।

दोनों अग्रिम स्थानों पर हाई अलर्ट है, जहां तनाव और झड़पें हुईं हैं।

भारतीय सेना ने स्पष्ट किया है कि वह भारतीय क्षेत्र में किसी भी प्रकार के चीनी घुसपैठ की अनुमति नहीं देगी और उन क्षेत्रों में गश्त करेगी, जहां झड़पें हुई हैं।

रेलवे का ऐलान- अगले 10 दिनों में चलेंगी 2600 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें, 36 लाख प्रवासियों को पहुंचाएंगी घर

 

 

22.png

कोरोना मामलों में अचानक बढ़ोतरी सामुदायिक संक्रमण का संकेत, क्या देर-सबेर सभी होंगे संक्रमित?

भारतीय सेना प्रमुख, जनरल मनोज मुकुंद नरवने ने शुक्रवार को लद्दाख में 14 कोर के मुख्यालय, लेह का दौरा किया और चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा पर बलों की तैनाती की समीक्षा की।

 

Show More
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned